लोकप्रिय और ट्रेंडिंग टॉपिक्स

Hindi News ›   Bihar ›   IRCTC say the number of foreign tourist come down due to the prohibition law in Bihar

Bihar: विदेशी मुद्रा में बढ़ोत्तरी करने के लिए पर्यटकों को मिले पीने की छूट, शराबबंदी से घटे पर्यटक

न्यूज डेस्क, अमर उजाला, पटना Published by: वीरेंद्र शर्मा Updated Tue, 04 Oct 2022 11:41 PM IST
सार

आईआरसीटीसी का कहना है कि बिहार में शराबबंदी की वजह से पयर्टकों की संख्या में कमी आई है। पर्यटकों को खाने-पीने की आजादी देनी होगी।
 

आईआरसीटीसी के ग्रुप एमडी अफसर जफर आजम ने कहा कि शराबबंदी की वजह से पर्यटन को नुकसान हो रहा है।
आईआरसीटीसी के ग्रुप एमडी अफसर जफर आजम ने कहा कि शराबबंदी की वजह से पर्यटन को नुकसान हो रहा है। - फोटो : सोशल मीडिया
विज्ञापन
ख़बर सुनें

विस्तार

बिहार सरकार ने अप्रैल 2016 में शराबबंदी कानून लागू किया था। जिसके बाद प्रदेश में शराब पीना और बेचना कानूनी अपराध है। लेकिन अब शराबबंदी में ढील देने और पर्यटकों को शराब पिलाने की व्यवस्था करने की मांग हुई है। यह मांग इंडियन रेलवे कैटरिंग एंड टूरिज्म कॉर्पोरेशन(आईआरसीटीसी) की तरफ से की गई है। 


शराब की वजह से घटी पर्यटकों की संख्या
आईआरसीटीसी का कहना है कि बिहार में शराबबंदी की वजह से पयर्टकों की संख्या में कमी आई है। पर्यटकों को खाने-पीने की आजादी देनी होगी। विदेशी पयर्टकों को उनके मुताबिक खाने-पीने की चीजें न मिलने की वजह से प्रदेश का रूख नहीं कर रहे है। आईआरसीटीसी का कहना है कि विदेशियों के साथ-साथ देश के पयर्टकों की संख्या में कमी आई है। 


प्रदेश सरकार ने पर्यटकों को लेकर किया था यह दावा 
बिहार सरकार ने दावा किया कि शराबबंदी की वजह से यहां आने वाले पर्यटकों की संख्या में कोई कमी नहीं आई है। रेलवे का दावा बिलकुल उलट है। आईआरसीटीसी का कहना है कि पर्यटक शराबबंदी की वजह से नहीं आना चाहते हैं। पर्यटकों की संख्या में बढ़ोत्तरी करने के लिए शराबबंदी कानून में ढील देनी होगी। 


विदेशी मुद्रा बढ़ाने के लिए भी पांबदी हटानी जरुरी 
आईआरसीटीसी के ग्रुप एमडी जफर आजम ने कहा कि सरकार पर्यटन की वजह से हजारों करोड़ों डॉलर कमा सकती है। शराबबंदी की वजह से पर्यटक नहीं आना चाहता है। सरकार को विदेशी पर्यटकों को खींचने के लिए ब्लू प्रिंट पर काम करना होगा। केवल बिहार ही देश का ऐसा राज्य है, जहां हिंदू, जैन, बौद्ध, सिख धर्मों के प्रमुख तीर्थ स्थल हैं। जफर आजम ने बताया कि कई देशों के पर्यटकों के बातचीत की गई है। उन्होंने कहा कि विदेशी बिहार आना चाहते है, लेकिन उन्हें उनके खाने-पीने की चीजें नहीं मिल पाती है। उन्होंने बताया कि पर्यटकों का कहना है कि सारनाथ, वैशाली, गया, बोधगया आदि जगह वो घूमना चाहते है। 
 

खबरों को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।

खबर में दी गई जानकारी और सूचना से आप संतुष्ट हैं?
विज्ञापन
विज्ञापन

रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें Android Hindi News App, iOS Hindi News App और Amarujala Hindi News APP अपने मोबाइल पे|
Get all India News in Hindi related to live update of politics, sports, entertainment, technology and education etc. Stay updated with us for all breaking news from India News and more news in Hindi.

विज्ञापन
विज्ञापन
एप में पढ़ें
जानिए अपना दैनिक राशिफल बेहतर अनुभव के साथ सिर्फ अमर उजाला एप पर
अभी नहीं

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
डेली पॉडकास्ट सुनने के लिए सब्सक्राइब करें

क्लिप सुनें

00:00
00:00