देश में हर राज्य में आईपीएस अफसरों की कमी, खाली पड़े हैं 958 पद

डिजिटल ब्यूरो, अमर उजाला, नई दिल्ली Updated Wed, 04 Mar 2020 07:20 PM IST
विज्ञापन
आईपीएस अफसर।
आईपीएस अफसर। - फोटो : amar ujala

पढ़ें अमर उजाला ई-पेपर
कहीं भी, कभी भी।

*Yearly subscription for just ₹299 Limited Period Offer. HURRY UP!

ख़बर सुनें

सार

उड़ीसा में आईपीएस अफसरों की सबसे ज्यादा कमी है। वहां पर आईपीएस के 195 पद स्वीकृत हैं। इनमें से 120 पद भरे हैं और 75 पद खाली पड़े हैं। इसी तरह उत्तरप्रदेश में 72 पद और पश्चिम बंगाल में 75 पद खाली हैं।  

विस्तार

देश में आईपीएस अधिकारियों की कमी है। एक भी राज्य ऐसा नहीं है, जहां पर आईपीएस की संख्या स्वीकृत संख्या के मुताबिक हो। सभी राज्यों में पद रिक्त हैं। हर साल 150 आईपीएस अधिकारियों की भर्ती की जाती है, लेकिन इसके बावजूद मौजूदा समय में 958 आईपीएस के पद खाली पड़े हैं।
विज्ञापन

उड़ीसा में आईपीएस अफसरों की सबसे ज्यादा कमी है। वहां पर आईपीएस के 195 पद स्वीकृत हैं। इनमें से 120 पद भरे हैं और 75 पद खाली पड़े हैं। इसी तरह उत्तरप्रदेश में 72 पद और पश्चिम बंगाल में 75 पद खाली हैं।

जानिये कहां पर कितने आईपीएस के पद पड़े हैं खाली, राज्यवार रिपोर्ट: 

राज्य/कॉडर                स्वीकृत संख्या              सेवारत               रिक्त पद   
आंध्रप्रदेश                    144                            117                    27    
एजीएमयूटी                  309                            252                    57
असम मेघालय              195                            159                    36
बिहार                         242                            212                    30 
छत्तीसगढ़                    142                            115                    27 
गुजरात                       208                             171                   37 
हरियाणा                     144                              114                  30 
हिमाचल प्रदेश              94                               79                    15 
जम्मू-कश्मीर               147                              78                   69 
झारखंड                      149                            124                  25  
कर्नाटक                     215                             175                 40 
केरल                         172                             130                 42 
मध्यप्रदेश                   305                             266                 39 
महाराष्ट्र                      317                             255                 62 
मणिपुर                      89                               64                   25  
नागालैंड                     75                                62                13 
उड़ीसा                      195                              120                75 
पंजाब                       172                              141                31 
राजस्थान                   215                              187                28 
सिक्किम                   32                                 31                 01  
तमिलनाडु                 276                             236                 40 
तेलंगाना                   139                              104                 35 
त्रिपुरा                       69                                53                  16 
उत्तरप्रदेश                517                              445                  72 
उत्तराखंड                73                                62                    11 
पश्चिम बंगाल             347                              272                 75 
कुल                      4982                             4024                958 

गृह मंत्रालय में राज्य मंत्री नित्यानंद राय ने राज्यसभा में पूछे गए एक सवाल के जवाब में बताया कि सेवा में रिक्तियां होने के कई कारण होते हैं। जैसे सेवानिवृति, त्यागपत्र, मृत्यु और सेवा से बर्खास्तगी आदि के चलते पद कम हो जाते हैं। ये सभी कारण आवर्ती प्रकृति के हैं और भर्ती की दर के सापेक्ष हैं।
चूंकि रिक्तियां और भर्ती एक सत्तत प्रक्रिया है, इसलिए किसी भी विशेष ड्यूटी के लिए खाली पड़े पदों को भरने की कोई समय सीमा निर्धारित करना कठिन है। सवाल में यह भी पूछा गया था कि क्या सरकार ने विशेष रूप से वामपंथी उग्रवाद से प्रभावित क्षेत्रों में रिक्त पदों को भरने के लिए समय सीमा निर्धारित की है।

इसके जवाब में राज्य मंत्री का कहना था कि इसके लिए कोई समय सीमा निर्धारित नहीं की गई है। हर साल 150 आईपीएस अधिकारियों की भर्ती की जाती है और उन्हें भारतीय पुलिस सेवा के 26 कैडरों में आवंटित किया जाता है।
 

Trending Video

विज्ञापन
विज्ञापन

रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें Android Hindi News apps, iOS Hindi News apps और Amarujala Hindi News apps अपने मोबाइल पे|
Get all India News in Hindi related to live update of politics, sports, entertainment, technology and education etc. Stay updated with us for all breaking news from India News and more news in Hindi.

विज्ञापन

Spotlight

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
Election
X

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
डेली पॉडकास्ट सुनने के लिए सब्सक्राइब करें

क्लिप सुनें

00:00
00:00
X
  • Downloads

Follow Us