'हर अंत शुरुआत है और हर शुरुआत अंत'

एली स्मिथ Updated Sun, 04 Feb 2018 10:22 PM IST
Ali Smith
Ali Smith
ख़बर सुनें
स्वस्थ होने पर मैंने कुछ कहानियां लिखीं और उन्हें कुछ प्रकाशकों के पास भेज दीं। उनमें से एक ने जवाब दिया कि वह उसे प्रकाशित करेंगे। लेकिन फिर वह दिवालिया हो गया। फिर एक बड़ी कंपनी ने उसे खरीदा। इस तरह देखें, तो इसमें भी एक कहानी है कि हर अंत शुरुआत है और हर शुरुआत अंत है।
हर महान कहानी के बहुत ज्यादा नहीं, तो कम से कम दो प्रारूप होते हैं, एक वह जो प्रकट होता है और दूसरा वह, जो चीजों के नीचे अदृश्य रहता है। किताबों में तमाम संभावनाएं निहित होती हैं। किताबों के जरिये आप खुद अपने दायरे से बाहर निकलते हैं, खुद को खो देते हैं, एक अजीब तृष्णा से बेचैन रहते हैं और जीवन को पूरी तरह से जीने का आनंद उठाते हैं। यानी किताबों का मतलब है सब कुछ।

हम कभी भी कोई संगीत सुनने के बाद उसे एक बार में ही समझने की उम्मीद नहीं करते, लेकिन किताब पढ़ने के बाद हम मान लेते हैं कि मैंने वह किताब पढ़ ली, अब उसे पढ़ने की जरूरत नहीं। एक अच्छे संवाद की तरह एक अच्छी बहस हमेशा जीवन का प्रमाण है, लेकिन मैं किताबें पढ़ना ज्यादा पसंद करती हूं।

सेंसरशिप को छोड़कर साहित्य के लिए कुछ भी नुकसानदेह नहीं हैं, लेकिन साहित्य को अपने लक्ष्य तक पहुंचने से वह कभी रोक नहीं पाई है, क्योंकि साहित्य के पास हर उस चीज से निपटने का तरीका है, जो उसे रोकती है। कहानियां हमें नदियां पार करने के लिए रस्सियां उपलब्ध कराती हैं। वे हमें संतुलन प्रदान करती हैं और प्राकृतिक रूप से कलाबाज बनाती हैं। कहानियों ने हमें साहसी बनाया और बदल डाला।
-स्कॉटिश लेखिका

Spotlight

Most Read

Literature

जब नुसरत साहब ने होटल में बैठ जमकर खाया, पर बोले- घर पर नहीं बताना

चच्ची ने ऊपर से नीचे तक खां साहब को देखा और कहा, ‘यह आपके कपड़ों पर दाग किस चीज के हैं? खां साहब घबरा गए। बोले, ‘मुझे क्या पता। मैंने तो सिर्फ पानी पिया है। बेगम आपको पता है कि मैं बदपरहेजी नहीं करता।’ उनकी बात सुनकर हमें हंसी आ रही थी। 

1 दिसंबर 2017

Related Videos

महामारी ना बन जाए ‘निपाह’ समेत पांच बड़ी खबरें

अमर उजाला टीवी पर देश-दुनिया की राजनीति, खेल, क्राइम, सिनेमा, फैशन और धर्म से जुड़ी से जुड़ी खबरें। देखिए LIVE BULLETINS - सुबह 7 बजे, सुबह 9 बजे, 11 बजे, दोपहर 1 बजे, दोपहर 3 बजे, शाम 5 बजे और शाम 7 बजे।

23 मई 2018

अमर उजाला ऐप चुनें

सबसे तेज अनुभव के लिए

क्लिक करें Add to Home Screen