9 साल पहले तमंचा लेकर घूम रहा था, अब मिली कड़ी सजा

अमर उजाला, ऋषिकेश Updated Tue, 26 Nov 2013 07:01 PM IST
विज्ञापन
police_court_crime

पढ़ें अमर उजाला ई-पेपर
कहीं भी, कभी भी।

*Yearly subscription for just ₹249 + Free Coupon worth ₹200

ख़बर सुनें
शस्त्र अधिनियम के मामले में अपर मुख्य न्यायिक मजिस्ट्रेट रीतेश कुमार श्रीवास्तव की अदालत ने दोष साबित होने पर आरोपी को एक साल का कठोर कारावास और दो हजार रुपये अर्थदंड की सजा सुनाई है।
विज्ञापन

गश्त के दौरान पकड़ा
22 फरवरी, 2004 को चंद्रभागा क्षेत्र में सुरक्षा के दृष्टिगत पुलिस गश्त पर थी। इसी बीच श्मशान घाट की तरफ से आ रहा एक व्यक्ति पुलिस को देखकर सकपकाया और भागने का प्रयास किया।
संदेह होने पर पुलिस ने उसे दबोच लिया। तलाशी में उसके पास से एक 12 बोर का देसी तमंचा और दो जिंदा कारतूस बरामद हुए।

शस्त्र अधिनियम के तहत मामला दर्ज

पुलिस ने 25 शस्त्र अधिनियम के तहत मुकदमा दर्ज किया। तहकीकात के बाद पुलिस ने चार्जशीट कोर्ट में दाखिल की। मंगलवार को मामले में अपर मुख्य न्यायिक मजिस्ट्रेट रीतेश कुमार श्रीवास्तव की अदालत में सुनवाई हुई।

कोर्ट ने आरोपी मनोज कुमार निवासी शाहपुर, बटावली, मेरठ (उत्तर प्रदेश) को शस्त्र अधिनियम में दोषी करार देते हुए एक साल का कठोर कारावास और दो हजार रुपये अर्थदंड की सजा सुनाई।
विज्ञापन
विज्ञापन
सबसे विश्वसनीय हिंदी न्यूज़ वेबसाइट अमर उजाला पर पढ़ें हर राज्य और शहर से जुड़ी क्राइम समाचार की
ब्रेकिंग अपडेट।
 
रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें अमर उजाला हिंदी न्यूज़ APP अपने मोबाइल पर।
Amar Ujala Android Hindi News APP Amar Ujala iOS Hindi News APP
विज्ञापन

Spotlight

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
Election
X

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
  • Downloads

Follow Us