विज्ञापन

'मेरे नारीवादी लेखन ने पुरुष समाज को नाराज किया'

कुंदनिका कापड़िया Updated Fri, 29 Jun 2018 03:31 PM IST
कुंदनिका कापड़िया
कुंदनिका कापड़िया
ख़बर सुनें
मैं सुरेंद्रनगर जिले के लिम्बडी में पैदा हुई। मेरी शुरुआती शिक्षा गोधरा में हुई। लेकिन भारत छोड़ो आंदोलन में भाग लेने के कारण बाद में मेरी पढ़ाई प्रभावित हुई। चूंकि मेरा बचपन अकेलेपन में बीता, इसलिए मैं लेखन की ओर आकर्षित हुई। प्रेमना आंसू मेरी पहली कहानी थी, जिस पर जन्मभूमि अखबार की ओर से आयोजित अंतरराष्ट्रीय कहानी प्रतियोगिता में मुझे दूसरा पुरस्कार मिला। इससे प्रोत्साहित होकर मैंने कहानी लेखन जारी रखा।
विज्ञापन
विज्ञापन
मैंने पत्रकारिता का पेशा अपनाया और वर्षों तक यात्रिक और नवनीत पत्रिकाओं की संपादक रही। मेरे पति मकरंद दवे जाने-माने कवि थे। समाज में महिलाओं की स्थिति ने मुझे बहुत क्षुब्ध किया, इसलिए मैंने पत्रकारिता और साहित्य में औरतों के मुद्दों को प्रमुखता से उठाया। मेरी कहानियों और उपन्यासों की महिलाएं पुरुषवर्चस्ववाद के खिलाफ विद्रोह करती हैं। वे समाज के नैतिक मूल्यों पर सवाल करती हैं, जो पुरुष प्रधान समाज को अच्छा नहीं लगता।

महिला पात्रों को सामने लाने के लिए ही मैंने अपनी रचनाओं में कथानक से अधिक चरित्रों को महत्व दिया है। मेरे कई उपन्यास चर्चित रहे हैं, पर सात पगलां आकाशमां को मैं अपना सबसे महत्वपूर्ण उपन्यास मानती हूं, जिस पर मुझे साहित्य अकादेमी पुरस्कार मिला। इस उपन्यास ने गुजराती महिलाओं की चेतना को इस तरह झकझोर दिया कि यह सामाजिक क्रांति का अग्रदूत बन गया। इस उपन्यास की पात्र वसुधा की पीड़ा से द्रवित होकर महिलाएं मुझे चिट्ठियां लिखती थीं, जबकि अनेक औरतें मेरे पास अपने जीवन की वेदना सुनाने आती थीं। दूसरी ओर, इस उपन्यास से नाराज कुछ पुरुषों ने मुझे धमकी देते हुए कहा कि आपको जेल में होना चाहिए।
-गुजराती की चर्चित लेखिका।

Recommended

क्या आप अपने करियर को लेकर उलझन में हैं ? समाधान पायें हमारे अनुभवी ज्योतिषिचर्या से
ज्योतिष समाधान

क्या आप अपने करियर को लेकर उलझन में हैं ? समाधान पायें हमारे अनुभवी ज्योतिषिचर्या से

जानें क्यों होता है बार-बार आर्थिक नुकसान? समाधान पायें हमारे अनुभवी ज्योतिषिचर्या से
ज्योतिष समाधान

जानें क्यों होता है बार-बार आर्थिक नुकसान? समाधान पायें हमारे अनुभवी ज्योतिषिचर्या से

विज्ञापन
विज्ञापन
अमर उजाला की खबरों को फेसबुक पर पाने के लिए लाइक करें
विज्ञापन

Spotlight

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

Most Read

Blog

होली ऐसी भीः यहां मुहूर्त नहीं छुट्टी के मुताबिक मनाई जाती है होली

यह जरूरी नहीं कि होली का त्योहार फाल्गुन महीने की पूर्णिमा तिथि और उसके दूसरे दिन ही मनाया जाए। विदेशों में अमूमन होली उसी दिन मनाई जाती है जिस दिन सार्वजनिक छुट्टी होती है।

20 मार्च 2019

विज्ञापन

देशभर में होली की धूम सहित 5 बड़ी खबरें

अमर उजाला डॉट कॉम पर देश-दुनिया की राजनीति, खेल, क्राइम, सिनेमा, फैशन और धर्म से जुड़ी खबरें। देखिए LIVE BULLETINS - शाम 5 बजे।

21 मार्च 2019

आज का मुद्दा
View more polls

Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।

Agree