विज्ञापन

मालदीव संकट: चीन चल रहा चाल, स्टैंड बाय मोड पर भारतीय सेना

वर्ल्ड डेस्क, अमर उजाला Updated Wed, 07 Feb 2018 11:22 AM IST
maldives emergency and crisis indian army china abdulla yameen mohamed nasheed  
विज्ञापन
ख़बर सुनें
मालदीव में गहराते संकट के बीच भारत स्टैंडर्ड ऑपरेटिंग प्रोसीजर (एसओपी) का पालन कर सकता है। सरकारी सूत्रों ने मंगलवार को बताया कि भारत किसी आपात स्थिति से निपटने के लिए अपनी सेना को स्टैंड बाय मोड यानी तैयार रखेगा।
विज्ञापन
ऐसा माना जा रहा है कि राष्ट्रपति यामिन चीन के प्रभाव में है और इसे उसकी एक चाल माना जा रहा है। चीन मालदीव में अपना सैन्य बेस बनाने की तैयारी में है और इसके लिए वह हर संभव कोशिश में जुट गया है।

दूसरी ओर सूत्रों की मानें तो दक्षिण भारत के अहम एयरबेस पर सेना का मूवमेंट देखा गया है। एसओपी के तहत सेना को किसी भी आपात स्थिति से निपटने के लिए तैयार रखा जाता है। सूत्रों ने कहा कि यह एसओपी से जुड़ी सामान्य बात है। हालांकि अधिकारियों ने यह नहीं बताया कि क्या सरकार ने एसओपी के तहत अपनी सेना को तैयार रखा है या नहीं। एसओपी के तहत भारत पहले ही अपने नागरिकों को सुरक्षा एडवाइजरी जारी कर चुका है। इस बीच मंगलवार को मालदीव के पूर्व राष्ट्रपति मोहम्मद नाशीद ने एक बार फिर भारत से कूटनीतिक और सैन्य मदद मांगी।

2012 में सैन्य तख्त पलट के जरिए सत्ता पर कब्जा करने वाले यामीन का चीन के प्रति झुकाव भारत के लिए लगातार चिंता का कारण बना रहा है। पूर्व राष्ट्रपति नाशीद का रुख भारत के प्रति सकारात्मक था। जबकि यामीन ने भारत के इतर चीन से नजदीकी बढ़ानी शुरू की। भारत को पड़ोसियों से अलग करने में जुटे चीन ने मालदीव को कर्ज में उलझा दिया। इसके बाद मालदीव न सिर्फ चीन के बेल्ट एंड रोड इनेशिएटिव (बीआरआई) का हिस्सा बना बल्कि चीन के सैन्य बेस बनाने के प्रस्ताव को सैद्घांतिक सहमति दे दी।

मालदीव न सिर्फ भारत का पड़ोसी देश है, बल्कि चारों ओर से समुद्र से घिरा होने के कारण रणनीतिक रूप से भी बेहद संवेदनशील है। देश फिलहाल स्थिति पर पैनी निगाह रख रहा है। अपने नागरिकों के लिए एडवाइजरी जारी कर उसने मालदीव को कड़ा कूटनीतिक संदेश भी दिया है।

Recommended

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
अमर उजाला की खबरों को फेसबुक पर पाने के लिए लाइक करें
विज्ञापन

Spotlight

विज्ञापन

Most Read

Rest of World

श्रीलंका ने चीनी कंपनी का ठेका भारत को दिया, ड्रैगन को झटका

 श्रीलंका सरकार ने जाफना में घर बनाने का ठेका चीनी कंपनी से वापस लेकर भारत को देने का फैसला किया है। श्रीलंका सरकार ने कहा कि कैबिनेट ने 3580 करोड़ रुपये की लागत से 28 हजार घर बनाने का प्रस्ताव पास कर दिया है।

20 अक्टूबर 2018

विज्ञापन

Related Videos

हिंदू देवी के नाम से बसा है यह जापानी शहर

देश-विदेश में हिंदू धर्म के बहुत से खूबसूरत मंदिर बने हुए हैं। आज हम आपको विदेशी धरती पर बने एक ऐसे शहर के बारे में बताने जा रहे हैं, जो देवी लक्ष्मी के नाम पर बना हुआ है।

5 अक्टूबर 2018

Related

आज का मुद्दा
View more polls

Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।

Agree