विज्ञापन

क्या बीफ बैन पर संघ का एजेंडा लागू कर रही सरकार?

amarujala.com- Written by: अनंत पालीवाल Updated Wed, 07 Jun 2017 03:27 PM IST
beef ban questions nda government of imposing rss hidden agenda
विज्ञापन
ख़बर सुनें
देश में बीफ बैन को लेकर उत्तर पूर्व, बंगाल से लेकर के केरल और तमिलनाडु तक बवाल मचा हुआ है। 2014 में नरेंद्र मोदी के नेतृत्व में बनी एनडीए सरकार के बाद से इस बात पर बहस काफी बढ़ गई है। विवाद तब और बढ़ गया जब केंद्र के पर्यावरण मंत्रालय ने पशु कटान पर नया नोटिफिकेशन जारी कर दिया। जिसमें स्लाटर हाउस में गाय भैंस सहित कई पशुओं पर बैन और पशु मंडियों में कटान के लिए पशुओं की बिक्री पर रोक की बात कही गई ‌थी।
विज्ञापन
इस नोटिफिकेशन के बाद देशभर में बवाल मच गया। कई संगठनों के साथ राजनीतिक दलों ने भी सरकार के इस कदम की आलोचना करते हुए खुलकर मोर्चा खोल दिया। केरल में कांग्रेस कार्यकर्ताओं ने बीच सड़क गोवंश काटकर विरोध जताया तो चेन्नई आईआईटी में छात्रों ने बीफ पार्टी मनाई। हालांकि इस बीच सरकार की सफाई भी सामने आ गई, जिसमें साफ किया गया कि वह स्लॉटर हाउस पर प्रतिबंध लगाने नहीं जा रही है। हालांकि इस सारे विवाद के बीच बड़ा सवाल ये है कि क्या सरकार राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ के उस अघोषित एजेंडे पर काम कर रही है जिसमें बीफ बैन के साथ पशु कटान पर प्रतिबंध की वकालत की गई है।

दादरी से शुरू हुई थी विवाद की शुरुआत

बीफ पर मचे विवाद की शुरूआत साल 2015 में दिल्‍ली से लगते नोएडा के दादरी तहसील के बिसरख गांव से हुई थी। जहां गांव निवासी अखलाक के घर पर गोमांस पकाए जाने के संदेह में कुछ कथित गो रक्षकों ने अखलाक और उसके बेटे को पीट पीटकर मरणासन्न कर दिया था। इस मुद्दे ने ऐसा तूल पकड़ा कि देश भर में इसके विरोध में तीखी प्रतिक्रिया हुई। कुछ लेखकों ने इसके विरोध में अपने पुरस्कार वापिस किए तो अन्य ने अपने अपने तरीके से इस पर विरोध जताया। हालांकि उस समय की अखिलेश सरकार ने मामले में काफी संख्या में आरोपियों को जेल भेजा था। लेकिन शायद बीफ विवाद को खत्म करने के लिए ये नाकाफी था। 

केंद्र के नए कदम ने भड़काया आक्रोश

अभी देश के 18 राज्यों में गोवंश के स्लॉटर पर बैन लगा हुआ है। बावजूद इसके सरकार के नए नियम (पर्यावरण मंत्रालय के नोटिफिकेशन) से लोगों में ज्यादा गुस्सा दिख रहा है। ऐसा इसलिए क्योंकि आज भी देश में रहने वाले गरीब मुसलमानों, दलितों और ईसाईयों के लिए बीफ खाना प्रोटीन पाने का सबसे सस्ता और सुलभ माध्यम है। सदियों से रहने वाले दलित, मुसलमानों और ईसाईयों के यहां बीफ खाना उनके दैनिक भोजन का हिस्सा है। 

बीफ बन गया है हिंदु बनाम मुस्लिम मुद्दा

मोदी सरकार में बीफ खाना या नहीं खाना हिंदु बनाम मुस्लिम मुद्दा बन गया है। विपक्ष का आरोप है कि सरकार एक तरह से आरएसएस  के एजेंडे को लागू करना चाहती है। आरएसएस का एजेंडा देश को पूरी तरह से शाकाहारी बनाने का है। इस एजेंडे को लागू करवाने के लिए जहां गौरक्षक काफी लंबे समय से प्रयास कर रहे थे। अब केंद्र में मोदी और यूपी में योगी सरकार के आने के बाद इस मुद्दे को काफी हवा मिली है। हालांकि सरकार के आंकड़ों के हिसाब से देश के 70 फीसदी लोग नॉन वेजेटेरियन हैं तो सवाल उठता है कि क्या केंद्र सरकार आरएसएस के इस एजेंडे को लागू करने में पूरी तरह से सफल हो सकेगी?

Recommended

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
अमर उजाला की खबरों को फेसबुक पर पाने के लिए लाइक करें

रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें Android Hindi News apps, iOS Hindi News apps और Amarujala Hindi News apps अपने मोबाइल पे|
Get all India News in Hindi related to live update of politics, sports, entertainment, technology and education etc. Stay updated with us for all breaking news from India News and more news in Hindi.

विज्ञापन

Spotlight

विज्ञापन

Most Read

India News

सुभाष चंद्र बोस के नाम पर अंडमान निकोबार का नाम रखने की मांग, कांग्रेस का पीएम मोदी पर निशाना

नेता जी सुभाष चंद्र बोस के द्वारा देश की पहली अस्थाई सरकार बनाने की 75वीं वर्षगांठ पर पीएम मोदी ने लालकिले पर तिरंगा झंडा फहराया। कांग्रेस नेता राशिद अल्वी ने इसे पीएम का एक और चुनावी स्टंट बताया।

21 अक्टूबर 2018

विज्ञापन

Related Videos

पीएम मोदी ने नेता जी के नाम पर पुलिसकर्मियों के लिए किया बड़ा एलान

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने रविवार को आजाद हिंद सरकार की 75वीं वर्षगांठ पर लाल किले पर तिरंगा फहराया। साथ ही पीएम मोदी ने नेताजी सुभाष चंद्र बोस के नाम से वीरों के लिए सम्मान की शुरुआत करने का एलान किया।

21 अक्टूबर 2018

आज का मुद्दा
View more polls

Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।

Agree