इंजीनियरिंग रिसर्च और साइंटिफिक रिसर्च कोर्स के बीच चयन में आप उलझे हैं तो यहां है समाधान

उड़ान डेस्क, अमर उजाला Updated Sat, 27 Jan 2018 12:19 PM IST
विज्ञापन
If you are confused in selection Engineering Research and Scientific Research Course, Know solution

पढ़ें अमर उजाला ई-पेपर
कहीं भी, कभी भी।

*Yearly subscription for just ₹299 Limited Period Offer. HURRY UP!

ख़बर सुनें
ये सवाल पाठक निखिल का है। वे पूछते हैं, क्या आप मेरी इंजीनियरिंग रिसर्च और साइंटिफिक रिसर्च कोर्स के बीच चयन करने में मदद कर सकते हैं, क्या मैं दोनों क्षेत्रों में पीएचडी करने के योग्य हूं?
विज्ञापन

साइंटिस्ट पूछता है क्यों और जवाबों की खोज करने के लिए रिसर्च करता है, जबकि एक इंजीनियर पूछता है कैसे समस्या हल होगी और उसका क्या समाधान होगा। दूसरे शब्दों में साइंटिस्ट घटनाओं की जांच करते हैं, जबकि इंजीनियर उसका समाधान या बेहतर समाधान ढूंढते हैं। हालांकि इंजीनियरिंग और साइंस के बीच अक्सर एक अधिव्यापन कि स्थिति बनी रहती है।
अक्‍सर साइंटिस्ट इंजीनियर की खोज के व्यावहारिक अनुप्रयोग में अपनी योग्यता दिखाते हैं। इसके विपरीत वैज्ञानिक का आवरण मानते हुए तकनीकी विकास के दौरान इंजीनियर खुद नई घटनाओं की खोज करते हैं। उदाहरण के लिए संख्यात्मक अनुमानों का उपयोग कर नेवीयर स्टोक्स समीकरणों के लिए एक विमान पर वायुगतिकीय प्रवाह को हल करने का कार्य या किसी इंजीनियरिंग संरचना की थकान क्षति गणना करने के लिए मामूली नियम लागू करते हैं।
विज्ञापन
आगे पढ़ें

विज्ञापन
विज्ञापन

रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें Android Hindi News App, iOS Hindi News App और Amarujala Hindi News APP अपने मोबाइल पे|
Get all Education News in Hindi related to careers and job vacancy news, exam results, exams notifications in Hindi etc. Stay updated with us for all breaking news from Education and more Hindi News.

विज्ञापन

Spotlight

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
Election
  • Downloads

Follow Us

X

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
डेली पॉडकास्ट सुनने के लिए सब्सक्राइब करें

क्लिप सुनें

00:00
00:00
X