मेट्रोमोनियल साइट के जरिए ठगी करने वाले तीन गिरफ्तार, ऐसे बनाते थे शिकार

ब्यूरो,अमर उजाला,वाराणसी Updated Sat, 11 Nov 2017 07:21 PM IST
three person arrest in varanasi who fraud with matrimonial site
खजुरी में था कार्यालय, महीने में तीन से पांच लाख कमाते थे - फोटो : अमर उजाला
मेट्रोमोनियल साइट के नाम पर ठगी करने वाले गिरोह के तीन सदस्यों को वाराणसी पुलिस ने गिरफ्तार किया है। इसमें दो झारखंड और एक छत्तीसगढ़ का रहने वाला है।  इन्हें गुरुवार की देर शाम उनके खजुरी स्थित कार्यालय से गिरफ्तार किया गया।

आरोपी अलग-अलग नामों से मेट्रोमोनियल साइट चलाते थे। वर और वधू पक्ष की जगह साइट पर अपना नंबर डालते थे। बातचीत आगे बढ़ने पर फीस के नाम पर पांच हजार रुपये खाते में जमा कराते थे। बाद में फोन करने वालों के साथ गाली गलौज कर संपर्क खत्म कर लेते थे।

आरोपी महीने में तीन से पांच लाख तक कमाते थे। पूर्वांचल के कई अन्य शहरों में भी इनका कार्यालय चलता है। कई रसूखदार भी इनके चंगुल में फंस चुके हैं। एसएसपी आरके भारद्वाज ने तीनों आरोपियों को शुक्रवार को पुलिस लाइन में मीडिया के सामने पेश किया। 


क्राइम ब्रांच को पिछले कई दिनों से सूचना मिल रही थी कि कुछ व्यक्तियों द्वारा मेट्रोमोनियल साइट का फर्जी तरीके से संचालन करते हुए आम जनता को ठगने का कार्य किया जा रहा है। इसकी पुष्टि कई शिकायती प्रार्थना पत्रों की जांच से भी हुई है।

एसपी क्राइम ज्ञानेंद्रनाथर प्रसाद के नेतृत्व में पुलिस जांच कर रही थी। पता चला कि शादी कराने के नाम पर ऑनलाइन, मैच प्वाइंट, बेस्ट पार्टनर, मैट्रीमोनी डाटकॉम, हमसफर मैट्रीमोनी डाटकॉम के नाम से ऑनलाइन शादी के प्रपोजल के लिए विज्ञापन जारी किये जाते थे और लोगों को फोन करके बताया जाता था कि आप अपने लड़के अथवा लड़की जिसकी शादी होना है की सारी डिटेल के साथ हमारे वेबसाइट पर अपलोड कर दें।
आगे पढ़ें

स्थानीय महिलाओं को करते थे भ्रमित

Spotlight

Most Read

Bihar

चारा घोटाला: लालू और जगन्नाथ मिश्रा को 5 साल की सजा, कोर्ट ने 5 लाख का लगाया जुर्माना

पूर्व रेल मंत्री और राष्ट्रीय जनता दल (आरजेडी) सुप्रीमो लालू प्रसाद यादव के खिलाफ सीबीआई की विशेष अदालत ने बड़ा फैसला सुनाया है।

24 जनवरी 2018

Related Videos

दहेज प्रथा और बाल विवाह के विरोध में इस राज्य में बनी सबसे लंबी मानव श्रृखंला

बाल विवाह और दहेज प्रथा जैसी कुरीतियों से निपटने के लिए ना जाने कितनी योजनाएं चल रही हैं।

21 जनवरी 2018