बेहतर अनुभव के लिए एप चुनें।
INSTALL APP

Safalta Talks: डिप्टी कलेक्टर का पद छोड़ DSP बनने की ठानी, जानिए क्या है इस अफसर की कहानी

Media Solution Initiative Published by: पीआर डेस्क Updated Mon, 17 May 2021 08:25 PM IST

सार

Safalta Talks में मिलिए मध्य प्रदेश के डिप्टी एसपी मयंक तिवारी ने। मध्य प्रदेश लोक सेवा आयोग (MPPSC) की परीक्षा में चौथा रैंक प्राप्त करने के बाद जब उन्हें आसानी से डिप्टी कलेक्टर की जॉब मिल रही थी तो मयंक ने पुलिस सर्विस का चुनाव किया और बन गए डिप्टी एसपी। 
विज्ञापन
dsp mayank tiwari/ Safalta Talks
dsp mayank tiwari/ Safalta Talks - फोटो : dsp mayank tiwari/ Safalta Talks
ख़बर सुनें

विस्तार

हम सभी जानते हैं कि किसी भी बड़ी और प्रतिष्ठित नौकरी के लिए लोगों को कितना परिश्रम और संघर्ष करना पड़ता है। हालांकि जब बात फील्ड वर्क या ऑफिस वर्क की हो तो ज्यादातर लोग एयर कंडीशनर कमरों वाली ऑफिस की ही नौकरी का चुनाव करते हैं। लेकिन कई ऐसे लोग भी होते हैं जो देश और समाज के लिए ऑफिस की आरामदायक नौकरी छोड़ फील्ड में उतरने का फैसला करते हैं और समाज में फैली समस्याओं को दूर करने की जिम्मेदारी उठाते हैं। ऐसा ही कुछ किया मध्य प्रदेश के डिप्टी एसपी मयंक तिवारी ने। मध्य प्रदेश लोक सेवा आयोग (MPPSC) की परीक्षा में चौथा रैंक प्राप्त करने के बाद जब उन्हें आसानी से डिप्टी कलेक्टर की जॉब मिल रही थी तो मयंक ने पुलिस सर्विस का चुनाव किया और बन गए डिप्टी एसपी। हालांकि इस तरह का फैसला बहुत कम लोग ही कर पाते हैं। क्योंकि फील्ड में उतरकर अपराध खत्म करना और लॉ ऐंड ऑर्डर बनाना कोई आसान काम नहीं है। इसमें राजनीतिक और सामाजिक दबाव होता है। यही वजह है कि अधिकतर युवा ऐडमिनिस्ट्रेशन की जॉब में ही जाना पसंद करते हैं। लेकिन मयंक ने ये राह चुनी और देश के युवाओं को समाज सेवा करने के लिए प्रेरित किया।
विज्ञापन


मयंक ने ये फैसला क्यों किया, जानें उन्हीं की जुबानी:
मयंक ने अपने इस फैसले के पीछे का कारण बताया कि उनकी स्कूली शिक्षा के दौरान उनके गृह नगर में एक आईपीएस अधिकारी के आने से पूरे शहर की तस्वीर बदल गई। अपराध और गुंडागर्दी कम हो गई। एक अकेले अधिकारी के आने से इतना परिवर्तन होता देख मयंक ने भी पुलिस अफसर बनने का निश्चय कर लिया।

Safalta Talks के माध्यम से मयंक तिवारी ऐसे ही कई अनुभव युवाओं के सामने रखेंगे। ये सेशन बेहद ही खास होने वाला है क्योंकि इसमें मयंक बताएंगे कि कैसे एक युवा का जुनून और कुछ कर दिखाने का जज्बा उसके लक्ष्य को प्राप्त करने में उसकी सहायता करता है। साथ ही इस सेशन में अभ्यर्थियों के सवालों का जवाब भी दिया जाएगा।

बता दें कि इस सेशन का आयोजन 18 मई को शाम 4 बजे होगा। आप Safalta Class के यूट्यूब चैनल पर इस सेशन को देख सकते हैं। इसके अलावा आप इस लिंक पर क्लिक कर भी इस सेशन को देख सकते हैं- https://youtu.be/e45uo3Z3ZqM

आपकी राय हमारे लिए महत्वपूर्ण है। खबरों को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।

खबर में दी गई जानकारी और सूचना से आप संतुष्ट हैं?
विज्ञापन
विज्ञापन

 रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें अमर उजाला हिंदी न्यूज़ APP अपने मोबाइल पर।
Amar Ujala Android Hindi News APP Amar Ujala iOS Hindi News APP

विज्ञापन
विज्ञापन

Spotlight

  • Downloads

Follow Us