दुनिया भारत की दरियादिली को हल्के में न ले : सुप्रीम कोर्ट

राजीव सिन्हा/नई दिल्ली Updated Sat, 14 Jan 2017 02:45 AM IST
The world should not take lightly the generosity of India: Supreme Court
भारत में हुए गंभीर अपराधों में शामिल अपराधियों को दूसरे देशों की ओर से सौंपने से इनकार किए जाने पर चिंता जताते हुए सुप्रीम कोर्ट ने सख्त शब्दों में कहा है कि विश्व को भारत की दरियादिली और उदारता को हल्के में नहीं लेना चाहिए। पीठ ने कहा है कि विश्व को तमाम देशों को भारत के कानून का भी सम्मान करना चाहिए।
चीफ जस्टिस जेएस खेहर की अध्यक्षता वाली पीठ ने कहा है कि भारत में खुले दिल से विदेशी नागरिकों का सम्मान व आदर सत्कार किया जाता है लेकिन इसका यह कतई मतलब नहीं है कि दूसरे देश यहां के कानून का सम्मान न करें और बावजूद उसके वे वैसा ही सम्मान पाने की उम्मीद रखें।

पीठ ने कहा कि हमारी दरियादिली और उदाहरण को नजरअंदाज नहीं किया जा सकता। भारत दूसरे देशों से अपराधियों को सौंपने के लिए कहता है, वे इनकार कर देते हैं। ऐसे में हमें भी इतनी दरियादिली क्यों दिखानी चाहिए। खास कर तब जब वे हमारे देश के कानून का सम्मान नहीं करते हैं।

शीर्ष अदालत ने ये टिप्पणी सूडान के दो नागरिक अमीर अहमद खम्स और उसके भाई की याचिका पर सुनवाई के दौरान की। इन दोनों ने भारत में रिफ्यूजी का दर्जा देने की गुहार की थी। जिसके बाद भारत सरकार ने इन दोनों को बंगलूरू के कॉलेज में पढ़ने की इजाजत दे दी थी।
आगे पढ़ें

दोनों को यहां पढ़ने की इजाजत दी

रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें Android Hindi News App, iOS Hindi News App और Amarujala Hindi News APP अपने मोबाइल पे|
Get all India News in Hindi related to live update of politics, sports, entertainment, technology and education etc. Stay updated with us for all breaking news from India News and more news in Hindi.

Spotlight

Most Read

India News

मणिशंकर की आहट से कांग्रेस में हलचल, 'प्यादा औकात भूल जाए तो कुचला जाता है'

पाकिस्तान से लौटने के बाद अय्यर की पूरी कोशिश फिर से वापसी की है।

25 फरवरी 2018

Related Videos

डेढ घंटे बर्फ में दबे रहने के बाद जीवित निकला ये शख्स

केलांग में आए एवलॉन्च में तीन लोग दब गए। घटना रोहतांग टनल के नॉर्थ पोर्टल में हुई। यहां बीआरओ ऑफिसर इस एललॉन्च के चपेट में आ गए।

24 फरवरी 2018

आज का मुद्दा
View more polls

अमर उजाला ऐप चुनें

सबसे तेज अनुभव के लिए

क्लिक करें Add to Home Screen