विज्ञापन

मतदाता पुनरीक्षण अभियान में लापरवाही

Bhadohi Updated Wed, 09 May 2012 12:00 PM IST
विज्ञापन
भदोही। भदोही नगर पालिका परिषद प्रांगण में मंगलवार को मतदाता सूची पुनरीक्षण अभियान टांय टांय फिस्स साबित हुई। नगर पालिका परिषद क्षेत्र के समस्त बीएलओ को सुबह 10 बजे से शाम 5 बजे तक यहां बैठना था लेकिन कोई 12 बजे पहुंचा तो कोई दोपहर 2 बजे। कुछ तो शाम तक नहीं पहुंचे। संयोग से अभियान की जांच करने मंडलायुक्त भी पहुंच गए जो लापरवाही देख कर अचंभे में पड़ गए।
विज्ञापन
जानकारी हो कि निकाय चुनाव के लिए वोटर लिस्ट को अपडेट करने का काम जोर शोर से चल रहा है। प्रशासन का सख्त निर्देश है कि जो कोई भी 18 वर्ष की उम्र पूरी कर चुका हो उसना नाम सूची में आ जाए लेकिन अधिकारियों और बीएलओ की लापरवाही देख कर अफसरान खुद आश्चर्य में हैं। जानकारी हो कि आज नगर पालिका में सूची का पुनरीक्षण आयोजित था। सुबह से लेकर 2 बजे तक इक्का दुक्का बीएलओ की सीट छोड़ सभी खाली थी इसी बीच मंडलायुक्त प्रज्ञान राम मिश्र पहुंच गए तो सबकी पोल खुल गई। मजे की बात तो यह रही कि मंडलायुक्त के पहुंचने की खबर मिलते ही सभी बीएलओ को दोपहर 2 बजे तक हांफते हांफते नगर पालिका पहुंच गए। पालिका ईओ, श्री राय ने बताया कि आज कुल 803 लोगों नाम बढ़वाने के लिए आए जबकि केवल 13 लोगों ने नाम कटवाने का फार्म जमा किया।

अनुपस्थित बीएलओ को नोटिस
भदोही। जिलाधिकारी ने नगर पालिका में मतदाता पुनरीक्षण अभियान में बीएलओ की अनुपस्थिति को गंभीरता से लिया है। उन्होंने इसके लिए तहसीलदार को भी दोषी मानते हुए उनसे जवाब तलब करने के साथ साथ समस्त समय से नहीं पहुंचने वाले बीएलओ को नोटिस भेजने का निर्देश दिया है। डीएम अमृत त्रिपाठी ने कहा कि जो कुछ आज नगर पालिका में देखने को मिला वह बर्दाश्त के बाहर है। कहा कि इसमें काफी लापरवाही तो तहसीलदार की थी जिन्होंने काफी लोगों को सूचना ही नहीं दी थी। इसके अलावा कई बीएलओ तो सूचना होने के बाद भी नहीं पहुंचे थे। ऐसे सभी लोगों को कारण बताओ नोटिस भेजा जा रहा है।

Recommended

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
अमर उजाला की खबरों को फेसबुक पर पाने के लिए लाइक करें
विज्ञापन

Spotlight

विज्ञापन

Related Videos

मध्यप्रदेश विधानसभा चुनाव: कांग्रेस के लिए क्यों अहम है राघौगढ़ सीट ?

मध्यप्रदेश का राघौगढ़ गुना जिले के अंतर्गत आता है। यह सीट राजगढ़ लोकसभा क्षेत्र के अंतर्गत आती है। इसे कांग्रेस की पक्की सीट माना जाता है, जहां कांग्रेस नेता दिग्विजय सिंह और उनके परिवार का एकछत्र राज रहा है।

14 नवंबर 2018

Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।

Agree