विज्ञापन
विज्ञापन

मुकेश अंबानी से ज्यादा कमाते हैं उनके रिश्तेदार, इतनी है सैलरी

मुकेश अंबानी से ज्यादा कमाते हैं उनके रिश्तेदार, इतनी है सैलरी Updated Sat, 20 Jul 2019 11:23 PM IST
mukesh ambani salary is less compared to his cousins in reliance industries board
ख़बर सुनें
रिलायंस इंडस्ट्रीज के मालिक मुकेश अंबानी की सैलरी से ज्यादा कंपनी में उनके रिश्तेदारों की सैलरी है। जहां अंबानी ने लगातार 11वें साल अपनी सैलरी को बढ़ाया नहीं है, वहीं कंपनी के बोर्ड में मौजूद उनके रिश्तेदारों की सालाना सैलरी में इजाफा किया गया है। वहीं नीता अंबानी को मिलने वाली फीस में भी बढ़ोतरी की गई है। 
विज्ञापन

कंपनी ने जारी किए थे वित्तीय परिणाम

कंपनी ने शुक्रवार को अपने वित्तीय परिणामों को जारी किया था। इसके अनुसार कंपनी को सात फीसदी ज्यादा मुनाफा हुआ था। वहीं जियो की आय में भी 44 फीसदी की बढ़ोतरी देखने को मिली थी। 

2008-09 से नहीं बढ़ी है सैलरी

मुकेश अंबानी ने 2008-09 से अपनी सैलरी में किसी तरह का कोई इजाफा नहीं किया है। कंपनी द्वारा जारी रिपोर्ट के अनुसार आज भी उनकी सालाना सैलरी 15 करोड़ रुपये है। इसमें कमीशन, अलाउंस, अन्य लाभ आदि शामिल हैं। मुकेश अंबानी को 2018-19 में 4.45 करोड़ रुपये सैलरी और अलाउंस के तौर पर, कमीशन 9.53 करोड़ रुपये, अन्य लाभ 31 लाख रुपये और रिटायरमेंट लाभ के तौर पर 71 लाख रुपये मिले थे। 

रिश्तेदारों की सैलरी ज्यादा

मुकेश अंबानी के दो रिश्तेदार भी कंपनी के बोर्ड में पूर्णकालिक निदेशक हैं। निखिल मेसवानी और हितल मेसवानी की सालाना सैलरी 20.57 करोड़ रुपये हो गई है। 2017-18 में इन दोनों भाइयों को 19.99 करोड़ रुपये, 2016-17 में 16.58 करोड़ रुपये, 2014-15 में 12.03 करोड़ रुपये सैलरी मिली थी। वहीं 2015-16 में निखिल को 14.42 करोड़ और हितल को 14.41 करोड़ रुपये सैलरी के तौर पर मिले थे। 

अन्य लोगों की सैलरी में भी इजाफा 

कंपनी के एग्जिक्यूटिव निदेशक पी एमएस प्रसाद और रिफाइनरी के मुख्य अधिकारी पवन कुमार कपिल की सैलरी में भी पिछले साल के मुकाबले इस साल भी सैलरी में बढ़ोतरी देखने को मिली है। इन दोनों व्यक्तियों की सैलरी क्रमशः 10.01 करोड़ और 4.17 करोड़ रुपये हो गई है। 

नीता अंबानी की कमीशन,फीस में इजाफा

कंपनी की गैर-कार्यकारी निदेशक नीता अंबानी और एसबीआई की पूर्व चेयरपर्सन अरूंधति भट्टाचार्य को मिलने वाले कमीशन और फीस में भी इजाफा किया गया है। जहां नीता अंबानी को कमीशन के तौर पर 1.65 करोड़ रुपये कमीशन और सात लाख रुपये सिटिंग फीस के तौर पर मिले, वहीं भट्टाचार्या को 75 लाख रुपये कमीशन और सात लाख रुपये बोर्ड की बैठक में शामिल होने के तौर पर मिला। 

कंपनी के बोर्ड में अन्य गैर-पूर्णकालिक निदेशकों में मानसिंह एल भक्ता, योगेंद्र पी त्रिवेदी, दीपक सी जैन, रघुनाथ माशेलकर, अदिल जैनुलभाई, रमिंदर सिंह गुजराल और शुमित बैनर्जी शामिल हैं। 
विज्ञापन

Recommended

OPPO के Big Diwali Big Offers से होगी आपकी दिवाली खूबसूरत और रौशन
Oppo Reno2

OPPO के Big Diwali Big Offers से होगी आपकी दिवाली खूबसूरत और रौशन

कराएं दिवाली की रात लक्ष्मी कुबेर यज्ञ, होगी अपार धन, समृद्धि  व्  सर्वांगीण कल्याण  की प्राप्ति : 27-अक्टूबर-2019
Astrology Services

कराएं दिवाली की रात लक्ष्मी कुबेर यज्ञ, होगी अपार धन, समृद्धि व् सर्वांगीण कल्याण की प्राप्ति : 27-अक्टूबर-2019

विज्ञापन
विज्ञापन
अमर उजाला की खबरों को फेसबुक पर पाने के लिए लाइक करें
सबसे विश्वसनीय हिंदी न्यूज़ वेबसाइट अमर उजाला पर पढ़ें कारोबार समाचार और बजट 2019 से जुड़ी ब्रेकिंग अपडेट। कारोबार जगत की अन्य खबरें जैसे पर्सनल फाइनेंस, लाइव प्रॉपर्टी न्यूज़, लेटेस्ट बैंकिंग बीमा इन हिंदी, ऑनलाइन मार्केट न्यूज़, लेटेस्ट कॉरपोरेट समाचार और बाज़ार आदि से संबंधित ब्रेकिंग न्यूज़
 
रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें अमर उजाला हिंदी न्यूज़ APP अपने मोबाइल पर।
Amar Ujala Android Hindi News APP Amar Ujala iOS Hindi News APP

Spotlight

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

Most Read

Banking Beema

आज देशभर में बैंकों की हड़ताल, दिवाली पर इन चार दिन बंद रहेंगे बैंक

22 अक्तूबर को देश भर में ज्यादातर बैंकों में हड़ताल रहेगी। इसके अलावा दिवाली की छुट्टियों के चलते भी बैंक लगातार चार दिन बंद रहेंगे। इस हड़ताल से बैंकिंग सेवाओं पर असर पड़ने की संभावना है।

22 अक्टूबर 2019

विज्ञापन

NCRB की 2015-17 की रिपोर्ट: दिल्ली फिर बनी अपराध की राजधानी, साइबर क्राइम में यूपी नंबर वन

NCRB की 2015-17 की रिपोर्ट जारी हो गई है। दिल्ली फिर अपराध की राजधानी दिखी है तो वहीं साइबर क्राइम के मामले में यूपी नंबर वन है। इसके साथ ही निर्भया कांड के बाद कानून सख्त होने के बाद भी रेप पीड़िताओं को इंसाफ के लिए लंबा इंतजार करना पड़ रहा है।

21 अक्टूबर 2019

आज का मुद्दा
View more polls

Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।

Agree