10 साल बाद अमावस्या पर बन रहा ऐसा योग, शनि का प्रभाव होगा कम 

amarujala.com- Presented by: किरण सिंह Updated Tue, 20 Jun 2017 11:40 AM IST
shanichari amavasya: after 10 years later amavasya come in aashadh
1 of 5
विज्ञापन
चार दिन बाद यानि 24 जून को अमावस्या है और इस दिन भगवान शनि का दिन शनिवार पड़ रहा है। इस वजह से इसे शनिचर अमावस्या भी कहते हैं। आषाढ़ माह में शनिवार को अमावस्या पड़ रही है और ये संयोग 10 साल बाद बना। 2007 में आषाढ़ माह की अमावस्या शनिवार के दिन ही थी। शनिवार के दिन अमावस्या का पड़ना कई कारणों से काफी मायने रखती हैं।
shanichari amavasya: after 10 years later amavasya come in aashadh
2 of 5
अमावस्या पर शनिवार का दिन काफी मायने रखता है। साथ ही आर्द्रा नक्षत्र, वृद्घि योग और नाग करण भी इस दिन अहमियत रखता है।
विज्ञापन
shanichari amavasya: after 10 years later amavasya come in aashadh
3 of 5
अमावस्या, शनिवार और तीन नक्षत्र इन पांचों के योग का प्रभाव शनि साधना के लिए काफी विशेष है।
shanichari amavasya: after 10 years later amavasya come in aashadh
4 of 5
जिन लोगों पर शनि की साढ़े साती, ढैय्या चल रही हो, उन्हें इस अमावस्या पर शनि की साधना करनी चाहिए। शनि के शांति के लिए शनि स्तवराज, शनि स्तोत्र और शनि अष्टक का पाठ करें। 
विज्ञापन
विज्ञापन
shanichari amavasya: after 10 years later amavasya come in aashadh
5 of 5
 शनि के बीज मंत्र का जप करके और वस्‍तुओं का दान करना न भूलें। 
अगली फोटो गैलरी देखें
विज्ञापन

आपकी राय हमारे लिए महत्वपूर्ण है। खबरों को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।

खबर में दी गई जानकारी और सूचना से आप संतुष्ट हैं?
सबसे विश्वसनीय हिंदी न्यूज़ वेबसाइट अमर उजाला पर पढ़ें आस्था समाचार से जुड़ी ब्रेकिंग अपडेट। आस्था जगत की अन्य खबरें जैसे पॉज़िटिव लाइफ़ फैक्ट्स,स्वास्थ्य संबंधी सभी धर्म और त्योहार आदि से संबंधित ब्रेकिंग न्यूज़।
 
रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें अमर उजाला हिंदी न्यूज़ APP अपने मोबाइल पर।
Amar Ujala Android Hindi News APP Amar Ujala iOS Hindi News APP
विज्ञापन
  • Downloads
    News Stand

Follow Us

  • Facebook Page
  • Twitter Page
  • Youtube Page
  • Instagram Page
  • Telegram
एप में पढ़ें

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
डेली पॉडकास्ट सुनने के लिए सब्सक्राइब करें

क्लिप सुनें

00:00
00:00