बच्चों की हिफाजत और अधिकारों के लिए जल्द बनेगा एंटी ट्रैफिकिंग कानून- कैलाश सत्यार्थी

ब्यूरो/अमर उजाला, देहरादून Updated Fri, 13 Oct 2017 10:20 PM IST
Anti Trafficking Laws will made soon said kailash satyarthi
बच्चों की तस्करी और यौन शोषण के खिलाफ देश में जल्द एंटी ट्रैफिकिंग कानून बनने जा रहा है। शुक्रवार को बाल मजदूरी और बाल अपराध के खिलाफ भारत यात्रा लेकर देहरादून पहुंचे नोबेल पुरस्कार विजेता कैलाश सत्यार्थी ने यह जानकारी दी।

उन्होंने बताया कि इस संबंध में हाल में उनकी गृहमंत्री राजनाथ सिंह से वार्ता हुई है। सत्यार्थी का कहना है कि हर दिन 40 बच्चे देश में यौन शोषण और रोजाना 10 बच्चे ट्रैफिकिंग के शिकार हो रहे हैं। हर छह मिनट में एक बच्चा लापता हो जाता है।

इसे लेकर लोक जागरण के साथ ही नीतिगत तौर पर भी केंद्र सरकार से वार्ता की जा रही है। अपनी 35 दिन की भारत यात्रा के तहत वह यहां ग्राफिक एरा विश्वविद्यालय में आयोजित कार्यक्रम में लोगों को संबोधित कर रहे थे।

कैलाश सत्यार्थी ने कहा कि बहन-बेटी सुरक्षित रहेंगी, तभी देश सुरक्षित रहेगा। हमने सरकार से मांग की है कि हर जिले में विशेष अदालत बनाई जाए, जिसमें निश्चित समय के भीतर बाल यौन शोषण और बाल अपराध से संबंधित मामलों का निपटारा हो।

एनसीआरबी की रिपोर्ट के मुताबिक, पिछले साल बाल यौन शोषण और बाल अपराध के 15 हजार मामले सामने आए, जिनमें केवल चार प्रतिशत को सजा हुई। छह प्रतिशत आरोपी छूट गए, जबकि 90 प्रतिशत मामले विचाराधीन हैं। वहीं, 2015 के 96 प्रतिशत मामले लंबित हैं।
आगे पढ़ें

भारत की छवि छात्र ही बदल सकते हैं

Spotlight

Most Read

Lucknow

यूपी कैबिनेट ने एक जिला एक उत्पाद नीति पर लगाई मुहर, लिए गए 12 फैसले

यूपी कैबिनेट ने कुल 12 फैसलों को मंजूरी दे दी है। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ की अध्यक्षता में हुई बैठक में एक जिला एक उत्पाद नीति पर मुहर लग गई।

23 जनवरी 2018

Related Videos

आत्महत्या को फैशन मानते हैं इस राज्य के सीएम साहब

उत्तराखंड के मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत ने ट्रांस्पोर्टर आत्महत्या मामले को लेकर एक विवादास्पद बयान दिया।

23 जनवरी 2018

  • Downloads

Follow Us

Read the latest and breaking Hindi news on amarujala.com. Get live Hindi news about India and the World from politics, sports, bollywood, business, cities, lifestyle, astrology, spirituality, jobs and much more. Register with amarujala.com to get all the latest Hindi news updates as they happen.

E-Paper