वाडीलाल बढ़ाएगा अपना दायरा, श्रीलंका-पाक हैं आगे

अमर उजाला, हल्द्वानी Updated Fri, 25 Oct 2013 09:39 AM IST
विज्ञापन
vadilal extends buisness, sri lanka and pakistan further then india

पढ़ें अमर उजाला ई-पेपर
कहीं भी, कभी भी।

*Yearly subscription for just ₹249 + Free Coupon worth ₹200

ख़बर सुनें
एक टन प्रोडक्शन के साथ शुरू होकर देश के आइसक्रीम कारोबार के एक चौथाई हिस्से की मालिक बन चुका वाडीलाल उत्तराखंड के कुमाऊं में आइसक्रीम बाजार में अपना हिस्सा तेजी से बढ़ाएगा। जो काम पिछले पांच सालों में नहीं हुआ वह अगले दो सालों में कंपनी करेगी।
विज्ञापन

आइसक्रीम के  विस्तार के लिए बरेली स्थित यूनिट की स्टोरेज और प्रोडक्शन क्षमता में 50 और 25 फीसदी का इजाफा किया जा रहा है। इस कारोबार के फैलने की गति और तेज हो सकती थी, लेकिन बिजली-सड़क की बेहतर सुविधाएं न मिलने से अड़चनें आई हैं। यह कहना है वाडीलाल के मैनेजिंग डायरेक्टर देवांशु गांधी का।
पढें, सचिन जैसा कोई नहीं बन सकता: भज्जी


स्टोरेज की व्यवस्था नहीं
कुमाऊं के दौरे पर आए देवांशु कहते हैं कि अपने देश में आइसक्रीम के बाजार की अपार संभावनाएं हैं, लेकिन बिजली की कमी के कारण डीलर और डिस्ट्रीब्यूटरों के पास स्टोरेज की व्यवस्था नहीं हो पाती है।

खस्ताहाल सड़कें भी बड़ी रुकावट
इससे देश में आइसक्रीम कारोबार को धक्का लगा है। इसके अलावा खस्ताहाल सड़कें भी बड़ी रुकावट हैं। आर्थिक रूप में हमसे पिछड़े पाकिस्तान और श्रीलंका जैसे देशों में भी आइसक्रीम खपत की स्थिति भारत से अच्छी हैं।

पढें, भाजपा के जनसमर्थन से बौखला गई कांग्रेसः रामदेव

भारत में जहां प्रति व्यक्ति आइसक्रीम की खपत 90 से 100 ग्राम है, वहीं पाकिस्तान में यह आंकड़ा 350 ग्राम का है, क्योंकि पाकिस्तान जैसे देश में भी बिजली और सड़कों की हालत भारत से अच्छी है। देवांशु कहते हैं कि बरेली यूनिट की क्षमता बढ़ाने के बाद कुमाऊं में भी आइसक्रीम का दायरा बढ़ेगा और हल्द्वानी पर उनका खास फोकस रहेगा।

करीब 3000 करोड़ का है देश में आइसक्रीम कारोबार
देश में आइसक्रीम का कारोबार करीब 3000 करोड़ रुपये का है, इसमें संगठित क्षेत्र का हिस्सा करीब 2000 करोड़ और असंगठित क्षेत्र का हिस्सा 1000 करोड़ है। संगठित क्षेत्र में 500 करोड़ की हिस्सेदारी वाडीलाल आइसक्रीम की है।

पढें, ...और मन्ना डे के गानों पर झूमने लगे विदेशी

1973 में एक टन से शुरू हुआ था वाडीलाल
वाडीलाल आइसक्रीम की शुरुआत 1973 में गुजरात से हुई थी। एक टन से शुरू हुई इस आइसक्रीम का कुल उत्पादन 250 टन तक पहुंच गया है। इसकी तीन यूनिटों में एक बरेली में है। इस यूनिट का उत्पादन करीब 125 टन का है।

पढें, भट्ट कैंप की फिल्म में नजर आएंगे राहुल देव

ठंड में भी खा सकते हैं आइसक्रीम
देवांशु गांधी कहते हैं आइसक्रीम केवल गर्मियों खाने की ही चीज नहीं है। इसे ठंड के दिनों में भी खाया जा सकता है। हालांकि, ठंड में आइसक्रीम खाने के बाद हल्का गुनगुना पानी पीना न भूलें।

पढें, चर्चा में भज्जी की शादी और नाराज राहुल देव


फ्रोजन डेजर्ट और आइसक्रीम में अंतर

फ्रोजन डेजर्ट और आइसक्रीम में अंतर समझना भी बेहद जरूरी है। आइसक्रीम डेरी फैट से तैयार होती है, जबकि फ्रोजन डिजर्ट ेंमें वेजिटेबल फैट है।
विज्ञापन
विज्ञापन

रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें Android Hindi News App, iOS Hindi News App और Amarujala Hindi News APP अपने मोबाइल पे|
Get all India News in Hindi related to live update of politics, sports, entertainment, technology and education etc. Stay updated with us for all breaking news from India News and more news in Hindi.

विज्ञापन

Spotlight

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
Election
  • Downloads

Follow Us