बिहार में अब शौचालय घोटाला, लाभुकों के बजाय एनजीओ के खाते में डाले 13 करोड़

ब्यूरो/अमर उजाला, पटना Updated Sat, 04 Nov 2017 07:37 AM IST
Toilet scandal: 13 crore rupees deposited in NGOs account for constructing toilets in patna
बिहार में एक और घोटाला सामने आया है। नया घोटाला पीएचईडी विभाग के तहत बनने वाले शौचालयों में हुआ है। पटना जिले में 10 हजार शौचालय बनने की बात कही गई है, लेकिन शौचालय कहां-कहां बने इसका कोई लेखा-जोखा नहीं है। शौचालय निर्माण का पैसा लाभुकों को मिला या नहीं इसकी भी कोई जानकारी नहीं है। 

अब तक 13 करोड़ की अनियमितता सामने आई है। रकम और बढ़ने की उम्मीद है। मिली जानकारी के अनुसार शौचालय बनाने का पैसा लाभुकों को सीधे खाते में भेजने के बजाय पीएचईडी ने तीन एनजीओ के खातों में ट्रांसफर कर दी। 

घोटाला सामने आने के बाद पटना के डीएम संजय अग्रवाल ने पीएचईडी के तत्कालीन कार्यपालक अभियंता विनय कुमार सिन्हा, लेखपाल और तीन एनजीओ के खिलाफ गांधी मैदान थाने में मामला दर्ज कराने का आदेश दिया है। अग्रवाल ने बताया कि वर्ष 2012-13, 2013-14 2014-15 में शौचालय बनाने की राशि लाभुकों के बजाय सीधे एनजीओ के खाते में ट्रांसफर कर दिया। यह वित्तीय अनियमितता विभागीय समीक्षा के दौरान पकड़ी गई। 

Spotlight

Most Read

Kanpur

बाइकवालाें काे भी देना हाेगा टोल टैक्स, सरकार वसूलेगी 285 रुपये

अगर अाप बाइक पर बैठकर आगरा - लखनऊ एक्सप्रेस वे पर फर्राटा भरने की साेच रहे हैं ताे सरकार ने अापकी जेब काे भारी चपत लगाने की तैयारी कर ली है। आगरा - लखनऊ एक्सप्रेस वे पर चलने के लिए सभी वाहनों को टोल टैक्स अदा करना होगा।

16 जनवरी 2018

Related Videos

ओडिशा के इस ‘दशरथ मांझी’ ने बच्चों के लिए बनाई 8 किमी. लंबी सड़क

ओडिशा के कंधमाल में रहनेवाले जालंधर नायक ने अपने बच्चों के लिए अकेले ही आठ किलोमीटर लंबी सड़क तैयार कर दी। जालंधर के बच्चे इलाके में सड़क न होने की वजह से जंगल के रास्ते स्कूल नहीं जा पाते थे।

15 जनवरी 2018

  • Downloads

Follow Us

Read the latest and breaking Hindi news on amarujala.com. Get live Hindi news about India and the World from politics, sports, bollywood, business, cities, lifestyle, astrology, spirituality, jobs and much more. Register with amarujala.com to get all the latest Hindi news updates as they happen.

E-Paper