1984 का वह मनहूस मंजर, जब सड़कों पर बिखरी थीं लावारिस लाशें

तवलीन सिंह/ अमर उजाला, नई दिल्ली Updated Mon, 06 Nov 2017 12:44 PM IST
 Tavleen Singh expressed the Heinous seen of 1984 sikh riots when bodies are spread on roads
सिख संस्थाओं ने 1984 दंगों के पीड़ितों को न्याय दिलवाने की बहुत कोशिश की, लेकिन आज तक न कोई राजनेता दंडित हुआ है, न कोई पुलिस अधिकारी और न ही कोई सरकारी अफसर। इसलिए, 1984 के उन दिनों के बारे में जितना लिखा जाए, जितनी बार लिखा जाए, कम होगा।
हर वर्ष इस सप्ताह मेरी आंखों के सामने वह दृश्य लौटकर आते हैं, जो 33 वर्ष पूर्व मैंने अपनी आंखों से दिल्ली की गलियों में देखे थे। ऐसा लगता है, जैसे वे दर्दनाक घटनाएं कल हुई हों। वे यादें इतनी ताजा हैं कि मुझे फिर से दिखती हैं सड़कों पर पड़ी हुईं वे लावारिस लाशें, वे जली हुई, बर्बाद बस्तियां, वे डर के मारे भागते सिख परिवार।

हर वर्ष इस सप्ताह मैं अपने आपसे वही सवाल करती हूं, जो इतने वर्षों से करती आई हूं कि इस महीने के पहले सप्ताह में कैसे हुआ कि 3,000 से ज्यादा सिख तीन दिनों में भारत की राजधानी में मारे गए हों और अभी तक न्याय की संभावना भी न दिखती हो? इस सवाल से जुड़ा एक दूसरा सवाल है, जो मुझे परेशान करता रहता है कि इस नरसंहार को कैसे मेरे पत्रकार बंधु दंगा-फसाद कहते आए हैं?

पढ़ें: ऑपरेशन ब्लू स्टार: 6 अहम किरदारों में एक थीं इंदिरा गांधी, पढ़िए क्या भूमिका निभाई थी

मेरी उम्र के पत्रकारों ने अपनी आंखों से देखा होगा किस सुनियोजित ढंग से कांग्रेस ने इस नरसंहार को करवाया था, फिर भी इनमें से शायद ही कोई होगा, जो इंदिरा गांधी की हत्या के बाद हुई इस हिंसा को दंगा न कहता हो। ये वही पत्रकार हैं, जिन्होंने 2002 के गुजरात दंगों को लेकर नरेंद्र मोदी पर बार-बार कीचड़ फेंका है। इसमें से कुछ ऐसे हैं, जो व्यक्तिगत तौर पर मोदी को उस हिंसा के लिए जिम्मेदार ठहराते आए हैं, लेकिन इनमें से एक ने भी कभी राजीव गांधी पर 1984 वाले नरसंहार का दोष नहीं थोपा है।
आगे पढ़ें

रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें Android Hindi News App, iOS Hindi News App और Amarujala Hindi News APP अपने मोबाइल पे|
Get all India News in Hindi related to live update of politics, sports, entertainment, technology and education etc. Stay updated with us for all breaking news from India News and more news in Hindi.

Spotlight

Most Read

India News

आरबीआई की रिपोर्ट में खुलासा: हर चार घंटे में बैंक का एक स्टाफ पकड़ा जाता है फ्रॉड केस में

आरबीआई की एक रिपोर्ट में हैरान कर देने वाले तथ्य सामने आए हैं।

18 फरवरी 2018

Related Videos

नीरव मोदी को लेकर बीजेपी कांग्रेस में गुत्थमगुत्था

लगाया। साथ ही कहा कि बीजेपी ने इस पूरे मामले का पर्दाफाश किया है कांग्रेस ने घोटाला किया है।

18 फरवरी 2018

Switch to Amarujala.com App

Get Lightning Fast Experience

Click On Add to Home Screen