रघुवार दास ने की अपील, हिंदी में आने चाहिए अदालत के फैसले

amarujala.com- Presented by: अभिषेक मिश्रा Updated Wed, 20 Sep 2017 03:29 PM IST
jahrkhand cm  Raghubar Das urges judiciary to pass judgements in Hindi
रघुबर दास - फोटो : ANI
देश में हिंदी को लेकर चर्चाएं जोर पर हैं, लोग अंग्रेजी के साथ-साथ हिंदी को महत्व देने की अपील कर रहे हैं। इसी क्रम में झारखंड के मुख्यमंत्री रघुवर दास ने कोर्ट में अपील की है कि कोर्ट अपने फैसले हिंदी में सुनाए, साथ ही कोर्ट में बहस भी हिंदी में ही हो। 
गौरतलब है कि हिंदी दिवस के मौके पर उन्होंने कहा था कि चुकि ज्यादातर लोगों को अंग्रेजी नहीं आती है, इसलिए वे कोर्ट के उनके वकील द्वारा दिए गए तर्क समझ ही नहीं पाते हैं। 

उन्होंने कहा कि ऐसे ही जब कोर्ट अपना फैसला सुनाता है, उस वक्त आम नागरिक पूरी तरह से समझ नहीं पातें हैं। मुख्यमंत्री ने कहा कि हमें ऐसे छोटे-छोटे कदम उठाने चाहिए जिससे हमारी मातृ भाषा सुरक्षीत रहे। 

पढ़ें: 'पॉर्न' जैसी इस किताब को सरकार ने किया बैन, ये है वजह

इस तरह के कदम उठाकर हम हिंदी को प्रमोट कर सकते हैं। जिससे हमारी संस्कृति अगली पीढ़ी तक पहुंच सकेगी। साथ ही रघुवर दास ने सरकारी अधिकारियों से फाइल में ध्यान देने योग्य बात को भी हिंदी में लिखने की बात कही है। 

रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें Android Hindi News App, iOS Hindi News App और Amarujala Hindi News APP अपने मोबाइल पे|
Get all India News in Hindi related to live update of politics, sports, entertainment, technology and education etc. Stay updated with us for all breaking news from India News and more news in Hindi.

Spotlight

Most Read

Sonipat

नाबालिग को भगाने के बाद किया था दुष्कर्म, पांच दोषियों को सजा

नाबालिग को भगाने के बाद किया था दुष्कर्म, पांच दोषियों को सजा

24 फरवरी 2018

Related Videos

VIDEO: सरेआम बीमार शख्स पर खाकी ने ढ़ाया ऐसे जुल्म

आपको दिखाते हैं झारखंड के जमशेदपुर से एक अमानवीय तस्वीर जिसे देख आप भी कहेंगे कि किसी शख्स को जो मानसिक तौर पर बीमार है उसे सड़क से उठाने का क्या यही शर्मनाक तरीका बचा था। ये रिपोर्ट देखिए।

15 फरवरी 2018

आज का मुद्दा
View more polls

अमर उजाला ऐप चुनें

सबसे तेज अनुभव के लिए

क्लिक करें Add to Home Screen