विज्ञापन
Home ›   Video ›   Lifestyle ›   things to know right to privacy

पति-पत्नी भी नहीं कर सकते एक-दूसरे की निजता का हनन

कन्वर्जेंस डेस्क, अमर उजाला Updated Thu, 17 May 2018 04:49 PM IST

हम आपको 'राइट टू प्राइवेसी' के उस कानून के बारे में बता रहे हैं, जिसके तहत यह सभी चीजें अपराध की श्रेणी में आती हैं। सुप्रीम कोर्ट फैसला दे चुका है कि प्राइवेसी (निजता) मौलिक अधिकार का हिस्सा है।

अमर उजाला की खबरों को फेसबुक पर पाने के लिए लाइक करें  
विज्ञापन

Latest

Election
  • Downloads

Follow Us

X

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
डेली पॉडकास्ट सुनने के लिए सब्सक्राइब करें

क्लिप सुनें

00:00
00:00
X