कुछ ऐसे हैं दिलीप साहब

नई दिल्ली/इंटरनेट डेस्क Updated Tue, 11 Dec 2012 04:38 PM IST
facts abouts dilip kumar
आज दिलीप कुमार का 90वां जन्मदिन है। हिंदी फिल्मों में पिछले 6 दशक से सक्रिय दिलीप साहब एक नेकदिल संवदेनशील इंसान भी हैं। अपने जन्मदिन के मौके पर खुद से जुड़ी कुछ बातें उन्होंने कुछ इस तरह से पेश कीं,

पेशावर में बचपन की यादें
मेरा बचपन दादी और नानी के घरों में खूब बीता है। मैं शुरुआती दौर से ही खेलकूद में आगे रहा। बचपन की यादें आज भी मेरे जेहन में जिंदा है। फुटबॉल मैच और खासतौर से वह आश्रम कभी नहीं भूल सकता। इस आश्रम में हम सभी बच्चे बैठ कर कई खेल खेलते थे और मेरी नानी मां मुझे कहानियां सुनाया करती थी।

पैसों को अहमियत नहीं दी
मैंने कभी अपनी जिंदगी में पैसों को बहुत अहमियत नहीं दी। चूंकि मैं जिंदगी को जीता था, न कि उसे जोड़ता या घटाता था। मैने हमेशा वही किया जिसे करके मुझे मानसिक शांति मिली है। मुझे खेलने का शौक बचपन से रहा है। अपनी उम्र के बच्चों से लेकर मैने बड़े लोगों के साथ भी मस्ती की है। प्राण साहब, जो हमारे बेहद अजीज हैं। उनके घर पर तो हमेशा अंत्याक्षरी का माहौल हुआ करता था। हम डम शराड खूब खेला करते थे। मैं ऐसी ऐसी फिल्मों का नाम बच्चों को जान बूझ कर देता था कि वह समझ ही नहीं पाते थे।
 
खाने का रहा हूं शौकीन
मैं और प्राण साहब दोनों ही खाने के शौकीन थे। हम दोनों की जोड़ी जब भी जमती तब वह खाने पर ही पूरी होती। हम दोनों उस मौके पर यहां-वहां की बातें किया करते। फिल्मी बातें तो ‌बहुत ही कम होती। इस मौके पर तरह-तरह का खाना बनता, खासक‌र बिरायनी कबाब तो हम दोनों का ही फेवरेट हुआ करता। हम जी भरके इसका लुत्फ उठाते। 

साहित्य से लगाव
मैं सिनेमा और साहित्य को दो अलग चीजें मानता ही नहीं। मेरे लिए सिनेमा साहित्य एक तरह का साहित्य ही है। सहादत हसन मंटो, मुंशी प्रेमचंद्र, बंकिम चटर्जी इन सभी को देख कर पढ़ कर मैंने सिनेमा को समझा। उस दौर के निर्देशकों ने साहित्य को हमेशा अहमियत भी दी। लेकिन बाद के दौर के सिनेमा से साहित्य धीरे-धीरे कर गायब होता गया।

 ठुकरा दिये थे हॉलीवुड फिल्मों के ऑफर
हिंदी फिल्मों से प्यार करने वाले दिलीप कुमार ने हॉलीवुड फिल्मों के कई ऑफर ठुकरा दिए। उन्होंने वर्ष 1962 में बनी हॉलीवुड की प्रसिद्ध फिल्म 'लारेंस ऑफ अरेबिया' में काम करने से इंकार कर दिया था। इस फिल्म में उन्हें जिस किरदार को निभाने के लिए ऑफर दिया जा रहा था, वह बाद में मिस्र के अभिनेता ओमर शरीफ को दिया गया। दिलीप कुमार
के सामने यह ऑफर खुद डेविड लीन लेकर आये थे। 'थीफ ऑफ बगदाद' जैसी विश्व प्रसिद्ध फिल्म बनाने वाले निर्देशक अलेक्जेंडर भी दिलीप को लेकर ताजमहल फिल्म बनाना चाहते थे। दिलीप साहब ने उस फिल्म को लेकर भी बहुत उत्साह नहीं दिखाया।

रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें Android Hindi News App, iOS Hindi News App और Amarujala Hindi News App अपने मोबाइल पे|
Get all entertainment news in Hindi related to bollywood news, Tv news, hollywood news, movie reviews etc. Stay updated with us for all breaking hindi news from entertainment and more news in Hindi.

Spotlight

Most Read

Bollywood

बॉलीवुड के सीनियर सिनेमेटोग्राफर डब्ल्यू बी. राव का निधन

मंगलवार, उस वक्त हिंदी सिनेमा के लिए दुखभरी खबर लेकर आया जब इंडस्ट्री के सीनियर सिनेमेटोग्राफर डब्ल्यू. बी. राव का मंगलवार को निधन हो गया...

17 जनवरी 2018

Related Videos

साल 2018 के पहले स्टेज शो में ही सपना चौधरी ने लगाई 'आग', देखिए

साल 2018 में भी सपना चौधरी का जलवा बरकरार है। आज हम आपको उनकी साल 2018 की पहली स्टेज परफॉर्मेंस दिखाने जा रहे हैं। सपना ने 2018 का पहले स्टेज शो मध्य प्रदेश के मुरैना में किया। यहां उन्होंने अपने कई गानों पर डांस कर लोगों का दिल जीता।

18 जनवरी 2018

आज का मुद्दा
View more polls
  • Downloads

Follow Us

Read the latest and breaking Hindi news on amarujala.com. Get live Hindi news about India and the World from politics, sports, bollywood, business, cities, lifestyle, astrology, spirituality, jobs and much more. Register with amarujala.com to get all the latest Hindi news updates as they happen.

E-Paper