विज्ञापन
विज्ञापन

पैरों से कमजोर प्राची ने भरी हौसलों की उड़ान, आईआईएम कोलकाता में दाखिला

न्यूज डेस्क, अमर उजाला, देहरादून Updated Thu, 13 Jun 2019 09:00 AM IST
प्राची
प्राची - फोटो : अमर उजाला
ख़बर सुनें
बचपन से मसल्स इतनी कमजोर हैं कि प्राची अपने पैरों पर बिना सहारे खड़ी भी नहीं हो पाती है। बावजूद इसके प्राची ने कभी हिम्मत नहीं हारी। अपनी इसी हिम्मत और हौसले के दम पर प्राची ने अब देश के प्रसिद्ध प्रबंधन संस्थान आईआईएम कोलकाता में एंट्री पाई है। प्राची का सपना मल्टीनेशनल कंपनी में काम करना है।
विज्ञापन
विज्ञापन
देहरादून के टर्नर रोड क्लेमेंटटाउन निवासी प्राची जैन बचपन से ही मांसपेशियों की कमजोरी का शिकार है। दिव्यांग होने के बावजूद उनकी सोच और हौसला दिव्य है। प्राची ने सेंट ज्यूड्स से 87.4 प्रतिशत अंकों के साथ 10वीं, 86.24 प्रतिशत अंकों के साथ 12वीं पास की। इसके बाद इंजीनियरिंग की पढ़ाई के लिए यूपीईएस में दाखिला लिया। यहां से कंप्यूटर साइंस इंजीनियरिंग में बीटेक किया। इस बीच उन्होंने आईआईएम दाखिलों की प्रवेश परीक्षा कॉमन एडमिशन टेस्ट (कैट) दिया। पहले ही प्रयास में उन्होंने 77 परसेंटाइल स्कोर किया। आईआईएम अहमदाबाद और बंगलुरू को छोड़कर सभी आईआईएम से उन्हें बुलावा आया है, लेकिन प्राची ने कोलकाता चुना है। प्राची का कहना है कि यह बेस्ट ऑप्शन है। प्राची के शिक्षक टाइम इंस्टीट्यूट के निदेशक राजीव कुकरेजा ने बताया कि प्राची ने बीटेक फोर्थ ईयर के दौरान ही कैट क्रैक किया जो कि खुद में मिसाल है।

मम्मी-पापा ने हर पल बढ़ाया हौसला
प्राची के पिता अजीत कुमार जैन पेशे से बिजनेसमैन हैं जबकि मां प्रीति जैन गृहिणी हैं। बेटी की इस कामयाबी पर दोनों बेहद खुश हैं। उनका कहना है कि बचपन में जब पता चला कि बेटी मांसपेशियों की कमजोरी से ग्रस्त है तो उन्होंने हर पल उसका हौसला बढ़ाया। आज बेटी ने कामयाबी पाई है तो उनके लिए इससे बड़ी खुशी कुछ नहीं हो सकती।

इंजीनियरिंग के बाद नौकरी छोड़ने का फैसला
प्राची को बीटेक करने के बाद आईटीसी कंपनी में जॉब भी मिल गई। पैकेज 3.6 लाख रुपये है, लेकिन आईआईएम से पढ़ाई करने के लिए प्राची ने नौकरी छोड़ने का फैसला लिया। 

डांसिंग और एडवेंचर का शौक
भले ही प्राची बिना सहारे चल न पाती हो, लेकिन डांसिंग और एडवेंचर स्पोर्ट्स का शौक है। वह कभी-कभी छड़ी के सहारे से ही डांस करती हैं। इसके अलावा वह एक बार राफ्टिंग भी कर चुकी हैं। अब उनका सपना बंजी जंपिंग करना है।

कभी उम्मीद का दामन न छोड़ना
प्राची जैन ने युवाओं को संदेश देते हुए कहा है कि जीवन में परिस्थितियां कितनी भी मुश्किल क्यों न हों, कभी उम्मीद का दामन न छोड़ना। प्राची का कहना है कि उम्मीद पर ही पूरी दुनिया कायम है, लेकिन इसके लिए हार्डवर्क ज्यादा जरूरी है। हार्डवर्क का कोई विकल्प नहीं है।

Recommended

एलपीयू ही बेस्ट च्वॉइस क्यों है इंजीनियरिंग और अन्य कोर्सों के लिए
Lovely Professional University

एलपीयू ही बेस्ट च्वॉइस क्यों है इंजीनियरिंग और अन्य कोर्सों के लिए

बात करें इंडिया के बेस्ट एस्ट्रोलॉजर्स से और पाइये अपनी समस्या का समाधान |
Astrology

बात करें इंडिया के बेस्ट एस्ट्रोलॉजर्स से और पाइये अपनी समस्या का समाधान |

विज्ञापन
विज्ञापन
अमर उजाला की खबरों को फेसबुक पर पाने के लिए लाइक करें
विज्ञापन

Spotlight

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

Most Read

Shimla

पंजाबी फिल्म जिंद जान में दिखेंगी कुल्लू की सारा

हिमाचल की एक और बेटी बड़े पर्दे पर छा गई है। कुल्लू की सारा शर्मा की बड़े पर्दे की पहली पंजाबी फिल्म जिंद जान सिनेमा घरों में दिखाई जा रही है।

16 जून 2019

विज्ञापन

इस जानलेवा गर्मी में घरों से निकलने के लिए हैं मजबूर हैं ये लोग

इस कहर बरपा रही भीषण गर्मी में भी अपनी रोजी-रोटी चलाने के लिए लोग घरों से निकल रहें हैं। चिलचिलाती धूप के साथ मौसम का पारा चढ़ने से दिनभर जनता बेहाल हो रही है। आप खुद सुनिए क्या कहना है लोगों का जब हमने उनसे बात की।

16 जून 2019

आज का मुद्दा
View more polls

Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।

Agree
सबसे तेज अनुभव के लिए
अमर उजाला लाइट ऐप चुनें
Add to Home Screen
Election