लोकप्रिय और ट्रेंडिंग टॉपिक्स

Movie Review : सियासत का असली चेहरा दिखाती है द एक्सीडेंटल प्राइम मिनिस्टर

मनोरंजन डेस्क, अमर उजाला, मुंबई Published by: साइस्ता सैफी Updated Fri, 11 Jan 2019 11:37 AM IST
The Accidental Prime Minister
1 of 5
विज्ञापन
फिल्म :   द एक्सीडेंटल प्राइम मिनिस्टर
कलाकार – अनुपम खेर, अक्षय खन्ना, दिव्या सेठ शाह और सुजैन बर्नेट आदि।
निर्देशक – विजय गुट्टे
रेटिंग- ***
सबसे पहले सबसे पहले वाली बात। अगर इस वीकएंड आप इस बात को लेकर भ्रम में हैं कि इस हफ्ते रिलीज हुई फिल्मों उरी- द सर्जिकल स्ट्राइक और द एक्सीडेंटल प्राइम मिनिस्टर में से कौन सी देखनी चाहिए और कौन सी मिस करनी चाहिए तो जवाब सीधा और सपाट है। उरी उन दर्शकों के लिए जिनके दिल में देशभक्ति है और द एक्सीडेंटल प्राइम मिनिस्टर उनके लिए है जो देश के लिए दिमाग से सोचते हैं।

द एक्सीडेंटल प्राइम मिनिस्टर की कहानी शुरू होती है आम चुनाव के नतीजों से और सोनिया गांधी की उस कथित त्याग से जिसमें उन्होंने एक अर्थशास्त्री को देश का प्रधानमंत्री बना दिया। देश को आर्थिक तरक्की के मुहाने तक ले आने वाला एक शख्स कैसे सियासत की गुफा में जाकर फंस जाता है, यही इस फिल्म का सार है। फिल्म ये भी बताती है कि कांग्रेस में जो कुछ है वह बस एक परिवार है और इस परिवार के चारों तरफ ही पार्टी के दूसरे ग्रह चक्कर काटते रहते हैं।
the accidental prime minister
2 of 5
मनमोहन सिंह को ये फिल्म एक हैरान, परेशान और किन्हीं किन्हीं दृश्यों में मानसिक रूप से बलवान व्यक्ति के रूप में पेश करती है। लेकिन, फिल्म का असली एंगल हैं संजय बारू। एक पत्रकार को कैसे लगने लगता है कि वह किसी बड़े नेता का करीबी होने के बाद उसका भाग्यविधाता है, यह देखना फिल्म में असली दिलचस्पी जगाता है।

फिल्म द एक्सीडेंटल प्राइम मिनिस्टर को इसके कलाकारों की अदाकारी के लिए भी देखना बनता है। और, इस विभाग में सौ में से सौ नंबर जिस कलाकार ने हासिल किए हैं, वह है अक्षय खन्ना। हिंदी फिल्मो में फोर्थ वॉल से बात करने (दर्शकों से संवाद) का संभवत: यह पहला प्रयोग है। अक्षय खन्ना ने संजय बारू के दिमाग में चलती रहने वाली योजनाओं को बहुत ही कौशल से अभिनय के जरिए उतारा है।
विज्ञापन
the accidental prime minister
3 of 5
अनुपम खेर के किरदार के बारे में इतना कुछ लिखा-कहा जा चुका है कि उनकी अदाकारी पूरी फिल्म में तलवार की धार पर चलने जैसी हो जाती है। थोड़ा टाइम लगता है दर्शकों को इस किरदार में अनुपम खेर को स्वीकार करने में लेकिन आखिर तक आते आते अनुपम खेर भी छाप छोड़ने में सफल रहते हैं।

इन दोनों के अलावा सोनिया गांधी बनी सुजैन बर्नेट की अदाकारी भी लाजवाब है। आहना कुमरा और अर्जुन माथुर को प्रियंका और राहुल के रूप में फिलर के तौर पर इस्तेमाल किया गया है। दोनों की अदाकारी इन किरदारों की कसौटी पर पूरी तरह खरी नहीं उतरती।
the accidental prime minister
4 of 5
बतौर निर्देशक विजय गुट्टे ने अपनी पहली ही फिल्म में इतनी बड़ी चुनौती स्वीकार की जो मंजे हुए निर्देशक भी अपने करियर में कम ही उठाने को तैयार रहते हैं। हिंदी सिनेमा में बायोपिक अब फैशन है लेकिन जीवित किरदारों की बायोपिक बनाकर सफल हुए निर्देशक गिनती के ही हैं। विजय ने ये ध्यान रखा कि फिल्म को किताब की कहानी के दायरे से बाहर न जाने दिया जाए।

फिल्म में इस्तेमाल किए गए असली फुटेज जब फिल्म की कमजोरी बनने लगते हैं तो वह अक्षय खन्ना की आवाज को इसे संभालने के लिए इस्तेमाल करते हैं। फिल्म की पटकथा जरूर कहीं कहीं कमजोर लगती है। सिवाय इस बात के कि गांधी परिवार मनमोहन सिंह पर हावी रहा, फिल्म मनमोहन सिंह के कार्यकाल में हुए कोयला घोटाले या स्पेक्ट्रम घोटाले की बात नहीं करती।
विज्ञापन
विज्ञापन
the accidental prime minister
5 of 5
फिल्म में गाना कोई है नहीं लेकिन बैकग्राउंड म्यूजिक पर थोड़ी मेहनत और की जा सकती थी। हां, फिल्म का संपादन चुस्त और दुरुस्त है। चार दीवारों के भीतर सियासत अपने असली रंग में कैसी होती है, इसे समझने के लिए फिल्म एक बार देखी जा सकती है। अमर उजाला डॉट कॉम के वीकली फिल्म रिव्यू में द एक्सीडेंटल प्राइम मिनिस्टर को मिलते हैं तीन स्टार।
विज्ञापन
अगली फोटो गैलरी देखें
विज्ञापन

खबरों को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।

खबर में दी गई जानकारी और सूचना से आप संतुष्ट हैं?
सबसे विश्वसनीय Hindi News वेबसाइट अमर उजाला पर पढ़ें Entertainment News से जुड़ी ब्रेकिंग अपडेट। मनोरंजन जगत की अन्य खबरें जैसे Bollywood News, लाइव टीवी न्यूज़, लेटेस्ट Hollywood News और Movie Reviews आदि से संबंधित ब्रेकिंग न्यूज़।
 
रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें अमर उजाला हिंदी न्यूज़ APP अपने मोबाइल पर।
Amar Ujala Android Hindi News APP Amar Ujala iOS Hindi News APP
विज्ञापन
एप में पढ़ें
जानिए अपना दैनिक राशिफल बेहतर अनुभव के साथ सिर्फ अमर उजाला एप पर
अभी नहीं

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
डेली पॉडकास्ट सुनने के लिए सब्सक्राइब करें

क्लिप सुनें

00:00
00:00