विज्ञापन
विज्ञापन

जन्मदिन विशेषः फैन नहीं फॉलोअर बनाए हैं रजनीकांत ने

नई दिल्ली/इंटरनेट डेस्क Updated Tue, 11 Dec 2012 05:54 PM IST
birthday special- Rajnikanth made ??followers, not fans
ख़बर सुनें
अब 62 बरस के हो चुके रजनीकांत यदि इस उम्र में भी 22 साल के कॉलेज गोइंग स्टूडेंट्स का किरदार निभाएं तो भी उनके चाहने वाले दर्शक उन पर सिक्के बरसाएंगे। तय है कि फिल्म सुपरहिट होगी और उसकी टिकटें काउंटर खुलने के एक घंटे बाद ही बिक जाएंगी। रजनीकांत एक ऐसे अभिनेता हैं जिन्होंने फैन नहीं बल्कि फालोअर बनाए हैं।
विज्ञापन
10 साल के बच्चे से लेकर 80 की उम्र तक के बूढ़े तक उनकी स्टाईल के फैन हैं। उनकी स्टाइल भी खूब है। उनके बोलने का अंदाज, चलने का तरीका और उछालकर सिगरेट को होठों से दबाने की अदा को कोई कापी नहीं कर सका।

रजनीकांत का असली नाम शिवाजीराव गायकवाड़ है। उनका जन्म 12 दिसंबर 1950 को बैंगलोर में एक मराठा परिवार में हुआ। रजनीकांत की कामयाबी का सफर किसी फिल्मी कहानी से कम नहीं है। एक बस कंडक्टर कैसे देश का सबसे महंगा सितारा बन गया इसकी कहानी बेहद दिलचस्प है। निर्देशक के बालाचंदर ने 1975 में उन्हें एक बस में खास स्टाइल में टिकट काटते देखा था और उन्हें फिल्मों में काम करने का ऑफर दिया।

देखते-देखते अपने अनोखे अंदाज के दम पर एक बस कंडक्टर तमिल सिनेमा का सबसे बड़ा सुपरस्टार बन गया। रजनीकांत का फिल्मी सफर 1975 में अपूर्व 'रागंगल' नाम की फिल्म से शुरू हुआ। बालाचंदर ने इस फिल्म में उन्हें सहायक खलनायक का किरदार दिया था। बाद में रजनी ने हर तरह के रोल निभाए। फिल्मों में रजनीकांत की फीस को लेकर भी उनके एक्शन के तरह ही तरह-तरह की बातें हमेशा होती रहीं हैं।

इंटरनेट की दुनिया में उनसे जुड़ा एक चुटकुला हमेशा जिंदा रहा है। चुटकुला कहता है कि यदि रजनीकांत के समर्थक दर्शकों का एक देश बनाया जाए तो उसकी जनसंख्या मुल्क के कई देशों से ज्यादा होगी। रजनीकांत साऊथ की फिल्में के इतने बड़े सुपरस्टार हैं कि उनके पर्दे पर आने पर हवा में सिर्फ सिक्के और नोट उछलते नजर आते हैं। जब कई सिनेमाघरों के पर्दे सिक्के पड़ने की वजह से खराब होने शुरू हुए तो टिकट के साथ दर्शकों के सिक्के गेट पर चेक किए जाने लगे। दक्षिण भारत में रजनीकांत की लोकप्रियता का आलम यह है कि कि कई बार दोपहर 12 बजे से शुरु होने वाले फिल्मों की शो दर्शकों के दबाव में सुबह के पांच बजे शुरू करने पड़े।

रजनीकांत की हर अदा, उस समय की स्टाईल स्टेटमेंट बन जाती है। साठ के हो चुके रजनी के साथ 20 बरस की नायिकाएं काम करने के इच्छुक हैं। रजनीकांत साऊथ की फिल्मों में सुपरहिट होने की गांरटी हैं। अपनी आखिरी फिल्म 'रोबोट' में उन्होंने भाषा और देश की सीमा को भी लांघ लिया। इसे उनकी लाऊड और ओवरऐक्टिंग का अंदाज कहें या फिर दक्षिण भारतीय नायकों को लेकर दर्शकों का पूर्वाग्रह, कि रजनीकांत हिंदी पट्टी के दर्शकों को बहुत रास नहीं आए हैं।

हिंदी की कुछ एक्शन फिल्मों में रजनीकांत दिखे हैं पर वह साऊथ वाले अंदाज में पसंद नहीं किए गए। 80 के दशक में उनकी कुछ फिल्में अमिताभ बच्चन के साथ भी आईं।दो महानायकों के एक साथ फिल्म में काम करने का चार्म भी फिल्मों को हिट नहीं बना सका। इसके उलट रजनीकांत की मुख्य भूमिका वाली जो भी तमिल-तेलुगू फिल्में हिंदी में रीमेक की गईं ऐसी फिल्में भारत में सफल हुई हैं। 'रोबोट' इसका सबसे ताजा उदाहरण है।
विज्ञापन

Recommended

शेयर मार्केट, अब नहीं रहेगा गुत्थी
Invertis university

शेयर मार्केट, अब नहीं रहेगा गुत्थी

संतान के उज्वल भविष्य व लंबी आयु के लिए इस जन्माष्टमी मथुरा में कराएं संतान गोपाल पाठ व हवन - 24 अगस्त
Astrology Services

संतान के उज्वल भविष्य व लंबी आयु के लिए इस जन्माष्टमी मथुरा में कराएं संतान गोपाल पाठ व हवन - 24 अगस्त

विज्ञापन
विज्ञापन
अमर उजाला की खबरों को फेसबुक पर पाने के लिए लाइक करें
 
रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें अमर उजाला हिंदी न्यूज़ APP अपने मोबाइल पर।
Amar Ujala Android Hindi News APP Amar Ujala iOS Hindi News APP

Spotlight

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

Most Read

Bollywood

रितेश देशमुख और सिद्धार्थ की फिल्म 'मरजावां' का पहला लुक रिलीज

रितेश देशमुख और सिद्धार्थ मल्होत्रा की बहुप्रतीक्षित फिल्म 'मरजावां' का पहला लुक रिलीज हो गया है।

23 अगस्त 2019

विज्ञापन

फ्रांस में मुस्लिमों ने मोदी का किया स्वागत, वीडियो देख बौखला गए पाकिस्तान के ये मंत्री

France में Muslims की ओर से Prime Minister Narendra Modi के जोरदार स्वागत का Video PMO ने Twitter पर शेयर किया तो इसे देख Pakistan Minister Fawad Chaudhry खुद की बौखलाहट छिपा न सके और Twitter पर Reply कर डाला, जिसके बाव फवाद लगातार Troll हो रहे हैं।

23 अगस्त 2019

Related

आज का मुद्दा
View more polls

Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।

Agree