लोकप्रिय और ट्रेंडिंग टॉपिक्स

विज्ञापन
Hindi News ›   India News ›   'Tiranga' hoisted at ASI monuments to flutter permanently, except at sites with unlit flagpoles

आजादी की 75वीं वर्षगांठ: 150 एएसआई स्मारकों में फहराया गया तिरंगा, स्थायी रूप से बने रहेंगे

न्यूज डेस्क, अमर उजाला, नई दिल्ली Published by: Amit Mandal Updated Tue, 16 Aug 2022 11:10 PM IST
सार

आजादी का अमृत महोत्सव के अवसर पर सोमवार को 76वें स्वतंत्रता दिवस पर पूरे भारत में 150 विरासत स्थलों पर राष्ट्रीय ध्वज फहराया गया।

150 एएसआई स्मारकों के परिसर में फहराया गया राष्ट्रीय ध्वज
150 एएसआई स्मारकों के परिसर में फहराया गया राष्ट्रीय ध्वज - फोटो : Social Media
ख़बर सुनें

विस्तार

भारत की आजादी की 75 वीं वर्षगांठ पर 150 एएसआई स्मारकों के परिसर में फहराया गया राष्ट्रीय ध्वज स्थायी रूप से यहां बना रहेगा, केवल उन जगहों को छोड़कर जहां ध्वज के खंभे में अंधेरे के बाद रोशनी नहीं की जाती है। अधिकारियों ने कहा कि ऐसे स्थलों पर जहां झंडे के खंभों को रोशन करने का कोई प्रावधान नहीं है, वहां शाम को तिरंगा उतारा जाएगा और सुबह फिर से फहराया जाएगा। बिहार में शेर शाह सूरी के मकबरे से लेकर राजस्थान के चित्तौड़गढ़ किले और लेह में तिसारू स्तूप से लेकर दक्षिण भारत में वेल्लोर किले तक, देश भर में 150 एएसआई साइटों पर राष्ट्रीय ध्वज फहराया गया था। निर्णय लिया गया है कि ये सभी झंडे स्थायी रूप से यहां लहराते रहेंगे।  



150 विरासत स्थलों पर राष्ट्रीय ध्वज फहराया गया
उन्होंने कहा कि ध्वज संहिता के प्रावधानों के अनुसार तिरंगा अंधेरे में नहीं फहराया जाता है। अधिकारी ने कहा कि इसलिए इन स्थलों पर शाम को झंडा उतारा जाएगा और सुबह फिर से फहराया जाएगा। आजादी का अमृत महोत्सव के अवसर पर सोमवार को 76वें स्वतंत्रता दिवस पर पूरे भारत में 150 विरासत स्थलों पर राष्ट्रीय ध्वज फहराया गया। इसके अलावा देश के सभी हिस्सों में 150 स्मारकों को तिरंगे की थीम में प्रकाशित किया गया था, जो एक चमकदार दृश्य प्रभाव पैदा करता है।  


एएसआई द्वारा संरक्षित भारत में कुल 3,693 विरासत स्थल हैं। इसके अलावा आजादी का अमृत महोत्सव के हिस्से के रूप में केंद्रीय संस्कृति मंत्रालय ने 5 से 15 अगस्त तक देश भर में सभी एएसआई-संरक्षित स्मारकों और साइटों के लिए घरेलू और विदेशी आगंतुकों के लिए मुफ्त प्रवेश की घोषणा की थी। अधिकारियों ने बताया कि जोधपुर सर्किल के तहत चित्तौड़गढ़ किला, कुंभलगढ़ किला, जैसलमेर किला और भटनेर किले में तिरंगा (15 मीटर के झंडे पर) फहराया गया। 

लखनऊ के ऐतिहासिक निवास स्थान से लेकर 1857 के सिपाही विद्रोह के दौरान प्रमुख घटनाओं के स्थान, पोरबंदर में महात्मा गांधी के जन्मस्थान तक, स्वतंत्रता दिवस पर राष्ट्रीय ध्वज गर्व से फहराया गया। आगरा सर्कल में फतेहपुर सीकरी और आगरा किले में 'तिरंगा' फहराया गया, जबकि दिल्ली में कोटला फिरोज शाह और पुराना किला के खंडहरों पर तिरंगा फहराया गया।

खबरों को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।

खबर में दी गई जानकारी और सूचना से आप संतुष्ट हैं?
विज्ञापन
विज्ञापन

रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें Android Hindi News apps, iOS Hindi News apps और Amarujala Hindi News apps अपने मोबाइल पे|
Get all India News in Hindi related to live update of politics, sports, entertainment, technology and education etc. Stay updated with us for all breaking news from India News and more news in Hindi.

विज्ञापन
विज्ञापन
एप में पढ़ें
जानिए अपना दैनिक राशिफल बेहतर अनुभव के साथ सिर्फ अमर उजाला एप पर
अभी नहीं

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
डेली पॉडकास्ट सुनने के लिए सब्सक्राइब करें

क्लिप सुनें

00:00
00:00