बेहतर अनुभव के लिए एप चुनें।
INSTALL APP

महिलाओं के खिलाफ देशभर में अपराध बढ़े, उत्तर प्रदेश में सबसे ज्यादा मामले, दिल्ली में सुधरे हालात

न्यूज डेस्क, अमर उजाला, नई दिल्ली Published by: Nilesh Kumar Updated Tue, 22 Oct 2019 12:37 AM IST
विज्ञापन
महिलाओं के खिलाफ देशभर में बढ़े अपराध
महिलाओं के खिलाफ देशभर में बढ़े अपराध

पढ़ें अमर उजाला ई-पेपर
कहीं भी, कभी भी।

ख़बर सुनें
देश में महिलाओं के प्रति अपराध कम नहीं हो रहे हैं, बल्कि बढ़ते जा रहे हैं। राष्ट्रीय अपराध रिकॉर्ड ब्यूरो (एनसीआरबी) की ताजा रिपोर्ट के मुताबिक साल 2017 में 50 लाख 07 हजार 44 अपराध के मामले दर्ज किए गए, जिनमें से तीन लाख 59 हजार 849 मामले महिलाओं के खिलाफ अपराध संबंधी हैं। 
विज्ञापन


साल 2015 में महिलाओं के प्रति अपराध के तीन लाख 29 हजार 243 मामले दर्ज किए गए। 2016 में इस आंकड़े में नौ हजार 711 मामलों की बढ़ोतरी हुई और तीन लाख 38 हजार 954 मामले दर्ज किए गए। वहीं साल 2017 में ऐसे 20 हजार 895 मामले और बढ़ गए और इस साल तीन लाख 59 हजार 849 मामले दर्ज किए। 


उत्तर प्रदेश में महिलाओं के प्रति अपराध के मामले सबसे ज्यादा दर्ज हुए हैं और उतनी ही तेजी से बढ़े भी हैं। वहीं, लक्षद्वीप, दमन व दीव, दादरा व नगर हवेली जैसे केंद्र शासित प्रदेश और नागालैंड में महिलाओं के प्रति अपराध के सबसे कम मामले दर्ज किए गए हैं। 

उत्तर प्रदेश में तेजी से बढ़ी घटनाएं, दिल्ली में आई कमी

उत्तर प्रदेश में महिलाओं के प्रति अपराध के दर्ज मामलों की संख्या साल 2015 में 35 हजार 908 और साल 2016 में 49 हजार 262 थी। जबकि साल 2017 में कुल 56 हजार 11 मामले दर्ज किए गए। 

वहीं एनसीआरबी के आंकड़े दिल्ली में काफी हद तक हालात सुधरने की ओर इशारा कर रहे हैं। दिल्ली में महिलाओं के प्रति अपराध के दर्ज मामलों की संख्या साल 2015 में 17 हजार 222 और साल 2016 में 15 हजार 310 थी। वहीं 2017 में इन आंकड़ों में कमी आई और 13 हजार 76 मामले दर्ज किए गए। 

मध्य प्रदेश में महिलाओं के प्रति अपराध बढ़ा, राजस्थान में घटा 

एनसीआरबी की रिपोर्ट राजस्थान में भी कुछ हद तक हालात सुधरने की ओर इशारा कर रही है, वहीं मध्य प्रदेश में स्थिति खराब हुई है। मध्य प्रदेश में महिलाओं के प्रति अपराध के दर्ज मामलों की संख्या साल 2015 में 24 हजार 231 और साल 2016 में 26 हजार 604 थी। वहीं 2017 में 29 हजार 788 मामले दर्ज किए गए। 

वहीं, राजस्थान में महिलाओं के प्रति अपराध के दर्ज मामलों की संख्या साल 2015 में 28 हजार 224 और साल 2016 में 27 हजार 422 थी। वहीं 2017 में मामलों में कमी आई और 25 हजार 993 मामले दर्ज किए गए। 

बिहार में साल 2015, 2016 और 2017 में क्रमश: 13 हजार 904, 13 हजार 400 और 14 हजार 711 मामले महिलाओं के प्रति अपराध के दर्ज किए गए। वहीं, महाराष्ट्र में महिलाओं के खिलाफ दर्ज मामलों की संख्या साल 2015, 2016 और 2017 में क्रमश: 31 हजार 216, 31 हजार 388 और 31 हजार 979 है।

देशभर में साल 2015, 2016 और 2017 में महिलाओं के प्रति अपराध के कितने मामले दर्ज किए गए, नीचे की तालिका में देखा जा सकता है: 

तीन सालों के राज्यवार आंकड़े:

राज्य

2015

2016

2017

उत्तर प्रदेश  35908  49262  56011 
दिल्ली 17222 15310 13076
आंध्र प्रदेश  15967 16362 17909 
अरुणाचल प्रदेश 384 367 337 
असम 23365 20869 23082 
बिहार 13904 13400 14711
छत्तीसगढ़ 5783 5947 7996 
गोवा 392 371 369 
गुजरात 7777 8532 8133 
हरियाणा 9511 9839 11370 
हिमाचल प्रदेश 1295 1222 1246 
जम्मू कश्मीर 3366 2850 3129 
झारखंड 6568 5453 5911 
कर्नाटक 12775 14131 14078 
केरल 9767 10034 11057
मध्य प्रदेश 24231 26604 29788 
महाराष्ट्र 31216 31388 31979 
मणिपुर 266 253 236 
 मेघालय 337 372 567 
मिजोरम 158 120 301 
नागालैंड  91 105 79 
ओडिशा 17200 17837 20098 
पंजाब 5340 5105 4620 
राजस्थान 28224 27422 25993 
सिक्किम 53 153 163 
तमिलनाडु 5919 4463 5397 
तेलंगाना 15425 15374 17521 
त्रिुपरा 1267 1013 972 
पश्चिम बंगाल 33318 32513 30992 
उत्तराखंड 1465 1588 1944 
अंडमान निकोबार   136 108 132 
चंडीगढ़ 468 414 453 
दादरा व नगर हवेली 25 28 20 
दमन और दीव 29 41 26 
लक्षद्वीप 9 9 6
पुड्डुचेरी 82 95 147
------------------- --------- --------- --------
पूरे देश मे कुल 329243 338954 359849

# स्रोत: NCRB

आपकी राय हमारे लिए महत्वपूर्ण है। खबरों को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।

खबर में दी गई जानकारी और सूचना से आप संतुष्ट हैं?
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें Android Hindi News apps, iOS Hindi News apps और Amarujala Hindi News apps अपने मोबाइल पे|
Get all India News in Hindi related to live update of politics, sports, entertainment, technology and education etc. Stay updated with us for all breaking news from India News and more news in Hindi.

विज्ञापन
विज्ञापन

Spotlight

विज्ञापन
Election
  • Downloads

Follow Us