लोकप्रिय और ट्रेंडिंग टॉपिक्स

Hindi News ›   Uttarakhand ›   Dehradun ›   tourism and pilgrimage DPR of Kedarnath and Hemkund Sahib ropeway ready

पर्यटन-तीर्थाटन को बढ़ावा: Kedarnath और हेमकुंड साहिब Ropeway की डीपीआर तैयार, जिलों ने शासन को भेजे 41 प्रस्ताव

अमर उजाला ब्यूरो, देहरादून।  Published by: प्रशांत कुमार Updated Sat, 14 May 2022 11:11 PM IST
सार

केदारनाथ और हेमकुंड साहिब रोपवे की डीपीआर तैयार हो गई है। पर्यटन विभाग ने रोपवे के वन भूमि हस्तांतरण की प्रक्रिया शुरू कर दी है। जिसके बाद टेंडर किए जाएंगे।

Ropeway
Ropeway - फोटो : अमर उजाला
विज्ञापन
ख़बर सुनें

विस्तार

केदारनाथ धाम और हेमकुंड साहिब रोपवे की डीपीआर (विस्तृत परियोजना रिपोर्ट) तैयार हो गई है। केदारनाथ रोपवे पर 1100 करोड़ और हेमकुंड साहिब रोपवे पर 700 करोड़ खर्च होने का अनुमान है। इन रोपवे के लिए पर्यटन विभाग ने वन भूमि हस्तांतरण की प्रक्रिया शुरू कर दी है। इसके अलावा भारत पर्वत माला योजना के तहत प्रदेश के नए पर्यटक व धार्मिक स्थलों को रोपवे से जोड़ा जाएगा। सभी जिलों ने 41 स्थानों पर रोपवे निर्माण के लिए प्रस्ताव शासन को भेजा है। 


 

प्रदेश में पर्यटन और तीर्थाटन को बढ़ावा देने के लिए सरकार की कई स्थानों पर रोपवे बनाने की योजना है। रोपवे निर्माण के लिए सरकार ने भारतीय राष्ट्रीय राजमार्ग प्राधिकरण (एनएचएआई) के साथ एमओयू किया है। पहले चरण में एनएचएआई की अधीन नेशनल हाईवे लॉजिस्टिक मैनेजमेंट लिमिटेड (एनएचएलएमएल) को सात रोपवे की डीपीआर तैयार करने का काम सौंपा गया है। जिसमें केदारनाथ रोपवे, नैनीताल रोपवे, हेमकुंड साहिब रोपवे, पंचकोटी से नई टिहरी, औली से गौरसू, मुनस्यारी से खलिया टॉप तथा ऋषिकेश से नीलकंठ महादेव शामिल है। केदारनाथ और हेमकुंड साहिब रोपवे की डीपीआर तैयार हो गई है। पर्यटन विभाग ने रोपवे के वन भूमि हस्तांतरण की प्रक्रिया शुरू कर दी है। जिसके बाद टेंडर किए जाएंगे। रोपवे निर्माण से केदारनाथ और हेमकुंड साहिब तक श्रद्धालु आसानी से पहुंच सकेंगे। 

 

प्रदेश में नए स्थानों को रोपवे से जोड़ने की योजना
पर्वतमाला योजना के तहत नए रोपवे निर्माण के लिए सभी 13 जिलों से 41 प्रस्ताव सरकार को मिले हैं। अब शासन स्तर पर जिलों के प्रस्ताव का अध्ययन करने के बाद अगली कार्रवाई की जाएगी, जिसमें यह देखना जाएगा कि रोपवे जोड़े जाने वाले स्थान पर पर्यटकों और श्रद्धालुओं की आवाजाही कितनी है और रोपवे निर्माण का आकलन किया जाएगा। इसके बाद ही केंद्र को रोपवे का प्रस्ताव भेजा जाएगा। 

 

केदारनाथ व हेमकुंड साहिब रोपवे की डीपीआर तैयार कर ली गई है। दोनों रोपवे के लिए वन भूमि हस्तांतरण की प्रक्रिया चल रहा है। इसके बाद ही टेंडर किए जाएंगे। इसके अलावा पर्वतमाला योजना के तहत सभी जिलों से 41 नए स्थानों के लिए रोपवे निर्माण करने के प्रस्ताव मिले हैं। - दिलीप जावलकर, सचिव पर्यटन

विज्ञापन

आपकी राय हमारे लिए महत्वपूर्ण है। खबरों को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।

खबर में दी गई जानकारी और सूचना से आप संतुष्ट हैं?
विज्ञापन
विज्ञापन

रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें Android Hindi News App, iOS Hindi News App और Amarujala Hindi News APP अपने मोबाइल पे|
Get all India News in Hindi related to live update of politics, sports, entertainment, technology and education etc. Stay updated with us for all breaking news from India News and more news in Hindi.

विज्ञापन
विज्ञापन
एप में पढ़ें

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
डेली पॉडकास्ट सुनने के लिए सब्सक्राइब करें

क्लिप सुनें

00:00
00:00