विज्ञापन

किसानों के संघर्ष की ये है असली वजह, एमपी-महाराष्ट्र में इसलिए मचा बवाल

amarujala.com- Written by : हरेन्द्र सिंह मोरल Updated Wed, 07 Jun 2017 02:08 PM IST
What is the reason of farmers movement in MP and maharashtra
ख़बर सुनें
देश के हृदयस्‍थल मध्यप्रदेश में एक जून से किसान आंदोलन कर रहे हैं। यह आंदोलन मंगलवार को उग्र हुआ तो सीआरपीएफ की फायरिंग में आकर छह किसानों की मौत हो गई। अब सरकार मुआवजे का मरहम लगाकर जख्मों को ढकने की कोशिश कर रही है। दूसरी ओर कुछ ऐसे ही हालात महाराष्ट्र के भी बने हुए हैं।
विज्ञापन
हालांकि बड़ा बवाल मचने से पहले ही महाराष्ट्र सरकार ने किसानों की मांगों को मानकर विवाद को टाल दिया। लेकिन बड़ा सवाल ये है कि अचानक देशभर के किसान इतना उग्र क्यों हुए? किसानों की ऐसी क्या मजबूरी हुई कि उन्हें अपना हक पाने के लिए लाठी गोली खाने को मजबूर होना पड़ गया?

खासकर भाजपा शासित राज्यों में किसान सीधे-सीधे सरकार से टकराव के मूड़ में क्यों हैं? जानकारों की मानें तो इसके पीछे कई कारण नजर आ रहे हैं? आइए डालते हैं उन कारणों पर एक निगाह-
विज्ञापन
आगे पढ़ें

ये हैं किसानों के आंदोलन की वजह

विज्ञापन

Recommended

कुंभ मेले में अतुल धन, वैभव, समृधि प्राप्ति हेतु विशेष पूजा करवायें मात्र ₹1100 में
त्रिवेणी संगम पूजा

कुंभ मेले में अतुल धन, वैभव, समृधि प्राप्ति हेतु विशेष पूजा करवायें मात्र ₹1100 में

विज्ञापन
विज्ञापन
अमर उजाला की खबरों को फेसबुक पर पाने के लिए लाइक करें

रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें Android Hindi News apps, iOS Hindi News apps और Amarujala Hindi News apps अपने मोबाइल पे|
Get all India News in Hindi related to live update of politics, sports, entertainment, technology and education etc. Stay updated with us for all breaking news from India News and more news in Hindi.

विज्ञापन

Spotlight

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

Most Read

India News

यूएई की राजकुमारी के बदले हुआ मिशेल का प्रत्यर्पण? यूएन में जा सकता है मामला

आरोपों की माने तो अगुस्टा वेस्टलैंड हेलिकॉप्टर सौदे में आरोपी क्रिश्चयन मिशेल को दुबई से इसी शर्त पर प्रत्यर्पित किया गया कि राजकुमारी लतीफा को दुबई वापस भेज दिया जाए जाएगा।

16 जनवरी 2019

विज्ञापन

5 साल, 50 बयान | मणिशंकर अय्यर के चाय वाले बयान ने कैसे मोदी को मुंहमांगी मुराद दे दी

पूरे पांच साल हो गए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के मुंह से चाय की बात सुनते। कभी-कभी कुछ चीजें इतनी मशहूर हो जाती हैं कि याद ही नहीं रहता--वो शुरू कैसे हुईं। चाय-चायकार भी उनमें से एक हैं। आपको पांच साल पहले की सर्दियों में ले चलते हैं।

16 जनवरी 2019

आज का मुद्दा
View more polls
Niine

Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।

Agree