बजट में ई-व्हीकल के लिए कई प्रोत्साहनों की हो सकती है घोषणा, मिलेगी सब्सिडी

न्यूज डेस्क, अमर उजाला, नई दिल्ली Updated Fri, 12 Jan 2018 10:40 AM IST
ई-व्हीकल
ई-व्हीकल
ख़बर सुनें
प्रदूषण पर लगाम लगाने और कच्चे तेल एवं प्राकृतिक गैस के भारी-भरकम आयात बिल में कटौती करने के लिए सरकार आगामी बजट में इलेक्ट्रिक व्हीकल के लिए कई तरह के प्रोत्साहनों की घोषणा कर सकती है। इनमें ई व्हीकल के लिए सब्सिडी में बढ़ोतरी, चार्जिंग स्टेशन एवं अन्य ढांचागत संरचना तैयार करने के लिए कर प्रोत्साहन आदि शामिल हो सकते हैं।
सरकार से जुड़े सूत्रों का कहना है कि यूं तो ई व्हीकल में काम आने वाली लीथियम आयन बैटरी की कीमत में उल्लेखनीय कमी हुई है, लेकिन तब भी यह इतना नहीं हुआ है, जिससे इसके दाम पेट्रोल, डीजल या गैस से चलने वाले वाहनों के बराबर हो सके। बैटरी की कीमत की वजह से ही ई व्हीकल के दाम शत प्रतिशत तक बढ़ जा रहे हैं। इसलिए ऐसे मोटर वाहनों को अभी भी सरकारी सहायता के लिए सब्सिडी की दरकार है। हालांकि केन्द्र सरकार पहले से ही सार्वजनिक परिवहन के तौर पर उपयोग होने वाले वाहनों पर सब्सिडी दे रही है लेकिन यह पर्याप्त नहीं है। इसलिए वर्ष 2018-19 के बजट में ई व्हीकल की सब्सिडी के लिए बजट बढ़ाया जा सकता है।

ई व्हीकल के लिए सब्सिडी की विशेष योजना 
केन्द्र सरकार ने ई वाहनों को सब्सिडी उपलब्ध कराने के लिए फास्टर एडोप्शन एंड मैन्यूफैक्चरिंग ऑफ इलेक्ट्रिक एंड हाईब्रिड व्हीकल्स इन इंडिया -फेम इंडिया- नामक योजना की शुरूआत की है, जिसके तहत दस लाख या इससे अधिक आबादी वाले शहरों को बस, टैक्सी और ऑटो रिक्शा के लिए सब्सिडी उपलब्ध करायी जा रही है। लेकिन इसके पहले चरण के लिए सरकार ने महज 795 करोड़ रुपये का ही आवंटन किया गया है। इसलिए इसके पहले चरण में 11 शहरों में ई व्हीकल के लिए 437 करोड़ रुपये की ही सब्सिडी उपलब्ध करायी जा रही है। उम्मीद की जा रही है कि दूसरे चरण में आवंटन बढ़ेगा तो राज्यों को ज्यादा वाहनों के लिए सब्सिडी मिलेगी।

पहले चरण में ही राज्यों का रहा बढ़िया रिस्पांस 
केन्द्रीय भारी उद्योग विभाग के अधिकारियों के मुताबिक फेम इंडिया के पहले यापायलट चरण के तहत देश के सभी राज्यों से ई व्हीकल के बारे में एक्सप्रेशन आफ इंटरेस्ट-ईओआई- मंगाया गया था। इसमें 21 राज्यों की तरफ से 44 शहरों के लिए कुल 47 प्रस्ताव आए। इसके तहत राज्यों ने 3144 ई बस, 2430 4व्हीलर ई टैक्सी और 21545 ई तिपहिया ऑटो रिक्शा के लिए प्रस्ताव आया है। इतने वाहनों के लिए कुल 4054.6 करोड़ रुपये की सब्सिडी की दरकार होगी। चूंकि फेम इंडिया के पहले चरण के तहत 795 करोड़ रुपये का ही आवंटन हुआ है, इसलिएफिलहाल मांग के मुकाबले कम वाहनों के लिए सब्सिडी उपलब्ध करायी जा रही है।

छोटे शहरों के लिए भी मिलेगी सब्सिडी 
सूत्रों का कहना है कि ई व्हीकल की सब्सिडी के लिए जब बजट बढ़ जाएगा तो छोटे शहरों में भी वाहनों के लिए सब्सिडी दी जा सकेगी। अभी तो कम रकम की वजह से देश के दस लाख या इससे अधिक आबादी के शहरों को ही शामिल किया जा रहा है। हां, पहाड़ी एवं पूर्वोत्तर के राज्यों के लिए आबादी की इस सीमा को हटा दी गई है। ऐसा इसलिए कि वहां यदि दस लाख की आबादी का फार्मूला रखेंगे तो अधिकतर शहर छूट जाएंगे।

RELATED

रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें Android Hindi News App, iOS Hindi News App और Amarujala Hindi News APP अपने मोबाइल पे|
Get all Business News in Hindi related to stock exchange, sensex news, finance, breaking news from share market news in Hindi etc. Stay updated with us for all breaking news from Business and more Hindi News.

Spotlight

Most Read

Business

वीडियोकॉन घोटाला: जांच पूरी होने तक चंदा कोचर की छुट्टी, संदीप बख्शी बने आईसीआईसीआई बैंक के सीओओ

आईसीआईसीआई बैंक ने सोमवार को संदीप बख्शी को अपना मुख्य परिचालन अधिकारी (सीओओ) नियुक्त करने की घोषणा की।

18 जून 2018

Related Videos

आपकी इन छोटी-छोटी गलतियों की वजह बैंक कमा रहे खूब पैसा

SBI ने पिछले 40 माह में 38 करोड़ 80 लाख रुपए सिर्फ चेक पर हस्ताक्षर का मिलान न होने के एवज में ग्राहकों के खाते से काट लिए हैं। इस तरह एसबीआई सालाना औसतन 12 करोड़ रुपए कमाई कर रहा है। आइए जानते हैं और किन चीजों में बैंक लगा रहा है एक्स्ट्रा चार्ज।

11 जून 2018

आज का मुद्दा
View more polls

Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।

Agree

अमर उजाला ऐप चुनें

सबसे तेज अनुभव के लिए

क्लिक करें Add to Home Screen