विज्ञापन
विज्ञापन

अपनी ही करनी से मात खा गईं राजस्थान की 'महारानी'

न्यूज डेस्क,अमर उजाला Updated Wed, 12 Dec 2018 04:40 AM IST
Vasundhra self goals responsible for losing rajasthan
ख़बर सुनें
राजस्थान में भाजपा की हार का जिम्मेदार कौन? इस नतीजे की उम्मीद इस राज्य में मध्य प्रदेश और छत्तीसगढ़ के उलट पहले से ही थी। सत्तारूढ़ पार्टी की हार के लिए एंटी इंकमबेंसी से ज्यादा सिर्फ और सिर्फ वसुंधरा राजे मानी जाएंगी। सत्ता के सेमी फाइनल कार्यक्रम के जरिए जनता का मन टटोलने के लिए अमर उजाला की टीम ने पूरे राजस्थान का दौरा किया। लोगों से चाय पर चर्चा या स्थानीय जनप्रतिनिधियों के साथ बहस में एक बात सबसे अटपटी लगी कि प्रदेश की रानी दिलों की रानी न बन सकीं। 
विज्ञापन
वसुंधरा भाजपा की हार की पहली और आखिरी कील साबित होंगी इस बात का एहसास राजधानी जयपुर में ही लग गया था। गौरव यात्रा के दौरान वो अपनी उपल्ब्धियां गिनाती रहीं लेकिन जनता फिर भी उदास नजर आई। अपनी ही पार्टी के वरिष्ठ नेताओं को नाराज कर परेशान करने में उन्होनें कोई कसरनही छोड़ी। घनश्याम तिवाड़ी ने अलग पार्टी का गठन कर लिया और कहा कि रानी का घमंड भाजपा को उखाड़ फेंकेगा।

आश्चर्यचकित करने वाली बात ये भी थी कि घनश्याम तिवाड़ी सरीखे कई वरिष्ठ और जनाधार वाले नेताओं ने जब राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह को इस बात से अवगत कराया तो उन्होने सभी की शिकायत को जायज ठहराते हुए वसुंधरा के खिलाफ कोई भी कदम उठाने ने साफ मना कर दिया।राजस्थान में कानाफुसी इस बात की थी पीएम मोदी और अमित शाह दोनों ही चाहते थे कि वसुंधरा हार जायें इसलिए टिकट बंटवारे में सिर्फ मैडम की चली।

रानी से आम लोगों में नाराजगी इस बात की थी कि वो सिर्फ जयपुर की रानी हैं, वही बैठती हैं और चापलूसों से घिरी रहती हैं। संगठन के कार्यकर्ताओं से मिलना तो दूर कई वरिष्ठ ऐसे भी मिले जिन्हे बेइज्जत करके अपने दरबार से सीएम ने बैरंग लौटा दिया। लोगों से मिलने की फुरसत उन्हे नहीं थी। जगह-जगह लाभार्थी सम्मेलन का आयोजन करना भी उल्टे नमक छिड़कने का काम कर गया ।भामाशाह जैसी योजनाओं से जिन लोगों को लाभ हुआ उन्हें चुनाव का हथियार बनाया गया जिसे लेकर लोगों में काफी रोष दिखा।

सरकार सभी काम करती है लेकिन ऐसा कर वो अपनी जनती पर ऐहसान नहीं करती,शायद ये बात राजघराने की मुख्यमंत्री न समझ पाई। चुनाव में जीत हासिल करना एक परीक्षा में उत्तीर्ण होने जैसा होता है और सत्ता में वापसी करने के लिए काम के अलावा लोगों के दिल में जगह बनाने का हुनर भी आना चाहिए।शायद सत्ता का मद ही ऐसा होता है कि वसुंधरा राजे सरीखे दिग्गज भी इतनी सरल और अच्छी बात भूल जाते हैं लेकिन जनता जनार्दन हर पांच साल बाद ये सबक सीखाने को तैयार रहती है।
विज्ञापन

Recommended

सब कुशल मंगल के ट्रेलर लॉन्च इवेंट में गूंजे दर्शकों के ठहाके
सब कुशल मंगल

सब कुशल मंगल के ट्रेलर लॉन्च इवेंट में गूंजे दर्शकों के ठहाके

ढाई साल बाद शनि बदलेंगे अपनी राशि , कुदृष्टि से बचने के लिए शनि शिंगणापुर मंदिर में कराएं तेल अभिषेक : 14-दिसंबर-2019
Astrology Services

ढाई साल बाद शनि बदलेंगे अपनी राशि , कुदृष्टि से बचने के लिए शनि शिंगणापुर मंदिर में कराएं तेल अभिषेक : 14-दिसंबर-2019

विज्ञापन
विज्ञापन
अमर उजाला की खबरों को फेसबुक पर पाने के लिए लाइक करें

रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें Android Hindi News apps, iOS Hindi News apps और Amarujala Hindi News apps अपने मोबाइल पे|
Get all India News in Hindi related to live update of politics, sports, entertainment, technology and education etc. Stay updated with us for all breaking news from India News and more news in Hindi.

Spotlight

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

Most Read

India News

मोदी सरकार की बजट टीम को अभी तक नहीं मिले दो अफसर

भले ही प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की अगुआई वाली दूसरी सरकार की दूसरे बजट की तैयारियां जोरों पर है, लेकिन वित्त मंत्रालय की बजट तैयार करने वाली टीम में दो प्रमुख अधिकारियों की कमी बनी हुई है। इसमें एक पूर्णकालिक व्यय सचिव शामिल हैं।

9 दिसंबर 2019

विज्ञापन

Delhi Fire: फायरमैन राजेश शुक्ला बोले, ‘सही सूचना मिलती तो और भी जानें बच जाती’

दिल्ली आग हादसे के हीरो राजेश शुक्ला ने कहा की अगर हमें सही सूचना मिलती तो और भी जानें बचा सकते थे।

8 दिसंबर 2019

आज का मुद्दा
View more polls
Niine

Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।

Agree
Election