विज्ञापन
विज्ञापन
Home ›   Video ›   India News ›   Babu Rao Vishnu paradkar gave sansad and samvidhan words

हिंदी में नहीं थे संसद और संविधान जैसे शब्द, इस शख्स को माना जाता है जनक

1.4K Views
कनवर्जेंस डेस्क, अमर उजाला Updated Sat, 05 Oct 2019 02:02 PM IST

हिंदी भाषा का इतिहास तकरीबन 1000 साल पुराना है। समय के साथ इस भाषा में कई शब्द भी जोड़े गए। क्या आपको पता है कि संसद और संविधान जैसे शब्द किसी भी भाषा में कभी थे ही नहीं। इन्हें वजूद में लाने का श्रेय एक क्रांतिकारी और पत्रकार को जाता है।
 

अमर उजाला की खबरों को फेसबुक पर पाने के लिए लाइक करें  
विज्ञापन

Latest

Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।

Agree
Election
  • Downloads

Follow Us