लोकप्रिय और ट्रेंडिंग टॉपिक्स

Hindi News ›   Uttarakhand ›   Haridwar ›   The villagers of Subhashgarh are horrified to remember the pain of partition.

नेताजी को भगवान मानते हैं सुभाषगढ़ गांवेके जांबाज

Dehradun Bureau देहरादून ब्यूरो
Updated Sat, 13 Aug 2022 11:28 PM IST
सुभाषगढ़ गांव में विभाजन की विभीषिका की दांस्ता बताते प्रह्लाद।
सुभाषगढ़ गांव में विभाजन की विभीषिका की दांस्ता बताते प्रह्लाद। - फोटो : HARIDWAR
विज्ञापन
ख़बर सुनें
आज जब सारा देश स्वतंत्रता की 75वीं वर्षगांठ पर अमृत महोत्सव के जश्न में डूबा हुआ है। वहीं, 14 अगस्त को विभाजन की विभीषिका का दर्द आज भी याद कर सुभाषगढ़ के लोग सहम उठते हैं।

पथरी क्षेत्र के सुभाषगढ़ गांव को नेताजी सुभाषचंद्र बोस की आजाद हिंद फौज के जनरल और नेताजी के विश्वासपात्र शाहनवाज खान ने 1952 के आसपास उन लोगों को यहां लाकर बसाया था। जो वर्तमान में पाकिस्तान के रावल पिंडी की कोटा तहसील के बलार गांव में रह रहे थे। विभाजन की विभीषिका के दौरान इनका सबकुछ बिखर चुका था।

इस गांव में रहने वाले लोग और उनके अधिकतर परिवार आपस में रिश्तेदार हैं। वह न सिर्फ, एक दूसरे के दुख-दर्द को समझते हैं। उनमें सहभागी होते हैं, बल्कि उससे भी दोगुना उत्साह से हर वर्ष 23 जनवरी को नेताजी की जयंती एक साथ मिलकर एक त्योहार की भांति मनाते हैं। नेताजी इस गांव में भगवान की तरह, न सिर्फ पूजे जाते हैं, बल्कि एक आदर्श पुरुष का स्थान भी रखते हैं।
गांव के प्रहलाद विभाजन के घटनाक्रम को याद करते हुए बताते हैं, कि हमें हमारे बसे बसाए घर से बेदखल करके हमारे घरों को आग के हवाले कर दिया गया था। हमें एक ऐसी रेलगाड़ी में ठूंस दिया गया। जिसमें खड़े होने तक को भी स्थान नहीं था और जिसके गंतव्य स्थल तक के बारे में हमें पता नहीं था। वह बताते हैं कि जिस समय जनरल शाहनवाज ने इस गांव को बसाया। उस समय यहां जंगल के सिवाय कुछ भी नहीं था। लगभग 80 बीघा जमीन दो सौ परिवारों को मिल गई। जिनमें से अधिकतर का संबंध सेना से ही था। इसी गांव की एक महिला जो नेताजी की आजाद हिंद फौज में थी। जिसका निधन लगभग चार महीने पहले हो गया है। वे सेना में दर्जी का काम करती थीं।
बताया कि जिन दो सौ परिवारों को यहां गांव में जमीनें आवंटित हुई थी, उनमें से केवल 70 परिवारों को आवंटन जमीन का ही पक्का पट्टा हो पाया है। बाकी के परिवार इस संबंध में कोर्ट और तहसील के चक्कर ही लगा रहे हैं। अभी भी अधिकतर सैनिकों की विधाएं पारिवारिक आर्मी पेंशन नहीं ले पा रही हैं। इनके मामलों में कुछ तेजी लाए जाने की जरूरत है।

आपकी राय हमारे लिए महत्वपूर्ण है। खबरों को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।

खबर में दी गई जानकारी और सूचना से आप संतुष्ट हैं?
विज्ञापन
विज्ञापन

रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें Android Hindi News App, iOS Hindi News App और Amarujala Hindi News APP अपने मोबाइल पे|
Get all India News in Hindi related to live update of politics, sports, entertainment, technology and education etc. Stay updated with us for all breaking news from India News and more news in Hindi.

विज्ञापन
विज्ञापन
एप में पढ़ें
जानिए अपना दैनिक राशिफल बेहतर अनुभव के साथ सिर्फ अमर उजाला एप पर
अभी नहीं

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
डेली पॉडकास्ट सुनने के लिए सब्सक्राइब करें

क्लिप सुनें

00:00
00:00