विज्ञापन

उत्तराखंड की तीन विभूतियों को मिला पद्म पुरस्कार, राष्ट्रपति ने किया सम्मानित

न्यूज डेस्क, अमर उजाला, देहरादून Updated Sun, 17 Mar 2019 10:35 AM IST
बछेंद्री पाल, तम भरतवाण , अनूप शाह
बछेंद्री पाल, तम भरतवाण , अनूप शाह - फोटो : अमर उजाला फाइल फोटो
ख़बर सुनें
उत्तराखंड की तीन हस्तियों समेत देश की 54 विभूतियों को शनिवार को राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने पद्म पुरस्कार प्रदान किए। उत्तराखंड की प्रसिद्ध पर्वतारोही बछेंद्री पाल को पद्मभूषण और जागर सम्राट प्रीतम भरतवाण व प्रतिष्ठित फोटोग्राफर अनूप शाह को पद्मश्री पुरस्कार से नवाजा गया। 
विज्ञापन
विज्ञापन
राष्ट्रपति भवन के दरबार हॉल में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, कैबिनेट मंत्री राजनाथ सिंह, डॉ. हर्षवर्धन, राज्यवर्धन सिंह राठौर, विजय गोयल, वरिष्ठ भाजपा नेता लालकृष्ण आडवाणी समेत कई अन्य हस्तियों की मौजूदगी में पुरस्कार प्रदान किए गए।

माउंट एवरेस्ट समेत कई चोटियों को फतह कर चुकीं बछेंद्री पाल मूलत: उत्तरकाशी जिले की निवासी हैं। वहीं, पारंपरिक जागरों को दुनियाभर में पहचान दिलाने वाले जागर सम्राट प्रीतम भरतवाण मूलत: रायपुर के पास सिल्ला गांव के रहने वाले हैं। नैनीताल निवासी प्रख्यात छायाकार अनूप शाह ने अपनी फोटो के जरिये वन्य जीवन की खूबसूूरती को पूरी दुनिया में पहुंचाने का काम किया है।

Recommended

क्या आप अपने करियर को लेकर उलझन में हैं ? समाधान पाएं हमारे अनुभवी ज्योतिषाचार्य से
ज्योतिष समाधान

क्या आप अपने करियर को लेकर उलझन में हैं ? समाधान पाएं हमारे अनुभवी ज्योतिषाचार्य से

जानें क्यों होता है बार-बार आर्थिक नुकसान? समाधान पाएं हमारे अनुभवी ज्योतिषाचार्य से
ज्योतिष समाधान

जानें क्यों होता है बार-बार आर्थिक नुकसान? समाधान पाएं हमारे अनुभवी ज्योतिषाचार्य से

विज्ञापन
विज्ञापन
अमर उजाला की खबरों को फेसबुक पर पाने के लिए लाइक करें
विज्ञापन

Spotlight

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

Most Read

Jammu

कश्मीर के 17 वर्षीय गेंदबाज रासिक का IPL में डेब्यू, मुंबई की टीम की तरफ से दिल्ली के खिलाफ खेला मैच

आतंक के गढ़ दक्षिण कश्मीर ने क्रिकेट की दुनिया को एक और सितारा दिया। आतंकवादी संगठनों और अलगाववादियों की हर दांव से बेफिक्र होकर कुलगाम के अश्मुजी गांव निवासी तेज गेंदबाज रासिक सलाम ने खेल में पसीना बहाया, जिसकी कीमत उसे IPL की मुंबई टीम ने दी।

25 मार्च 2019

विज्ञापन

पाकिस्तान में एक पेड़ है 121 साल से गिरफ्तार

क्या आपने कभी किसी पेड़ की गिरफ्तारी के बारे में सुना है, वो भी पिछले 121 सालों से? शायद नहीं सुना होगा, लेकिन एक कानून के कारण पाकिस्तान के खैबर पखतूनख्वा प्रांत में एक बरगद के पेड़ को जंजीरों मे जकड़ कर रखा गया है।

24 मार्च 2019

आज का मुद्दा
View more polls

Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।

Agree
Election