बेहतर अनुभव के लिए एप चुनें।
INSTALL APP

दर्दनाक लव स्टोरी, रईस की बेटी का ढाबे वाले के बेटे से प्रेम

amarujala.com- Presented by: जया पाण्डेय Updated Mon, 22 May 2017 02:40 PM IST
विज्ञापन
नरेश और स्वाति(फाइल फोटो)
नरेश और स्वाति(फाइल फोटो)

पढ़ें अमर उजाला ई-पेपर
कहीं भी, कभी भी।

ख़बर सुनें
तेलंगाना के नालगोंडा जिले के लिंगाराजपल्ली गांव का सबसे बड़ा घर तुम्मला श्रीनिवास रेड्डी का है। वह एक बड़े किसान हैं, बहुत सारी संपत्ति के मालिक है और टीडीपी के पूर्व मंडल अध्यक्ष के रूप में काफी ताकतवर है। दूसरी ओर वेंकटैया पिछड़ी जाति का मुंबई में एक ढाबेवाला।
विज्ञापन


दोनों परिवारों के बीच की गहरी खाई काफी हद तक रेड्डी की बेटी टी स्वाती की मौत और दामाद अंबोजी नरेश के गायब होने का सच बयां करती है। वह 21 साल की थी और वह 23 साल का।


पुलिस ने रेड्डी से अब तक दो बार पूछताछ की है। हर बार ये बात सामने आई है कि दोनों ने रेड्डी की इच्छा के खिलाफ जाकर 25 मार्च को शादी कर ली थी। रेड्डी द्वारा शिकायत दर्ज कराने के बाद दोनों लिंगाराजपल्ली वापस लौट आए। बता दें नरेश और स्वाति की मुलाकात वालीगोंडा के प्रगति कॉलेज में हुई, जहां दोनों पढ़ाई करते थे। 

वेंकेटैया मुंबई के सायन कोलीवाड़ा में अपनी पत्नी इंदिरम्मा के साथ रहते हैं, लेकिन उनके पिता और भाई परिवार के मूल निवास पालेराला गांव में रहते हैं जबकि नरेश हॉस्टल कैंपस में रहता था। 

नरेश के परिवार का कहना है कि वे नरेश और स्वाति के बीच पनप रहे प्यार से अनजान थे। जब दोनों ने शादी का फैसला लिया तब उन्हें इस बात की जानकारी हुई। वे मुंबई गए, गेटवे ऑफ इंडिया के पास एक होटल में रहे और 25 मार्च को अपनी शादी रजिस्टर करवाई। इसके बाद स्वाति एंटॉपहिल पुलिस स्टेशन पहुंची और वहां के एसएचओ को बताया कि उसे अपने पिता से जान का खतरा है। उसने बताया एक पिछड़ी जाति के लड़के से शादी को उसके पिता कभी स्वीकार नहीं करेंगे। इसके बाद एसएचओ ने स्वाति के पिता को पुलिस स्टेशन बुलाया। 

नरेश के पिता वैंकेंटैया ने बताया वह डर गए थे। उन्होंने कहा कि मैं वहां गया था लेकिन मैंने उन्हें आशीर्वाद भी नहीं दिया क्योंकि मुझे पता था कि दोनों ने गलती की है। बाद में ये बड़ी परेशानी का कारण बनेगा। हमारे गांव में जाति बड़ा मुद्दा है, और अगर एक निचली जाति का व्यक्ति ऊंची जाति की महिला से शादी करता है, तो ये परेशानी का कारण तो बनता ही है। मैंने पुलिस को समझाने की कोशिश की कि वे लड़की के पिता को बुलाकर उसे उन्हें सौंप दें। लेकिन पुलिस ने कहा कि दोनों व्यस्क हैं इसलिए शादी करने के लिए स्वतंत्र हैं। मैंने स्वाति को भी समझाने की कोशिश की कि वह अपने घर वापस लौट जाए, लेकिन पुलिस ने मुझे पुलिस स्टेशन से बाहर खदेड़ दिया।  
विज्ञापन
आगे पढ़ें

घर वापस आकर फिर भाग निकले स्वाति और नरेश

विज्ञापन

आपकी राय हमारे लिए महत्वपूर्ण है। खबरों को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।

खबर में दी गई जानकारी और सूचना से आप संतुष्ट हैं?
विज्ञापन
विज्ञापन
सबसे विश्वसनीय हिंदी न्यूज़ वेबसाइट अमर उजाला पर पढ़ें हर राज्य और शहर से जुड़ी क्राइम समाचार की
ब्रेकिंग अपडेट।
 
रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें अमर उजाला हिंदी न्यूज़ APP अपने मोबाइल पर।
Amar Ujala Android Hindi News APP Amar Ujala iOS Hindi News APP
विज्ञापन
विज्ञापन

Spotlight

विज्ञापन
Election
  • Downloads

Follow Us