बेहतर अनुभव के लिए एप चुनें।
INSTALL APP

बाजार में तबाही: निवेशकों को छह दिनों में 11.31 लाख करोड़ रुपये का नुकसान

बिजनेस डेस्क, अमर उजाला, नई दिल्ली Published by: देव कश्यप Updated Thu, 24 Sep 2020 11:24 PM IST
विज्ञापन
प्रतीकात्मक तस्वीर
प्रतीकात्मक तस्वीर
ख़बर सुनें
शेयर बाजारों में गुरुवार को लगातार छठे कारोबारी सत्र में गिरावट का सिलसिला जारी रहा। बाजार में गिरावट के छह दिनों में निवेशकों को 11,31,815.5 करोड़ रुपये का नुकसान हुआ है। छठे सीधे सत्र के लिए गिरते हुए, बीएसई गुरुवार को 1,114.82 अंक या 2.96 प्रतिशत गिरकर 36,553.60 अंक पर बंद हुआ, जिससे वैश्विक बाजारों में भारी बिकवाली हुई। वैश्विक बाजारों में बिकवाली के बीच मुंबई में भी सेंसेक्स में 1,115 अंक की भारी गिरावट दर्ज की गई। एनएसई का निफ्टी 10,800 के करीब पहुंचा।
विज्ञापन

बीएसई-सूचीबद्ध कंपनियों का बाजार पूंजीकरण 1,48,76,217.22 करोड़ रुपये रह गया, यह छह सत्रों में 11,31,815.5 करोड़ रुपये नीचे चला गया। बीएसई का 30 शेयरों वाला सेंसेक्स कमजोर रुख के साथ खुलने के बाद और नीचे गया। अंत में यह 1,114.82 अंक या 2.96 प्रतिशत के नुकसान से 36,553.60 अंक पर बंद हुआ। चार मई के बाद यह सेंसेक्स में एक दिन की सबसे बड़ी गिरावट है। उस दिन सेंसेक्स 2,000 अंक से अधिक अंक टूटा था।



सेंसेक्स में शामिल 30 शेयरों में हिंदुस्तान यूनिलीवर को छोड़कर अन्य सभी में नुकसान रहा। हिंदुस्तान यूनिलीवर का शेयर 0.36 प्रतिशत के लाभ में बंद हुआ। इंडसइंड बैंक के शेयर में सबसे अधिक 7.10 प्रतिशत की गिरावट दर्ज हुई। बजाज फाइनेंस, महिंद्रा एंड महिंद्रा, टेक महिंद्रा, टीसीएस और टाटा स्टील में भी गिरावट रही।

एलकेपी सिक्योरिटीज के शोध प्रमुख एस रंगनाथन ने कहा कि ‘कमजोर वैश्विक रुख के बीच अमेरिका से चिंताजनक आंकड़ों की वजह से बाजारों में गिरावट आई। इसके अलावा कोविड-19 संक्रमण फिर उबरने की चिंता से यूरो क्षेत्र के बाजार टूट गए।' भारतीय बाजारों में टीसीएस और इन्फोसिस की अगुवाई में जबरदस्त नुकसान रहा। इन दोनों कंपनियों के अलावा रिलायंस इंडस्ट्रीज ने पिछले पांच माह के दौरान बाजार में सुधार लाने में मुख्य योगदान दिया।


रिसर्च, रेलिगेयर ब्रोकिंग लिमिटेड के वीपी अजीत मिश्रा ने कहा कि 'अमेरिका में प्रोत्साहन पैकेज को लेकर बढ़ती अनिश्चितता ने दुनिया भर में बढ़ते कोविड मामलों के मुद्दे के साथ संयुक्त रूप से आर्थिक सुधार पर चिंता जताई है।'

बीएसई मिडकैप और स्मॉलकैप में 2.28 प्रतिशत तक का नुकसान रहा। अंतरबैंक विदेशी मुद्रा विनिमय बाजार में रुपया 32 पैसे टूटकर 73.89 प्रति डॉलर पर आ गया। अन्य एशियाई बाजारों में दक्षिण कोरिया का कॉस्पी 2.59 प्रतिशत टूट गया। चीन का शंघाई कंपोजिट, जापान का निक्की और हांगकांग का हैंगसेंग भी 1.82 प्रतिशत नीचे आए। इस बीच, वैश्विक बेंचमार्क ब्रेंट कच्चा तेल 0.22 प्रतिशत के नुकसान से 41.68 डॉलर प्रति बैरल पर बोला गया।
विज्ञापन
विज्ञापन
सबसे विश्वसनीय हिंदी न्यूज़ वेबसाइट अमर उजाला पर पढ़ें कारोबार समाचार और बजट 2020 से जुड़ी ब्रेकिंग अपडेट। कारोबार जगत की अन्य खबरें जैसे पर्सनल फाइनेंस, लाइव प्रॉपर्टी न्यूज़, लेटेस्ट बैंकिंग बीमा इन हिंदी, ऑनलाइन मार्केट न्यूज़, लेटेस्ट कॉरपोरेट समाचार और बाज़ार आदि से संबंधित ब्रेकिंग न्यूज़
 
रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें अमर उजाला हिंदी न्यूज़ APP अपने मोबाइल पर।
Amar Ujala Android Hindi News APP Amar Ujala iOS Hindi News APP
विज्ञापन
विज्ञापन
  • Downloads

Follow Us