लोकप्रिय और ट्रेंडिंग टॉपिक्स

विज्ञापन
Hindi News ›   Uttarakhand ›   Chamoli News ›   Chamoli School keeping eight year old Aarav away from education innocent getting caught in dispute Uttarakhand

Chamoli: पीठ पर बस्ता लादे आठ साल के आरव को स्कूल गेट से लौटाया जा रहा हर दिन, इस विवाद में पिस रहा मासूम

संवाद न्यूज एजेंसी, चमोली Published by: देहरादून ब्यूरो Updated Thu, 23 Mar 2023 05:37 PM IST
सार

इस वर्ष आरव को तीसरी कक्षा में प्रवेश लेना था, लेकिन विवाद के चलते उसका अभी तक दाखिला भी नहीं हो पाया है। आरव के पिता जसवीर सिंह ने आरोप लगाया कि विद्यालय प्रबंधन की ओर से आरव को स्कूल गेट के भीतर भी नहीं आने दिया जा रहा है।

Chamoli School keeping eight year old Aarav away from education innocent getting caught in dispute Uttarakhand
प्रतीकात्मक तस्वीर - फोटो : फाइल फोटो

विस्तार

चार साल से स्कूल जा रहे आठ साल के आरव को एक सप्ताह से स्कूल प्रशासन गेट से ही लौटा दे रहा है। इससे मायूस होकर आरव गेट से ही बेरंग घर लौट आता है। दरअसल, आरव के पिता और विद्यालय प्रबंधन के बीच कुछ विवाद हुआ है, जिसका खामियाजा आरव उठा रहा है।


मुख्य शिक्षा अधिकारी कुलदीप गैरोला ने कहा कि अभिभावक और विद्यालय प्रबंधन के बीच विवाद में बच्चे को पढ़ाई से वंचित नहीं रखा जा सकता है। उन्होंने प्रधानाचार्य को आरव को शीघ्र दाखिला देने के निर्देश दिए हैं। कोठियालसैंण में संचालित क्राइस्ट एकेडमी विद्यालय में वर्ष 2013 में स्थानीय निवासी जसवीर सिंह की बस चालक के पद पर तैनाती हुई थी। उनका पुत्र आरव इसी स्कूल में पढ़ता है।


वर्ष 2018 के बाद कोरोनाकाल में स्कूल बंद होने के कारण जसवीर सिंह भी विद्यालय नहीं आया। उसके बाद जसवीर और विद्यालय प्रबंधन के बीच पीएफ (प्रोविडेंट फंड) को लेकर विवाद हो गया। यह विवाद अभी तक भी नहीं सुलझ पाया है।

इधर, इस वर्ष आरव को तीसरी कक्षा में प्रवेश लेना था, लेकिन विवाद के चलते उसका अभी तक दाखिला भी नहीं हो पाया है। आरव के पिता जसवीर सिंह ने आरोप लगाया कि विद्यालय प्रबंधन की ओर से आरव को स्कूल गेट के भीतर भी नहीं आने दिया जा रहा है।

क्या कहते हैं प्रधानाचार्य

स्कूल के प्रधानाचार्य फादर अल्बर्ट ने कहा कि जसवीर सिंह 2013 से विद्यालय में बस चालक के पद पर तैनात थे। 2018 में उन्होंने स्वयं नौकरी छोड़ी। बस ड्राइविंग में भी उनकी ओर से लापरवाही बरती गई। दो साल से उसके बच्चे का नियमित दाखिला विद्यालय में नहीं है। इसके लिए उन्हें तीन नोटिस भी भेजे गए हैं। एडमिशन फीस जमा करने पर बच्चे को दाखिला दे दिया जाएगा। जसवीर के पीएफ के भुगतान की कार्रवाई चल रही है। आगे प्रशासन व विद्यालय के उच्च प्रबंधन से जो भी निर्देश प्राप्त होंगे उसके बाद ही आगे की कार्रवाई की जाएगी।

आरव के पिता जसवीर सिंह का कहना है कि आरव नर्सरी से इसी विद्यालय में पढ़ रहा है। प्रत्येक कक्षा में विद्यालय में पूरी फीस भरी गई। मेरे द्वारा पीएफ की मांग की गई, तो विद्यालय प्रबंधन की ओर से आनाकानी की जा रही है। बच्चे को भी विद्यालय के भीतर नहीं आने दिया जा रहा है। प्रत्येक साल एडमिशन फीस के नाम पर मोटी रकम वसूली जा रही है। इस बार मेरे पास पर्याप्त धनराशि नहीं है। यदि पीएफ का भुगतान और बच्चे को तीसरी कक्षा में दाखिला नहीं दिया गया तो गेट पर ही धरना शुरू कर दिया जाएगा।

- प्रधानाचार्य को बच्चे को शीघ्र दाखिला देने के लिए कह दिया गया है। जल्द ही विभागीय टीम भी विद्यालय का दौरा करेगी। हालांकि, अब तक इस संबंध में शिक्षा विभाग को किसी की ओर से कोई लिखित व मौखिक सूचना नहीं मिली है। - कुलदीप गैरोला, सीईओ, गोपेश्वर, चमोली

ये भी पढ़ें...Uttarakhand: गांवों में तेजी से होगा हर घर नल से जल का काम, जल जीवन मिशन के लिए प्रदेश को मिले 403 करोड़

यह गंभीर मामला है। विद्यालय प्रबंधन और अभिभावक के बीच विवाद के चलते बच्चे का शोषण नहीं किया जा सकता है। चमोली कोतवाली से इस संबंध में पूरी जानकारी मांगी जाएगी। - प्रमेंद्र डोबाल, एसपी, चमोली
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें Android Hindi News App, iOS Hindi News App और Amarujala Hindi News APP अपने मोबाइल पे|
Get all India News in Hindi related to live update of politics, sports, entertainment, technology and education etc. Stay updated with us for all breaking news from India News and more news in Hindi.

विज्ञापन
विज्ञापन

एड फ्री अनुभव के लिए अमर उजाला प्रीमियम सब्सक्राइब करें

फॉन्ट साइज चुनने की सुविधा केवल
एप पर उपलब्ध है

बेहतर अनुभव के लिए
4.3
ब्राउज़र में ही
एप में पढ़ें

क्षमा करें यह सर्विस उपलब्ध नहीं है कृपया किसी और माध्यम से लॉगिन करने की कोशिश करें

Followed