हरियाणा की इस बेटी ने लड़कियों को दिखाई नई राह, लिम्का बुक में नाम दर्ज

शाहनवाज आलम/अमर उजाला, गुड़गांव Updated Sun, 20 Mar 2016 01:32 PM IST
विज्ञापन
सुनील डबास का नाम लिम्का बुक ऑफ रिकॉर्ड में दर्ज
सुनील डबास का नाम लिम्का बुक ऑफ रिकॉर्ड में दर्ज

पढ़ें अमर उजाला ई-पेपर
कहीं भी, कभी भी।

*Yearly subscription for just ₹299 Limited Period Offer. HURRY UP!

ख़बर सुनें
किसान की बेटी सुनील डबास का नाम लिम्का बुक ऑफ रिकॉर्ड में दर्ज किया गया है। पेज नंबर 346 में उन्हें एशिया के अग्रणी कबड्डी कोच के रूप में प्रकाशित किया गया है।
विज्ञापन

बुक ऑफ रिकॉर्ड के मुताबिक, यह एक मात्र ऐसी महिला खिलाड़ी है, जिन्हें दो अग्रणी अवार्ड पद्मश्री (2014) और द्रोणाचार्य अवार्ड (2012) मिला है। सुनील डबास हरियाणा की पहली महिला खिलाड़ी है, जिनका नाम इस किताब में दर्ज हुआ है।
लिंगानुपात के मामले में पिछड़ा जिला झज्जर से ताल्लुक रखने वाली सुनील डबास रेलवे रोड स्थित द्रोणाचार्य राजकीय कॉलेज में बतौर फिजिकल एजुकेशन शिक्षक के रूप में कार्यरत हैं।
बकौल सुनील, दो दिन पहले इस बात की जानकारी लिम्का के ऑफिशियल की तरफ से उन्हें दी गई और रिकॉर्ड बुक बतौर गिफ्ट भेजा गया है। पहले तो यकीन ही नहीं हुआ। जब किताब हाथ में आया तब यकीन हुआ।

झज्जर के मोहम्मदपुर माजड़ा गांव में किसान परिवार परिवार में पैदा हुई सुनील भारतीय महिला कबड्डी टीम की कोच भी रह चुकी हैं। इनके यहां तक का सफर किसी दास्तां से कम नहीं है।
विज्ञापन
आगे पढ़ें

ट्रैक शूट पहनने की नहीं थी इजाजत

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

Spotlight

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
Election
  • Downloads

Follow Us

X

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
डेली पॉडकास्ट सुनने के लिए सब्सक्राइब करें

क्लिप सुनें

00:00
00:00
X