विज्ञापन

योग-ध्यान: त्राटक साधना से खोलें अपनी तीसरी आंख, जानिए कैसे

पूनम नेगी Updated Sat, 19 May 2018 09:30 AM IST
open your third eye from the tratak sadhana siddhi
ख़बर सुनें
शिव की ध्यानमुद्रा वाले चित्रों में उनके मस्तक पर दोनों भौंहों के बीच तीसरा नेत्र दिखता है। वैदिक चिंतन इस तीसरी आंख के बारे में कहती है कि योगाभ्यास से साधक अपने तीसरे नेत्र यानी विवेक दृष्टि को जगा सकता है। सामान्यत: दोनों भौंहों के बीच बेर की गुठली के आकार की संरचना होती है। यौगिक सतत् अभ्यास से यह ग्रंथि विकसित की जा सकती है और वह सब देखा समझा जा सकता है, जो दिखाई देने वाली दो आंखों की सामर्थ्य से बाहर है। शास्त्रीय संदर्भ के अनुसार, इस नेत्र यानी विवेक दृष्टि में कुपित होकर शाप देने का सामर्थ्य भी है और अपने वरदानों से लाभान्वित करने की क्षमता भी।
विज्ञापन
विज्ञापन
महाभारत की कथा के अनुसार, गांधारी ने अपने पुत्र दुर्योधन की जान बचाने के लिए अपने आखों की पट्टी खोलकर उसकी देह पर दृष्टिपात कर उसके शरीर को वज्र का सा बना दिया था। इस विवेक दृष्टि यानी तृतीय नेत्र का जागरण एक बहुत बड़ी सिद्धि है। इस प्रयोजन के लिए त्राटक साधना का विधान है। त्राटक की मोटी विधि यह है कि आंखें खोलकर किसी वस्तु को देखा जाए। उसके बाद नेत्र बंद करके उसे मस्तिष्क में अंकित किया जाए। जब तक वह चित्र धुंधला न पड़े, तब तक आंखें बंद रखी जाएं और फिर आंख खोलकर पुन: उसी वस्तु को एकाग्रतापूर्वक देखने के बाद पहले की तरह फिर आंखें बंदकर पुन: उपरोक्त क्रिया की जाए।

योग शास्त्र का मानना है कि त्राटक के सध जाने से योगाभ्यासी का तीसरा नेत्र खुल जाता है। आमतौर पर इस क्रिया को दीपक को माध्यम बनाकर किया जाता है। कंधे की सीध में तीन फुट की दूरी पर दीपक या मोमबत्ती को जलाकर रखा जाता और तीस सेकंड देखने और एक मिनट ध्यान करने का क्रम बार बार दोहराया जाता है। पश्चिमी दुनिया में एक विभिन्न तरीके से त्राटक करने के उल्लेख मिलते हैं। वहां अभ्यासी एक काला गोला बनाते हैं और उसके ठीक बीच में एक सफेद निशान छोड़कर त्राटक करते हैं। विशेषज्ञों के मुताबिक यह ध्यान गुलाब के फूल पर भी सध सकता है, क्योंकि उसका रंग गहरा और एकसमान होता है।

Recommended

विज्ञापन
विज्ञापन
अमर उजाला की खबरों को फेसबुक पर पाने के लिए लाइक करें
विज्ञापन

Spotlight

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

Most Read

Festivals

Shani Pradosh Vrat 2019 : शनि प्रदोष व्रत आज, इस पूजा से प्रसन्न होंगे महादेव

Shani Pradosh Vrat 2019 : भगवान शिव को प्रसन्न करने वाले सभी व्रतों में प्रदोष व्रत बहुत जल्दी ही उनकी कृपा और शुभ फल दिलाता है। पढ़े व्रत की विधि एवं महात्म्य —

18 जनवरी 2019

विज्ञापन

कुंभ: नहाने के बाद खाने की भी सुविधा

देवनगरी प्रयागराज की त्रिवेणी संगम नगरी में चल रहे अर्धकुंभ के अवसर पर सभी लोग गंगा में शाही स्नान कर रहे हैं। बता दें कि 'भईया जी का दाल भात' नाम की संस्था ने लोगों को निशुल्क राजमा चावल का भोजन कराया।

17 जनवरी 2019

आज का मुद्दा
View more polls

Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।

Agree