PNB Scam: विपुल अंबानी ने अपनी गिरफ्तारी को दी चुनौती, CBI पर लगाया ये आरोप

न्यूज डेस्क, अमर उजाला, मुंबई Updated Wed, 14 Mar 2018 09:45 AM IST
Vipul Ambani challenged against his arrest by CBI in PNB Scam
ख़बर सुनें
भगोड़े हीरा व्यापारी नीरव मोदी द्वारा नियंत्रित कंपनी के शीर्ष अधिकारी विपुल अंबानी ने बॉम्बे हाईकोर्ट में पीएनबी धोखाधड़ी के मामले में अपनी गिरफ्तारी को चुनौती दी है। अंबानी ने इस मामले में जमानत की मांग की है। अंबानी को सीबीआई ने पिछले महीने गिरफ्तार किया था। उसका आरोप है कि केंद्रीय जांच एजेंसी ने उसको गिरफ्तार करते समय तय प्रक्रियाओं का पालन नहीं किया है। 
विपुल अंबानी नीरव मोदी के नियंत्रण वाली फायरस्टार ग्रुप ऑफ कंपनी का प्रेसिडेंट (फाइनेंस) था। वह रिलायंस के संस्थापक स्व. धीरूभाई अंबानी का रिश्तेदार है। सीबीआई ने दावा किया था कि जब अंबानी को गिरफ्तार किया गया था तो उसे पीएनबी के पूर्व डिप्टी मैनेजर गोकुलनाथ शेट्टी द्वारा मोदी की कंपनी के पक्ष में जारी एलओयू के फर्जीवाड़े की जानकारी थी।

एफआईआर में आपराधिक विश्वासघात की जोड़ी गई धारा

सीबीआई ने मंगलवार को मुंबई की एक विशेष अदालत में कहा कि उसने पीएनबी धोखाधड़ी मामले में हीरा व्यापारी मेहुल चोकसी की कंपनी के खिलाफ आपराधिक विश्वासघात की धारा भी जोड़ दी है। आईपीसी की इस धारा 409 (लोक सेवक, बैंकर, व्यापारी या एजेंट द्वारा आपराधिक विश्वासघात) के तहत अधिकतम सजा उम्र कैद है। 

इसके अतिरिक्त एजेंसी ने चोकसी के स्वामित्व वाली कंपनी को धोखाधड़ी के जरिए लेटर ऑफ अंडरटेकिंग जारी करने के संबंध में तत्कालीन डिप्टी मैनेजर गोकुलनाथ शेट्टी को गिरफ्तार किया है। 

RELATED

रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें Android Hindi News apps, iOS Hindi News apps और Amarujala Hindi News apps अपने मोबाइल पे|
Get all India News in Hindi related to live update of politics, sports, entertainment, technology and education etc. Stay updated with us for all breaking news from India News and more news in Hindi.

Spotlight

Most Read

India News

इलाज के लिए लालू पहुंचे मुंबई, एशियन हार्ट हॉस्पिटल में होंगे भर्ती

स्वास्थ्य कारणों की वजह से झारखंड हाईकोर्ट ने लालू को 6 हफ्तों के लिए जमानत दी है।

23 मई 2018

Related Videos

जब बेवजह हुई मोदी सरकार की निंदा

इन चार सालों के दौरान मोदी सरकार की बार आलोचना बिना वजहों के हुई। दरअसल सोशल मीडिया पर वायरल हुई गलत सुचनाओं को लोगों ने सही मान लिया, जो बाद में गलत साबित हुई।

23 मई 2018

आज का मुद्दा
View more polls

अमर उजाला ऐप चुनें

सबसे तेज अनुभव के लिए

क्लिक करें Add to Home Screen