विज्ञापन

कितना उचित है गर्भावस्था में डाइटिंग करना?

Priyanka Padlikar Updated Mon, 20 Aug 2012 01:34 PM IST
how relevant is dieting during pregnancy
विज्ञापन
ख़बर सुनें
आमतौर महिलाओं को गर्भावस्था के दौरान डाइटिंग से परहेज करने की सलाह दी जाती है। लेकिन हाल में 'ब्रिटिश मेडिकल जर्नल' में छपे एक शोध के मुताबिक गर्भावस्था में डाइटिंग बिल्कुल सुरक्षित है और इससे बच्चे को किसी भी प्रकार का नुकसान नहीं पहुंच सकता।
विज्ञापन

क्वीन्स मैरी यूनिवर्सिटी ऑफ लंदन के इस शोधकर्ताओं ने 7000 महिलाओं पर किए गए 44 अध्ययनों के आधार पर यह दावा किया है।

बना रहे कैलोरी का बैलेंस
शोधकर्ताओं ने डाइट और व्यायाम का तुलनात्मक अध्ययन किया। उन्होंने पाया कि यदि डाइटिंग के दौरान संतुलित मात्रा में कैलोरी कोई महिला ले रही है तो उसे डाइटिंग से कोई खतरा नहीं है।

शोध में गर्भावस्था के दौरान महिलाओं के वजन और उससे संबंधित समस्याओं का अध्ययन किया गया और पाया गया कि जिन गर्भवती महिलाओं के लिए वजन कम करना जरूरी है, उचित डाइटिंग से उनका वजन चार किलो तक कम हो सकता है। वहीं व्यायाम से औसतन 0.7 किलो वजन ही कम होगा। हालांकि शोधकर्ताओं का मानना है कि उन्हें अभी इस दिशा में अधिक परीक्षण की जरूरत है।
 
अधिक वजन से हो सकता है खतरा
शोधकर्ता डॉ. शकीला थंगारातिनम ने बताया कि हमने अध्ययन में पाया कि जिन गर्भवती महिलाओं का वजन जरूरत से ज्यादा है, उन्हें व उनके बच्चों के लिए समस्याओं की आशंका भी अधिक है। ऐसे में उन्हें डॉक्टरी सलाह पर वजन कम करने के तरीके अपनाने चाहिए।

दूसरा भी है पहलू      
दूसरी ओर, सैंट थॉमस अस्पताल के विशेषज्ञों का मानना है कि इस संबंध में अभी किसी निष्कर्ष पर पहुंचना जल्दबाजी होगा। डॉ. जेनिन स्टॉकडेल के अनुसार, जब तक इस दिशा में हमें ठोस प्रमाण न मिलें तब तक गर्भवती महिलाओं को डाइटिंग की सलाह देना वाजिब नहीं।

Recommended

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
अमर उजाला की खबरों को फेसबुक पर पाने के लिए लाइक करें  

रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें Android Hindi News App, iOS Hindi News App और Amarujala Hindi News App अपने मोबाइल पे|
Get all update about cricket news, Entertainment news , fitness news, bollywood news in hindi. Stay updated with us for all breaking hindi news.

विज्ञापन

Spotlight

विज्ञापन

Most Read

Healthy Food

स्वाद बढ़ाने वाले गरम मसालों का सेहत पर पड़ता है ये प्रभाव, फायदे के साथ नुकसान भी जान लें

काली मिर्च वात और कफ का शमन करती है और पित्त बढ़ाती है। काली मिर्च की तासीर गर्म होती है। वहीं, पीपल स्नायुतंत्र को ठीक रखने के लिए अधिक उपयोगी रहती है।

19 सितंबर 2018

विज्ञापन

Related Videos

तांबे का बर्तन इन चीजों को बना देता है जहर

तांबे के बर्तन में रखा पानी अमृत समान माना जाता है। लेकिन यही तांबा और चीजों के साथ मिलकर खाने को जहर भी बना सकता है।

4 फरवरी 2018

आज का मुद्दा
View more polls

Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।

Agree