लोकप्रिय और ट्रेंडिंग टॉपिक्स

Hindi News ›   Entertainment ›   Movie Reviews ›   Freddy Review in Hindi By Pankaj Shukla Disney+ Hotstar Kartik Aaryan Aliya F Shashanka Ghosh

Freddy Review: कार्तिक के करियर का ‘शाहरुख खान मोड़’, प्रयोगवादी सिनेमा के तौर पर चौंकाने में कामयाब ‘फ्रेडी’

Pankaj Shukla पंकज शुक्ल
Updated Fri, 02 Dec 2022 12:19 PM IST
सार

कार्तिक आर्यन बतौर अभिनेता हर बार नया करने की कोशिश कर रहे हैं, इस कोशिश मे ही उनका सुनहरा भविष्य छुपा है। अपने 11 साल के करियर में छह हिट फिल्में दे चुके कार्तिक से सिनेमा को भी बड़ी उम्मीदें हैं।

फ्रेडी रिव्यू
फ्रेडी रिव्यू - फोटो : अमर उजाला ब्यूरो, मुंबई
विज्ञापन
Movie Review
फ्रेडी
कलाकार
कार्तिक आर्यन , अलाया एफ , जेनिफर पिसिनाटो और तृप्ति अग्रवाल आदि
लेखक
परवेज शेख
निर्देशक
शशांक घोष
निर्माता
एकता कपूर , जय शेवक्रमानी और गौरव बोस
ओटीटी
डिज्नी+ हॉटस्टार
रेटिंग
3/5

विस्तार

जाते साल का आखिरी महीना सिनेमा के लिहाज से अच्छा शुरू हुआ है। पुराने फॉर्मूलों पर अटके फिल्मकारों को ये नए सबक सिखा रहा है और नए दौर के नए तरह के सिनेमा को बनाने वालों को ये ओटीटी पर मौजूद दर्शकों का भरपूर प्यार दिला रहा है। नेटफ्लिक्स की फिल्म ‘कला’ देखने के बाद डिज्नी+ हॉटस्टार की फिल्म ‘फ्रेडी’ देखना एक सिनेदर्शक के नजरिये से काफी अच्छा अनुभव है। दोनों फिल्मों में हालांकि मुख्य किरदारों की जिंदगी के स्याह पन्नों को पढ़ने की कोशिश ही इनके निर्देशकों ने की है, लेकिन अन्विता दत्त की फिल्म जहां इसके सहायक कलाकारों और संगीत से संजीवनी पाती है, वहीं शशांक घोष ने अपनी फिल्म के हीरो कार्तिक आर्यन के लिए सिनेमा में ‘शाहरुख खान मोमेंट’ रच डाला है। कार्तिक ने अपनी एक और फिल्म ‘धमाका’ में भी प्रयोगवादी सिनेमा बनाने की कोशिश की थी, लेकिन वहां कहानी के वातावरण ने उन्हें धोखा दिया, फिल्म ‘फ्रेडी’ में शशांक ने शुरू से ही पूरा माहौल एक अलग रंग में रच दिया है।

फ्रेडी रिव्यू
फ्रेडी रिव्यू - फोटो : अमर उजाला ब्यूरो, मुंबई
कहानी एक संकोची के प्रतिशोध की
कार्तिक आर्यन बतौर अभिनेता हर बार नया करने की कोशिश कर रहे हैं, इस कोशिश मे ही उनका सुनहरा भविष्य छुपा है। अपने 11 साल के करियर में छह हिट फिल्में दे चुके कार्तिक से सिनेमा को भी बड़ी उम्मीदें हैं। फिल्म ‘फ्रेडी’ में कार्तिक इन्हीं उम्मीदों पर खुद को कसने के लिए आगे आए हैं। किरदार उनका एक दांतों के डॉक्टर का है। पारसी है और शादी के लिए अपनी रिश्तेदार के लगातार दबाव में है। पांच साल से वह सही लड़की की तलाश में भी है, और हालात यहां तक आ पहुंचे हैं कि अब लोग उसका सरेआम मजाक भी उड़ाने लगे हैं। फ्रेडी का अतीत मार्मिक है। उसकी जवानी पर इसका साया अब भी है। और, फिर उसके जीवन में आती है एक शादीशुदा युवती जो अपने पति की हरकतों से परेशान है। दोनों असहज परिस्थितियों में मिलते हैं। सहज होकर अपनी परिस्थितियों से समझौता करते दिखते हैं। मिलते हैं, प्यार करते हैं और फिर सामने आता है वह, जिससे हर किसी का जीवन में कभी न कभी पाला पड़ ही जाता है। उम्मीदों का आईना चकनाचूर होता है। किरमिचें सीने में धंसती हैं, और इंसान जो है, वह छोड़कर कुछ और हो जाता है।

इसे भी पढ़ें- Paresh Rawal: ‘सस्ते गैंस सिलेंडर से बंगालियों के लिए मछली पकाएंगे’, परेश रावल के बयान पर मचा बवाल, मांगी माफी

फ्रेडी रिव्यू
फ्रेडी रिव्यू - फोटो : अमर उजाला ब्यूरो, मुंबई
कार्तिक आर्यन का ‘शाहरुख खान मोमेंट’
निर्देशक शशांक घोष की छवि हिंदी सिनेमा में प्रयोगवादी सिनेमा बनाने की शुरू से रही है। नेटफ्लिक्स पर हालिया रिलीज फिल्म ‘प्लान ए प्लान बी’ में वह भले पटरी से पूरी तरह उतरे रहे हों, यहां फिल्म ‘फ्रेडी’ में उनको अपने हीरो का पूरा साथ मिला है। कार्तिक आर्यन में खुद को बार बार साबित करने की एक जिद और जुनून है। एक कलाकार के तौर पर वह करियर के शुरुआती दिनों के शाहरुख खान के रास्ते पर हैं। फिल्म ‘फ्रेडी’ उनके लिए ‘डर’ और ‘बाजीगर’ जैसा मौका भी मुहैया कराती है। एक संकोची स्वभाव के उम्रदराज होते जा रहे डॉक्टर का किरदार निभाने के लिए उन्होंने शारीरिक परिवर्तन करने की भी अच्छी कोशिश की है। क्लोज अप शॉट्स में उनके चेहरे के हाव भाव भी प्रभावित करते हैं। फ्रेडी का बार बार स्त्रीदेह की तरफ आकर्षित होना उनके किरदार की शुरुआती छवियां बनाता है और इन्हीं छवियों के रूपक को वह फिल्म में आगे चलकर तोड़ते हैं, और वाहवाही लूट ले जाते हैं।

फ्रेडी रिव्यू
फ्रेडी रिव्यू - फोटो : अमर उजाला ब्यूरो, मुंबई
दमदार सहायक कलाकारों की कमी
फिल्म ‘फ्रेडी’ ने इसके निर्देशक शशांक घोष को हिंदी सिनेमा में एक ऐसी पायदान दी है जिस पर खड़े होकर वह अपने करियर की बीती गलतियों से सबक ले सकते हैं और आगे की राह सोच समझकर तय कर सकते हैं। उन्होंने हिंदी सिनेमा को ‘वीरे दी वेडिंग’ जैसी एक ऐसी फिल्म दी है, जिसने महिलाओं की दोस्ती के नए मायने दर्शकों को सिखाए हैं। ये एक ट्रेंडसेटर फिल्म है। इस तरह की फिल्मों में अपने दौर के चर्चित कलाकारों का ला पाना ही उनके ब्रांडिंग की जीत है। फिल्म ‘फ्रेडी’ में उनके साथ दिक्कत ये दिखती है कि वह हीरो तो बड़ा ले आए लेकिन उसके आसपास जाने पहचाने या बेहतर अभिनय कर सकने वाले चेहरे जुटाने में नाकाम रहे। फिल्म की पटकथा सिर्फ और सिर्फ फ्रेडी के आसपास ही बुनी गई है। इसमें मूल कहानी के साथ साथ चलने वाले क्षेपक नहीं हैं और न ही फिल्म में कोई दूसरा ऐसा किरदार है जो कार्तिक आर्यन से दर्शकों का ध्यान कुछ देर के लिए ही सही पर हटा सके।

इसे भी पढ़ें- Kashmera Shah: वन नाइट स्टैंड से शुरू हुई थी कश्मीरा और कृष्णा की लव स्टोरी, ऐसे पहुंची थी शादी तक बात

फ्रेडी रिव्यू
फ्रेडी रिव्यू - फोटो : अमर उजाला ब्यूरो, मुंबई
अलाया एफ और परवेज शेख को एक और मौका
निर्देशन और कार्तिक के अभिनय में अव्वल नंबर रही फिल्म ‘फ्रेडी’ की हीरोइन अलाया मशहूर अभिनेता कबीर बेदी की नातिन हैं। उनका मां पूजा बेदी हिंदी सिनेमा का बेलौस अदाकारा रही हैं। अलाया को दर्शक इससे फिल्म ‘जवानी जानेमन’ में देख चुके हैं। यहां वह अपनी पहली फिल्म से बेहतर दिखती हैं लेकिन अभिनय में अभी उनको बहुत कुछ सीखना बाकी है। उनका अभिनय अभी ओढ़ा हुआ लगता है, वह किरदार में खुद को खो देने से चूक रही हैं। फिल्म के लेखक परवेज शेख भी हिंदी सिनेमा में चौंकाने वाली कहानियों से अपनी पहचान बनाने की कोशिश करते रहे हैं। कंगना रणौत की फिल्म ‘क्वीन’ के बाद से हालांकि उनकी लिखी फिल्मों को बॉक्स ऑफिस पर ‘बजरंगी भाईजान’ को छोड़ अपेक्षित सफलता नहीं मिली लेकिन वह लगातार विविधतापूर्ण कहानियां लिखते जा रहे हैं, वही उनकी असली सफलता है। प्रयोगवादी फिल्मों के शौकीनों के लिए फिल्म ‘फ्रेडी’ इस सप्ताहांत चौंकाने में कामयाब रहने वाली फिल्म है।

फ्रेडी रिव्यू
फ्रेडी रिव्यू - फोटो : अमर उजाला ब्यूरो, मुंबई
‘फ्रेडी’ की दुनिया में खोने के लिए धैर्य जरूरी
फिल्म ‘फ्रेडी’ को देखने के लिए धैर्य की जरूरत है क्योंकि फिल्म अपने पाले में दर्शकों को लाने में थोड़ा समय लेती है, लेकिन एक बार दर्शक का फ्रेडी से सामंजस्य बनता है तो फिर फ्रेडी उन्हें अपने साथ हिचकालों वाली सवारी में बिठा ही लेता है। अयानंका बोस की सिनेमैटोग्राफी फिल्म का माहौल रचने में काफी मदद करती है और इस दौरान हर फ्रेम के लिए सजाई गई रोशनी तारीफ के काबिल है। चंदन अरोड़ा ने फिल्म का संपादन करते समय इसके मूल भाव को पकड़ा है और हालांकि उनके पास संपादन के प्रयोग के ज्यादा मौके नहीं है लेकिन फिल्म को एक तय अवधि में एक बार में देखे जाने लायक फिल्म बनाने में वह कामयाब रहे हैं। फिल्म का गीत संगीत इसका कमजोर पहलू है। इरशाद कामिल धीरे धीरे अपना असर खो रहे हैं और प्रीतम को भी शायद विश्वसंगीत की कुछ अच्छी धुनें इन दिनों मिल नहीं रही हैं।

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
सबसे विश्वसनीय Hindi News वेबसाइट अमर उजाला पर पढ़ें Entertainment News से जुड़ी ब्रेकिंग अपडेट। मनोरंजन जगत की अन्य खबरें जैसे Bollywood News, लाइव टीवी न्यूज़, लेटेस्ट Hollywood News और Movie Reviews आदि से संबंधित ब्रेकिंग न्यूज़।
 
रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें अमर उजाला हिंदी न्यूज़ APP अपने मोबाइल पर।
Amar Ujala Android Hindi News APP Amar Ujala iOS Hindi News APP
विज्ञापन
विज्ञापन

एड फ्री अनुभव के लिए अमर उजाला प्रीमियम सब्सक्राइब करें

Election
एप में पढ़ें
जानिए अपना दैनिक राशिफल बेहतर अनुभव के साथ सिर्फ अमर उजाला एप पर
अभी नहीं

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
डेली पॉडकास्ट सुनने के लिए सब्सक्राइब करें

क्लिप सुनें

00:00
00:00