विज्ञापन

'पति ने पेट में इतने घूंसे मारे कि गर्भपात हो गया'

बीबीसी हिंदी Updated Thu, 15 Feb 2018 05:53 PM IST
after beaten by husband lady got miscarriage in australia
विज्ञापन
ख़बर सुनें
दहेज के लालच में पत्नी को जिंदा जला देना, चाकू से गोदकर मार देना, उनसे मारपीट करना - भारतीय पुरुषों की ये प्रवृत्ति भारत तक सीमित नहीं। मेलबर्न के बाहरी इलाके में हम लीना (बदला हुआ नाम) और उनके ढाई साल के बेटे से उनके घर पर मिले।
विज्ञापन
उनके पति चाहते थे कि वो पटियाला रहकर सास-ससुर की सेवा करें लेकिन लीना पति के साथ मेलबर्न में रहना चाहती थीं। लीना के पेट में जब सात हफ़्ते का गर्भ था उनके पति ने पेट में इतने घूंसे मारे कि उनका गर्भपात हो गया।

पंजाब से साइकिएट्रिक नर्सिंग में मास्टर्स कर चुकीं लीना ने हमें बताया, "उसने मुझे थप्पड़ मारा और पेट में पंच किया। मैंने भी जवाब में थप्पड़ मारा। उसके बाद उसने मुझे इतना मारा कि उसके दोस्त को बचाने के लिए आना पड़ा। मैंने खुद को कमरे में बंद कर दिया तो उसने दरवाजा तोड़ दिया और बोला मैं तुम्हें मार दूंगा।
"मुझे लगा कि वो मेरे बेटे को भारत लेकर जा सकता है इसलिए मैंने बेटे का पासपोर्ट फाड़ दिया। मुझे लगा मेरा मिसकैरिज शुरू हो गया है। मैंने जब उससे अस्पताल जाने के लिए कहा तो उसने कहा, सुबह लेकर जाएंगे।"

जब हम बात कर रहे थे तो उनका ढाई साल का बेटा दूसरे कमरे में मोबाइल फोन पर वीडियो देख रहा था। लीना कहती हैं, "प्रेगनेंसी से मैं खुश थी कि मेरे बच्चे के साथ कोई खेलने आ जाएगा लेकिन जब मुझे मिसकैरिज का पता चला तो मुझे बहुत दुख हुआ।"

"मैं रो रही थी कि मेरे पति के कारण मैंने अपना बच्चा खो दिया।" "वो कहता था कि मैं तुम्हे डिपोर्ट करके वापस भारत भेज दूंगा। मैं अपने बेटे को रखूंगा और तू हिंदुस्तान में सड़ेगी। मुझे बहुत चिंता हो जाती है कि कहीं वो बच्चे की कस्टडी के लिए केस न फाइल न कर दे।"ये बोलकर लीना चुप हो गईं।

आंकड़ों के मुताबिक ऑस्ट्रेलिया में हर तीन घंटे में एक महिला घरेलू हिंसा के कारण अस्पताल में दाखिल होती है। हर हफ्ते एक की हत्या कर दी जाती है। कुछ मीडिया रिपोर्टों के अनुसार प्रवासियों में महिलाएं घरेलू हिंसा से सबसे ज्यादा पीड़ित हैं।

मेलबर्न में सामाजिक कार्यकर्ता जतिंदौर कौर के मुताबिक साल 2009 से 2017 के बीच घरेलू हिंसा के कारण ऑस्ट्रेलिया में भारतीय समुदाय की 12 महिलाओं की हत्या हुई है। मनप्रीत कौर, प्रीतिका शर्मा, निधी शर्मा, सर्गुन रागी, परविंदर कौर, अनीता फ़िलिप, निकिता चावला, की हत्याओं ने ऑस्ट्रेलिया में बसे भारतीयों को हिलाकर कर रख दिया।

ऐसे मामले हुए जिनमें पति ने पत्नी को मारा और फिर खुद को मार दिया। सरकारी प्रसारणकर्ता एसबीएस में काम करने वाली मनप्रीत सिंह कौर ने भारतीय समाज में घरेलू हिंसा पर एक डॉक्युमेंट्री बनाई है।

वो बताती हैं, "घरेलू हिंसा के मामले डरावने होते हैं - कि कैसे जिंदा जला दिया गया, 30-40 बार चाकू घोंपा। ऐसी बातें आप भारतीय समुदाय के बारे में ज्यादा सुनते हैं।" "सबसे डरावना केस सरगुन रागी का था। उन्होंने पति के खिलाफ़ रेस्ट्रेनिंग ऑर्डर लिया था ताकि वो उनके 500 मीटर के दायरे में भी नहीं आ सकते थे लेकिन ऑर्डर्स तोड़े गए उन्हें जिंदा जला दिया गया।"

 
विज्ञापन
आगे पढ़ें

मनप्रीत कौर को 27-28 बार चाकू मारा गया था

Recommended

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
अमर उजाला की खबरों को फेसबुक पर पाने के लिए लाइक करें

रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें Android Hindi News App, iOS Hindi News App और Amarujala Hindi News App अपने मोबाइल पे|
Get all crime news in Hindi. Stay updated with us for all breaking hindi news.

विज्ञापन

Spotlight

विज्ञापन

Most Read

Rest of World

भारतीय बैंकों का कर्ज चुकाने के लिए बेच दें माल्या की 6 कारें : लंदन हाईकोर्ट

कहा, 4 करोड़ से कम में नहीं होनी चाहिए बिक्री, एक कार का नंबर प्लेट जेम्स बॉन्ड के मशहूर नंबर 007 की कॉपी

19 अक्टूबर 2018

विज्ञापन

Related Videos

संजीव चतुर्वेदी एक ऐसा अधिकारी जिससे डरती है हर सरकार

आईएफएस अधिकारी संजीव चतुर्वेदी की एक आरटीआई ने मोदी सरकार की नींद हराम कर दी है। तेज-तर्रार अधिकारी संजीव ने मोदी सरकार के अब तक के कार्यकाल के दौरान विदेशों से वापस लाए गए काले धन की जानकरी मांगी है। इस रिपोर्ट में देखिए कौन हैं संजीव कुमार...

23 अक्टूबर 2018

आज का मुद्दा
View more polls

Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।

Agree