केदारनाथ आपदा @7: अलकनंदा के कहर से डगमगाए पर बढ़ते गए ‘रामभरोसे’, खोले रिसॉर्ट, 40 लोगों को दिया रोजगार

विनय बहुगुणा, अमर उजाला, रुद्रप्रयाग Updated Tue, 16 Jun 2020 12:38 PM IST
विज्ञापन
kedarnath disaster seven years: Alaknanda wreaked havoc, ram bharose opened resort, gave employment to 40 people
- फोटो : File Photo

पढ़ें अमर उजाला ई-पेपर
कहीं भी, कभी भी।

*Yearly subscription for just ₹299 Limited Period Offer. HURRY UP!

ख़बर सुनें
वर्ष 2013 में न सिर्फ प्रदेश ने बल्कि पूरे देश ने केदारनाथ आपदा का जो खौफनाक मंजर देखा उसे शायद ही कोई भूल सके। मलबे के ढेर में सब कुछ दफन हो गया था। अपनों को खोने के गम ने लोगों को झकझोर दिया था। आर्थिक स्थिति बदतर हो गई।
विज्ञापन


ऐसे मुश्किल हालात से बाहर निकलना आसान तो नहीं था। लेकिन जिंदगी की गाड़ी को पटरी पर लाना भी जरूरी था। आपदा ने लोगों से बहुत कुछ छीना, लेकिन उनके हौसले और हिम्मत को नहीं तोड़ पायी। लोगों ने अपने परिश्रम से खुद को दोबारा खड़ा किया। और ऐसे ही एक प्रेरणा बने गुप्तकाशी निवासी व्यापारी रामभरोसे बगवाड़ी।


केदारनाथ आपदा ने केदारघाटी के जनजीवन के साथ ही वहां के भूगोल को भी बदलकर रख दिया था। ऐसा कोई गांव नहीं था, जिसे आपदा ने जख्म नहीं दिए, लेकिन फिर लोगों ने जिंदगी की गाड़ी को पटरी में लाने का प्रयास किया।
विज्ञापन
आगे पढ़ें

मेहनत बर्बाद होता देख टूट गया था: बागवाड़ी

विज्ञापन

आपकी राय हमारे लिए महत्वपूर्ण है। खबरों को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।

खबर में दी गई जानकारी और सूचना से आप संतुष्ट हैं?
विज्ञापन

रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें Android Hindi News App, iOS Hindi News App और Amarujala Hindi News APP अपने मोबाइल पे|
Get all India News in Hindi related to live update of politics, sports, entertainment, technology and education etc. Stay updated with us for all breaking news from India News and more news in Hindi.

Spotlight

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
Election
  • Downloads

Follow Us

X

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
डेली पॉडकास्ट सुनने के लिए सब्सक्राइब करें

क्लिप सुनें

00:00
00:00
X