'My Result Plus

ज्वालामुखी फटने से 1,500 लोग बेघर, जान बचाने के बाद अब 'रेड क्रॉस' करेगी विस्थापित

वर्ल्ड डेस्क, अमर उजाला Updated Sun, 14 Jan 2018 02:34 PM IST
new guinea, volcano
new guinea, volcano
ख़बर सुनें
नयू गिनिया द्वीप पिछले कुछ दिनों से जिस ज्वालामुखी का डर महसूस कर रहा था उसने आज लोगों को अपना घर छोड़ने को आखिर मजबूर कर दिया। जान बचाने के लिए लोगों ने मजबूरी का भी हंसकर स्वागत किया। तकरीबन कुल 1,500 लोगों को अब तक इस द्वीप से सुरक्षित बाहर निकालने का काम रेड क्रॉस संगठन किया है, मामला नयू गिनिया के कादोवर का है जहां 5 जनवरी से ही लोगों को इस ज्वालामुखी की जानकारी लग गई थी। 
उसके बाद से ही लोगों में डर की बेचैनी थी और यहां के लोग खुद की जान बचाने की खातिर तमाम संस्थाओं से गुहार लगा रही थी। ऐसे में पड़ोसी द्वीप ऑस्ट्रेलिया ने न्यू गिनिया का पूरा सहयोग किया और यहां के लोगों को इन हालातों से उबारने के लिए अच्छा सहयोग किया है।

बता दें कि न्यू गिनिया द्वीप ऑस्ट्रेलिया और ग्रीनविच के बीच स्थिति है और कादोवर क्षेत्र 24 किमी के दायरे में पापुआ का हिस्सा है। चिंताजनक हालातों के बीच आज 590 लोगों को कोदावर की इस प्राकृतिक आपदा का शिकार होने से बचा लिया गया है। 

5 जनवरी से खतरनाक हुए चट्टान में शुक्रवार को ज्वालामुखी फटा जिससे पूरा इलाका धुंआ-धुंआ हो गया और लोगों के लिए जान बचाना एक चुनौती बन गई। वहीं रेड क्रॉस ने बचाव कार्य के बाद इन लोगों के विस्थापन के लिए 26,274 यूएस डॉलर का सहयोग किया है। इसके साथ ही इन लोगों के लिए बुनियादी जरूरतों की भी व्यवस्था की है। 

ऑस्ट्रेलिया की विदेश मंत्री जूली बिशॉप ने भी एक ट्वीट से जरिए बताया है कि ऑस्ट्रेलियाई सरकार की तरफ से भी इन लोगों के विस्थापन के लिए 19,775 यूएस डॉलर का सहयोग दिया गया है। 

RELATED

Spotlight

Most Read

Rest of World

यहां से आता है उत्तर कोरिया के परमाणु कार्यक्रम के लिए पैसा

उत्तर कोरिया के पास एक के बाद एक मिसाइल बनाने के लिए पैसा कहां से आता है?

19 अप्रैल 2018

Related Videos

क्यों 4 ही रंग के होते हैं दुनियाभर के पासपोर्ट

दुनियाभर में पासपोर्ट के रंग सिर्फ नीला, हरा, लाल और काला होते है। हर देश ने पासपोर्ट के लिए इनमें से किसी एक रंग को किसी न किसी कारण से चुना है। तो आइए जानते हैं पासपोर्ट के रंग चुनने के पीछे इन देशों का क्या कारण है।

13 अप्रैल 2018

अमर उजाला ऐप चुनें

सबसे तेज अनुभव के लिए

क्लिक करें Add to Home Screen