क्या ऑस्ट्रेलिया में झुक गया है फेसबुक? गूगल ने भी किया दो मीडिया संस्थानों राजस्व साझा करने का समझौता

सार

गूगल ने कानून लागू होने के पहले ही ऑस्ट्रेलिया के सबसे बड़े मीडिया घराने न्यूज कॉर्प और सेवेन वेस्ट मीडिया के साथ राजस्व साझा करने का समझौता कर लिया है...
विज्ञापन
Harendra Chaudhary वर्ल्ड डेस्क, अमर उजाला, कैनबरा Published by: Harendra Chaudhary
Updated Tue, 23 Feb 2021 06:49 PM IST
facebook australia news ban
facebook australia news ban - फोटो : social media

पढ़ें अमर उजाला ई-पेपर
कहीं भी, कभी भी।

*Yearly subscription for just ₹299 Limited Period Offer. HURRY UP!

ख़बर सुनें

विस्तार

फेसबुक ने ऑस्ट्रेलिया में समाचार माध्यमों के पेजों को बहाल करने का एलान किया है। ऑस्ट्रेलिया सरकार से बातचीत के बाद उसने ये घोषणा मंगलवार को की। ऑस्ट्रेलिया में बनाए जा रहे एक कानून को लेकर फेसबुक का ऑस्ट्रेलिया सरकार से विवाद चल रहा है। इस कानून के तहत प्रावधान है कि फेसबुक और गूगल जैसी डिजिटल कंपनियों को अपने राजस्व में उन समाचार माध्यमों को हिस्सा देना होगा, जिनकी खबरें उन पर शेयर की जाती हैं।
विज्ञापन


बताया जाता है कि ऑस्ट्रेलिया सरकार से बातचीत के दौरान दोनों पक्षों में सहमति बन गई। इसके मुताबिक फेसबुक छोटे और स्थानीय प्रकाशकों सहित तमाम पब्लिशर्स की ‘सहायता’ करेगा। लेकिन अभी इस बारे में पूरे ब्योरे का इंतजार है। फेसबुक ने पिछले हफ्ते ऑस्ट्रेलिया के लोगों को वहां के समाचार माध्यमों की खबरों को फेसबुक पर शेयर करने से रोक दिया था। इस कंपनी ने दुनिया में पहली बार कहीं ऐसा कदम उठाया। इस कारण ना सिर्फ ऑस्ट्रेलिया के मीडिया हाउसों के पेज ब्लॉक हो गए, बल्कि कई जरूरी सेवाएं भी इस प्लेटफॉर्म पर दिखनी बंद हो गईं।


फेसबुक ने ब्लॉक पेजों को बहाल करने का एलान उस समय किया है, जब प्रस्तावित कानून पर ऑस्ट्रेलिया की सीनेट में चर्चा चल रही है। मंगलवार को इस दौरान ऑस्ट्रेलिया सरकार ने कहा कि वह कानून में एक नया प्रावधान जोड़ेगी। इसके जरिए यह अनिवार्य कर दिया जाएगा कि डिजिटल प्लेटफॉर्म ऑस्ट्रेलियाई समाचार उद्योग से ऐसे व्यापारिक समझौते करें, जिनमें राजस्व साझा करने की बात शामिल हो। सरकार ने कहा है कि ऑस्ट्रेलियाई समाचार उद्योग को जिंदा रखने के लिए ऐसा करना जरूरी है।

सरकार ने कहा है कि खबरें फेसबुक पर दिखें, इसे वह सुनिश्चित करेगी, ताकि ये कंपनी किसी मीडिया हाउस को ब्लॉक कर उन्हें बातचीत के लिए मजबूर ना करे। अब फेसबुक ने कहा है कि ऑस्ट्रेलिया और बाकी दुनिया में पत्रकारिता की सहायता करना हमेशा से उसका इरादा रहा है। फेसबुक ने कहा है कि वह दुनिया भर में खबरों में निवेश करना जारी रखेगी, ताकि बड़ी मीडिया कंपनियां ऐसे नियमों को थोप ना सकें, जो प्रकाशकों और फेसबुक के बीच वास्तविक मूल्य के अनुरूप ना हों।

ऑस्ट्रेलियाई कानून के दायरे में गूगल भी आएगा। लेकिन उसने इस स्थिति से निपटने के लिए अलग रास्ता अपनाया है। उसने कानून लागू होने के पहले ही ऑस्ट्रेलिया के सबसे बड़े मीडिया घराने न्यूज कॉर्प और सेवेन वेस्ट मीडिया के साथ राजस्व साझा करने का समझौता कर लिया है। न्यूज कॉर्प मूल रूप से अमेरिका की कंपनी है, जिसके मालिक रुपर्ट मरडॉक हैं। ऑस्ट्रेलिया में किए समझौतों के बारे में उसने कहा कि अगर व्यापारिक करार पहले से मौजूद हों, तो उससे समीकरण बदल जाते हैँ।

आपकी राय हमारे लिए महत्वपूर्ण है। खबरों को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।

खबर में दी गई जानकारी और सूचना से आप संतुष्ट हैं?
विज्ञापन
विज्ञापन

रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें Android Hindi News App, iOS Hindi News App और Amarujala Hindi News APP अपने मोबाइल पे|
Get latest World News headlines in Hindi related political news, sports news, Business news all breaking news and live updates. Stay updated with us for all latest Hindi news.

Spotlight

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
Election
  • Downloads

Follow Us

X

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
डेली पॉडकास्ट सुनने के लिए सब्सक्राइब करें

क्लिप सुनें

00:00
00:00
X