विज्ञापन

'सच्चे ज्ञान का आभास प्रकृति ही में मिल सकता है'

रामचंद्र शुक्ल Updated Sat, 08 Sep 2018 03:15 PM IST
रामचंद्र शुक्ल
रामचंद्र शुक्ल
विज्ञापन
ख़बर सुनें
संसार में धर्म के नाम पर जो इतने भीषण युद्ध हुए हैं, वे सब अंधविश्वास के कारण। शुद्ध बुद्धि की कसौटी पर तो सारे प्रचलित मत समान रूप से असंगत, मिथ्या और कपोलकल्पित हैं। युक्ति और विश्वास के सामने कोई ठहरने के योग्य नहीं। इस अंधविश्वास ने मनुष्य जाति का कितना अपकार किया है। धर्मांधता के कारण कितना रक्तपात हुआ है, कितने प्राणियों का सुख धूल में मिल गया है। कितने आदमियों को घर-बार छोड़ दूर देशों में भागना पड़ा है।
विज्ञापन
राज्यशासन में जहां-जहां धर्मांधता का प्रवेश रहा है, वहां-वहां घोर अनर्थ हुए हैं। बहुत से देशों में धर्मशिक्षा स्कूलों में अनिवार्य रखी गई है, जिसका फल यह होता है कि बालकों के कोमल हृदयों पर ऐसे कुसंस्कार जम जाते हैं, जो कभी नहीं जाते। उनका चित्त अंधविश्वास का अनुयायी हो जाता है, फिर उन्हें असंगत बातें अभ्यास के कारण नहीं खटकतीं। दुख की बात है कि जिन देशों में धर्मशिक्षा की अनिवार्य व्यवस्था नहीं है, वहां भी अब कुछ लोग उसकी आवश्यकता बतला रहे हैं।

पर आधुनिक सभ्य राज्यों के लिए यह परम आवश्यक है कि सर्वसाधारण की शिक्षा के लिए ऐसे विद्यालय खुलें, जो सांप्रदायिक बंधनों से मुक्त हों। सच्चे ज्ञान का आभास प्रकृति ही में मिल सकता है; उसमें ही उसे ढूंढ़ना चाहिए। उसके लिए अप्राकृतिक शक्ति की कल्पना करना प्रमाद और बुद्धि का आलस्य है। सत्य का ज्ञान जो कुछ मनुष्य को हुआ है और हो सकता है, वह प्रकृति की समीक्षा द्वारा प्राप्त अनुभवों तथा इन अनुभवों की संगत योजना द्वारा स्थिर सिद्धांतों द्वारा ही। प्रत्येक बुद्धिसंपन्न मनुष्य सत्य का आभास प्रकृति निरीक्षण द्वारा प्राप्त कर सकता है और अपने को अज्ञान और अंधविश्वास से मुक्त कर सकता है।
-हिंदी के सुप्रसिद्ध आलोचक

Recommended

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
अमर उजाला की खबरों को फेसबुक पर पाने के लिए लाइक करें
विज्ञापन

Spotlight

विज्ञापन

Most Read

Opinion

एक सपने का सच होना

पूर्वांचल में व्याप्त हताशा के आकाश में भारत के अंतर्देशीय जलमार्ग प्राधिकरण द्वारा नवनिर्मित प्रथम राष्ट्रीय जलमार्ग स्वर्णिम भविष्य की आशा का नक्षत्र बनकर उभरा है। गंगा का जो जलमार्ग खत्म हो गया था, उसका फिर से शुरू होना सुखद है।

14 नवंबर 2018

विज्ञापन

Related Videos

पिता दिग्विजय सिंह को लेकर किए गए तीखे सवालों का बेटे जयवर्धन ने दिया ये जवाब

मध्य प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह के बेटे जयवर्धन सिंह एक बार फिर राघौगढ़ से कांग्रेस के टिकट पर चुनाव लड़ रहे हैं।

15 नवंबर 2018

आज का मुद्दा
View more polls

Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।

Agree