ये है सच्चा देशभक्त, देशभक्ति देख पाक खिलाड़ी का दिल भी पसीजा

ब्यूरो/अमर उजाला,हल्द्वानी Updated Wed, 23 Aug 2017 05:53 PM IST
Story of sportsperson Mukesh Paul
mukesh paul
देश की बदनामी के डर से इस जांबाज ने खुद को इतना कष्ट दिया कि आप सुनकर रो पड़ेगे। उसकी देशक्ति देख साथियों को दिल भी पसीज गया। पढ़िए इस जांबाज की कहानी...
जो देश आज हमसे हर वक्त युद्ध के तैयार खड़ा है वहीं के बाशिंदे ने मदद को आगे हाथ बढ़ाया और जब अमेरिका जैसे देश ने लाखों का ऑफर देकर अनुबंध की बात की तो देशहित में उसे ठुकरा दिया। 104 डिग्री बुखार शरीर को तो तोड़ रहा था,‌ लेकिन जांबाज के  हौंसलों को नहीं तोड़ सका। 

अमेरिका के कैलीफोर्निया शहर में हुए वर्ल्ड पुलिस एंड फायर गेम में दो पदक जीतकर देश और उत्तराखंड का नाम रोशन करने वाले मुकेश पाल प्रदेश में खेल और खिलाड़ियों के प्रति सरकार की बेरुखी से दुखी हैं। सोमवार को अमर उजाला पहुंचे पाल ने प्रतियोगिता के दौरान हुए अपने अनुभव साझा किए। उन्होंने बताया कि प्रतियोगिता में भाग लेने के लिए उनके पास प्रायोजक तक नहीं थे, ऐसे में उनका पुलिस विभाग आगे आया और उनके अमेरिका जाने की व्यवस्था की गई। यहां और वहां दिन रात के अंतर की वजह से वह बीमार पड़ गए। उन्हें 104 बुखार हो गया, लेकिन उन्होंने डोप टेस्ट में फेल होने और भारत की बदनामी के डर से कोई दवा नहीं ली।

सोमवार को मुकेश पाल का अमर उजाला कार्यालय पहुंचे।  इसके बाद उनसे बातचीत का सिलसिला शुरू हुआ तो उन्होंने बताया कि प्रतियोगिता से पहले कैलीफोर्निया पहुंचने पर वह बीमार हो गए थे, उस वक्त पाकिस्तानी खिलाड़ी आदिल राणा और बांग्लादेशी खिलाड़ी अलबेग ने उन्हें काफी प्रेरित किया और उनकी मदद की। डोप टेस्ट के डर से 104 बुखार में भी दवा नहीं लेना ही ठीक समझा। इसलिए इन दोनों एशियाई साथियों ने घरेलू दवाओं से उनका इलाज करने में मदद की।

मुकेश ने बताया कि यूएसए के ग्रीन क्लब ने उन्हें सालाना 24 लाख के ऑफर के साथ तीन साल का अनुबंध करने की पेशकश की है, लेकिन, उन्होंने देशहित में अभी तक उन्हें हां नहीं कहा। भविष्य को लेकर उनका कहना है कि अभी उनका पूरा फोकस अपने प्रदर्शन को निखारने पर है। 
आगे पढ़ें

खिलाड़ी म‌केश पॉल ने करियर से लेकर प्रदेश में खेलों के भविष्य पर बेबाक राय रखी

रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें Android Hindi News App, iOS Hindi News App और Amarujala Hindi News APP अपने मोबाइल पे|
Get all India News in Hindi related to live update of politics, sports, entertainment, technology and education etc. Stay updated with us for all breaking news from India News and more news in Hindi.

Spotlight

Most Read

Mirzapur

पोषणयुक्त खाद्य पदार्थो के लिए तकनीक व शोध जरूरी: प्रो.मैरी

पोषणयुक्त खाद्य पदार्थो के लिए तकनीक व शोध जरूरी: प्रो.मैरी

19 फरवरी 2018

Related Videos

इन रास्तों पर चलकर कैसे पढ़ेगी बेटी, कैसे बढ़ेगी बेटी?

उत्तराखंड के कई ऐसे गांव हैं जो अब तक केदारनाथ में आई आपदा के बाद से उबर नहीं पाए हैं। ऐसा ही एक गांव है केदारघाटी का तरसाली गांव जहां पर सड़कें नदारद हैं। बच्चियों को पहाड़ के दुर्गम रास्तों से स्कूल तक पहुंचना पड़ता है।

19 फरवरी 2018

Switch to Amarujala.com App

Get Lightning Fast Experience

Click On Add to Home Screen