विज्ञापन
Hindi News ›   India News ›   Xerox 914: Why did the company provide a fire extinguisher with the world's first photocopy machine

जेरॉक्स 914: दुनिया की पहली फोटोकॉपी मशीन के साथ क्यों मिलता था आग बुझाने वाला यंत्र

न्यूज डेस्क, अमर उजाला, नई दिल्ली Published by: श्रीधर मिश्रा Updated Sun, 10 May 2020 06:19 PM IST
Xerox 914: Why did the company provide a fire extinguisher with the world's first photocopy machine
Xerox 914 - फोटो : Social Media

क्या आपने कभी सोचा है कि अगर हमारे पास फोटोकॉपी मशीन नहीं होती तो हमारी जिंदगी कैसी होती? आज हम एक पन्ने की सैकड़ों फोटोकॉपी महज चंद मिनटों में पा जाते हैं, लेकिन क्या आपने सोचा है कि दुनिया की पहली फोटोकॉपी मशीन कैसी थी? तो चलिए आज हम आपको दुनिया की पहली फोटोकॉपी मशीन से जुड़ी कुछ मजेदार बातों के बारे में बताते हैं।



दो दोस्तों की मेहनत से बना जेरॉक्स 914

जेरॉक्स 914 दुनिया की सबसे पहली फोटोकॉपी मशीन है। इसकी कहानी कुछ ऐसी है कि इसे साल 1959 में  चेस्टर कार्लसन ने बनाया था। उनके इस आविष्कार में उनके इंजीनियर दोस्त ऑटो कॉरनेई ने भी उनकी मदद की थी। 


कैसे पड़ा जेरॉक्स 914 नाम?

अब आप सोच रहे होंगे कि दुनिया की सबसे पहली फोटोकॉपी मशीन का नाम जेरॉक्स 914 क्यों पड़ा? तो इसका जवाब इसके फीचर में छिपा है। यह मशीन 9 इंच/14 इंच (229 मिलीमीटर × 356 मिलीमीटर) की साइज तक वाले कागजों की कॉपी कर सकती थी।
विज्ञापन
विज्ञापन

रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें Android Hindi News apps, iOS Hindi News apps और Amarujala Hindi News apps अपने मोबाइल पे|
Get all India News in Hindi related to live update of politics, sports, entertainment, technology and education etc. Stay updated with us for all breaking news from India News and more news in Hindi.

विज्ञापन
विज्ञापन

एड फ्री अनुभव के लिए अमर उजाला प्रीमियम सब्सक्राइब करें

Independence day

अतिरिक्त ₹50 छूट सालाना सब्सक्रिप्शन पर

Next Article

फॉन्ट साइज चुनने की सुविधा केवल
एप पर उपलब्ध है

app Star

ऐड-लाइट अनुभव के लिए अमर उजाला
एप डाउनलोड करें

बेहतर अनुभव के लिए
4.3
ब्राउज़र में ही
X
Jobs

सभी नौकरियों के बारे में जानने के लिए अभी डाउनलोड करें अमर उजाला ऐप

Download App Now

अपना शहर चुनें और लगातार ताजा
खबरों से जुडे रहें

एप में पढ़ें

क्षमा करें यह सर्विस उपलब्ध नहीं है कृपया किसी और माध्यम से लॉगिन करने की कोशिश करें

Followed

Reactions (0)

अब तक कोई प्रतिक्रिया नहीं

अपनी प्रतिक्रिया व्यक्त करें