बेहतर अनुभव के लिए एप चुनें।
TRY NOW

उभरती प्रतिभा को लगे पंख, नन्हें कदमों के दृढ विश्वास के आगे मुश्किलें हुईं बौनी

न्यूज डेस्क, अमर उजाला, हापुड़(धौलाना) Published by: पूजा त्रिपाठी Updated Thu, 31 Jan 2019 05:14 PM IST
विज्ञापन
ishan sisodia
ishan sisodia - फोटो : अमर उजाला

पढ़ें अमर उजाला ई-पेपर
कहीं भी, कभी भी।

ख़बर सुनें
यूपी के हापुड़ के धौलाना ब्लाक के गांव मिलक के प्रधान गजेन्द्र सिहं के सपुत्र ईशान सिसोदिया का नेशनल फुटबॉल टीम अंडर 15 में चयन होने पर क्षेत्र में खुशी की लहर है। ईशान के चयन पर पिता को बधाई देनेवालों का तांता लगा है। क्षेत्रीय नागरिकों का कहना है कि धौलाना को राष्ट्रीय स्तर पर चमकाने के लिए कुलांचे भरते ईशान के नन्हें कदमों के दृढ विश्वास के आगे सब मुश्किलें बौनी साबित हो चली है।
विज्ञापन


 जानकारी के मुताबिक 14 वर्षीय ईशान सिसौदिया के कदमों की कलाकारी तीन वर्ष पूर्व इंडियन सुपर लीग 2016 में चयन के दौरान साबित हुई और उसकी उभरती प्रतिभा को पंख लगाने के काफी मुफीद साबित हुई। राष्ट्रीय स्तर पर फुटबाल के मैदान में अपने दृढ विश्वास से साठा चौरासी का होनहार 14 वर्षीय ईशान सिसौदिया के चयन पर क्षेत्र में खुशी की लहर है।


ईशान के चयन पर पिता को बधाई देनेवालों का तांता लगा है। ईशान के पिता के मुताबिक मासूम पैरों पर नाचती फुटबॉल के प्रति लगाव और शौक को उसके जुनून में तब्दील करने में चार साल लगे। मेहनत और भागदौड़ के बाद उनका सपना फलीभूत हुआ है।

ईशान सिसौदिया के पैरों पर नाचती फुटबाल मेें उसका भविष्य खोजने वाले पिता गजेन्द्र अपने आंकलन पर गर्व करते हैं , वह बताते है जब मात्र पांच वर्ष का था तो गांव के खुले घर में फुटबॉल खेलते मैने उसे देखा और सराहा। ब्लॉक के गांव मिलक निवासी गजेन्द्र सिंह एडवोकेट नेशनल फुटबॉल टीम अंडर 15 में चयन होने पर खुद को गौरवांवित महसूस कर रहे हैं।

धौलाना ब्लाक के गांव करीमपुर भाईपुर मिल्क के प्रधान व पेशे से एडवोकेट गजेन्द्र सिहं सिसौदिया ने बताया कि तीन वर्ष पूर्व 11 वर्षीय सपुत्र इशान सिसौदिया का इंडियन सुपर लीग 2016 में चयन होना उसकी उभरती प्रतिभा को पंख लगाने के काफी था।

गाजियाबाद स्थित के . बी .डी पब्लिक स्कूल में नोंवी में पढने वाले होनहार स्टूडेंट् ने 4 वर्ष पूर्व 2014 में सिविल सर्विसेज द्वारा आयोजित एक चैम्पियनशिप मेें फाईनल मैच के दौरान विजयी गोल दागकर फुटबॉल की दुनिया में धमाकेदार शुरुआत कर की थी।

ईशान के पिता ने बताया कि रिलायंस फाउंडेशन द्वारा नीता अंबानी की अगुवाई में 2016 हुई चयन प्रकिया में देश भर के 36 हजार बच्चो ने हिस्सा लिया था।जिसने से देश भर से मात्र 120 बच्चे सलेक्ट हुए । इंडियन सुपर लीग के दौरान ईशान 17 बच्चों को स्कालर शिप के लिए चुने जाने वालों में से एक था।

दिल्ली डायनामोस फुटबॉल क्लब की ओर से खेलने वाले ईशान ने गत वर्ष इम्फाल सिटी फुटबॉल क्लब को पेनल्टी शूटआउट में 4-3 से मात देकर मिलेंनिअल कप फुटबाल टूर्नामनेट पर कब्जा किया था।

वह बताते हैं कि गत वर्ष इंफाल सिटी एफसी की टीम को हराने वाली दिल्ली की टीम का वह सबसे कम उम्र का सदस्य रहा। उस आयोजन को एनआर एल फुटबॉल अकैडमी द्वारा नुमलीगढ में किया गया था। इसी प्रतियोगिता में उसके प्रदर्शन को देख कर उसका चयन दोहा स्थित विश्व की बेहतरीन प्रशिक्षण देने वाली एक्सपायर अकैडमी ने ईशान को सिलेक्ट किया था।

आपकी राय हमारे लिए महत्वपूर्ण है। खबरों को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।

खबर में दी गई जानकारी और सूचना से आप संतुष्ट हैं?
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

Spotlight

विज्ञापन
Election
  • Downloads

Follow Us

X

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
डेली पॉडकास्ट सुनने के लिए सब्सक्राइब करें

क्लिप सुनें

00:00
00:00
X