विज्ञापन
Home ›   Video ›   Uttar Pradesh ›   Lucknow ›   STORY OF LUCKNOW'S PADMAN AMIT SAXENA

एक कविता ने इस शख्स को बना दिया पैडमैन, सैकड़ों लड़कियों को हर महीने देता है पैड

वीडियो डेस्क, अमर उजाला डॉट कॉम Published by: बसंत कुमार Updated Wed, 19 Dec 2018 08:45 PM IST

माहवारी अभी भी भारत में अपवित्र मानी जाती है। माहवारी के दौरान लड़कियों से भेदभाव किया जाता है। लेकिन लखनऊ में एक ऐसा शख्स हैं जो झुग्गियों में जाकर लोगों को माहवारी को लेकर जागरूक करता है। लड़कियों को पैड बांटता है। देखिए रिपोर्ट। 

विज्ञापन
  • Downloads

Follow Us

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
डेली पॉडकास्ट सुनने के लिए सब्सक्राइब करें

क्लिप सुनें

00:00
00:00